"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 28 सितंबर 2010

"पुराना राग" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

"एक बहुत पुरानी रचना"
कितनी ताकत छिपी शब्द की धार में।
जीत की गन्ध आने लगी हार में।।

वो तो बातों से नश्तर चुभोते रहे,
हम तो हँसते हुए, घाव ढोते रहे,
घात ही घात था उनके हर वार में।
जीत की गन्ध आने लगी हार में।।

मेरे धीरज को वो आजमाते रहे,
हम भी दिल पर सभी जख्म खाते रहे,
पीठ हमने दिखाई नही प्यार में।
जीत की गन्ध आने लगी हार में।।

दाँव-पेंचों को वो आजमा जब चुके,
हार थक कर के अब वार उनके रुके,
धार कुंठित हुई उनके हथियार मे।
जीत की गन्ध आने लगी हार में।।

संग-ए-दिल बन गया मोम जैसा मृदुल,
नेह आया उमड़ सिन्धु जैसा विपुल,
हार कर जीत पाई थी उपहार में।
जीत की गन्ध आने लगी हार में।। 

17 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर रचना
    और इसी के साथ साबित हो गया कि रचना पुरानी नहीं होती है

    उत्तर देंहटाएं
  2. aadrniy shastir saahb har kr bhi jitne ki jo priklpna he voh bhut khub he bdhayi ho. akhtar khan akela kota rajsthaan

    उत्तर देंहटाएं
  3. शास्त्री जी,
    पंक्तियाँ उद्धृत करना मुझे भाता नहीं है, परन्तु आज रहा नहीं गया, ये पंक्तियाँ सीधे दिल में उतर गई

    बहुत पावन रचना ........

    मेरे धीरज को वो आजमाते रहे,
    हम भी दिल पर सभी जख्म खाते रहे,
    पीठ हमने दिखाई नही प्यार में।
    जीत की गन्ध आने लगी हार में।।

    www.albelakhatri.com पर पंजीकरण चालू है,

    आपको अनुरोध सहित सादर आमन्त्रण है

    -अलबेला खत्री

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन में जब ठेस लगती है तो ऐसे ही भाव निकलते हैं ..बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरती के साथ शब्दों को पिरोया है इन पंक्तिया में आपने .......

    पढ़िए और मुस्कुराइए :-
    जब रोहन पंहुचा संता के घर ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. जीत की गंध आने लगी हार में ...नए भावों को उद्घाटित करता गीत...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच है, अब हार में भी जीत की गंध आने लगी है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. संग-ए-दिल बन गया मोम जैसा मृदुल,
    नेह आया उमड़ सिन्धु जैसा विपुल,
    हार कर जीत पाई थी उपहार में।
    जीत की गन्ध आने लगी हार में।।
    बहुत अच्छा प्रेरणा देता गीत। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीत की गन्ध आने लगी हार में।।
    और हार कर जीतने वाला ही बाजीगर कहलाता है……………बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द, भावमय प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर भावमय रचना शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर रचना ... लाजवाब लिखा है शास्त्री जी आपने .... नमस्कार ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. .

    जीत की गंध आने लगी हार में ..बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  14. कितनी ताकत छिपी शब्द की धार में।
    जीत की गन्ध आने लगी हार में।

    -बहुत उम्दा..पुरानी होकर भी एकदम ताजी सी.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails