"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 10 सितंबर 2010

"आज भादों की दूज है!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


       आज भादों की दोयज का दिन है। आज
बुड्ढा बाबू की पूजा-अर्चना विधि-विधान के साथ की जाती है। 

       भाद्रपद मास में दूज के दिन उत्तर-प्रदेश के जिला बिजनौर और मुरादाबाद में गाँवों और शहरों में एक मेले का आयोजन होता है।
        इसमें बुड्ढा बाबू की पूजा की जाती है। कढ़ी, साबुत उड़द, चावल, रोटी, पुआ, पकौड़ी और हलवा आदि सातों नेवज घर में बनते हैं। बुड्ढा बाबू को भोग लगा कर प्रसाद के रूप में घर के लोग भी इस भोजन को ग्रहण करते हैं।
       इसके बाद मेले में बुड्ढा बाबू के थले पर जाकर प्रसाद चढ़ाया जाता है। मान्यता है कि दाद, खाज, कोढ़ आदि के रोग भी यहाँ प्रसाद चढ़ाये जाने से ठीक हो जाते हैं।
       जिला-बिजनौर के हल्दौर कस्बे में तो दोयज का बहुत बड़ा मेला लगता है जो 10 दिनों तक चलता है।
        दोयज के दिन मेले में जाने पर सबसे पहले आपको बाल्मीकि समाज के लोग सूअर के बच्चों को बाँधे हुए बैठे मिल जायेगें। वे टीन के कटे हुए छोटे-छोटे को दाद-फूल के रूप में देते हैं। जैसे ही आप उनसे ये दाद फूल खरीदेंगे, वे आपको इस दाद फूल के साथ सूअर के बच्चे के कान के बाल चाकू से नोच कर इन दाद-फूल के साथ दे देंगे।
        यही प्रसाद आप बुड्ढा बाबू के थले पर जाकर चढ़ा देंगे। 
ये नजारा खासकर छोटे बालकों को बहुत सुन्दर लगता है।
       सूअर का कान नोचा जायेगा तो वो चिल्लायेगा और बच्चे इसका आनन्द लेंगे।

13 टिप्‍पणियां:

  1. अपने यहां सरधना में भी बुड्ढा बाबू का मेला लगता है। दस-पन्द्रह दिनों तक चलता है।
    इस मेले में हमेशा साम्प्रदायिक दंगे की आशंका बनी रहती है। कुछ साल पहले सरधना में कर्फ्यू लगा था, वो भी इसी की देन था।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नए मेले के बारे में बताया ....... बढिया लगा........
    पिछले सप्ताह हमारे गाँव में गुग्गा बाबा का मेला लगा था.......

    उत्तर देंहटाएं
  3. नए मेले के बारे मने जानकारी अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढिया जानकारी दी………………आभार्।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढिया अजानकारी मिली, आभार.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बड़ी अजीबोगरीब मान्यता और रस्मो रिवाज है, खैर, ज्ञान वर्धन के लिए शुक्रिया शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. रुहेलखंड के भिन्न जातियों के बहुत से परिवारों में विवाह के अवसर पर महिलाओं द्वारा किन्हीं बुड्ढा बाबू की पूजा का रिवाज़ है जिसमें न तो पुरुष भाग ले सकते हैं और न ही वे महिलायें जिनके परिवार में इस पूजा की परम्परा न हो। बरेली में रहने के कारण बुड्ढा बाबू के बारे में जानने की उत्सुकता हमेशा थी। पहले भी आपके ब्लॉग पर ही एक पोस्ट में यह परिचय मिला। अधिक जानकारी अपेक्षित है। हाँ वहाँ भी इनके कोप का सम्बन्ध त्वचा रोगों से जोडा जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बढ़िया बात बताई जी..........

    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  9. शास्त्री जी बहुत बहुत धन्यवाद इतनी बढ़िया जानकारी देने के लिए!

    उत्तर देंहटाएं
  10. भादों दूज के बारे में बढ़िया जानकारी दी है ... "बुड्ढा बाबू" को हमारे यहाँ "गुसाई बाबू" के नाम से संबोधित करते हैं ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. मेरे लिये नई जानकारी है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  12. गणेशचतुर्थी और ईद की मंगलमय कामनाये !
    नई जानकारी मिली, बहुत बहुत धन्यवाद



    इस पर अपनी राय दे :-
    (काबा - मुस्लिम तीर्थ या एक रहस्य ...)
    http://oshotheone.blogspot.com/2010/09/blog-post_11.html

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails