"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 1 जनवरी 2012

"नये साल का अभिनन्दन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

 
गये साल को है प्रणाम! 
है नये साल का अभिनन्दन।।
लाया हूँ स्वागत करने को
थाली में कुछ अक्षत-चन्दन।। 
है नये साल का अभिनन्दन।।

गंगा की धारा निर्मल हो,
मन-सुमन हमेशा खिले रहें,
हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई के,
हृदय हमेशा मिले रहें,
पूजा-अजान के साथ-साथ,
होवे भारतमाँ का वन्दन।
है नये साल का अभिनन्दन।।

नभ से बरसें सुख के बादल,
धरती की चूनर धानी हो,
गुरुओं का हो सम्मान सदा,
जन मानस ज्ञानी-ध्यानी हो,
भारत की पावन भूमि से,
मिट जाए रुदन और क्रन्दन।
है नये साल का अभिनन्दन।।

नारी का अटल सुहाग रहे,
निश्छल-सच्चा अनुराग रहे,
जीवित जंगल और बाग रहें,
सुर सज्जित राग-विराग रहें,
सच्चे अर्थों में तब ही तो,
होगा नूतन का अभिनन्दन।
है नये साल का अभिनन्दन।।

19 टिप्‍पणियां:

  1. वाह नववर्ष का प्रारम्भ एक सुंदर रचना से...

    उत्तर देंहटाएं
  2. Nice post .

    शांति स्वर्ग से है। जो शांति को महसूस करता है, वह अपने अंदर स्वर्ग के आनंद को महसूस करता है। यही वह स्वर्ग का राज्य है जिसे धरती पर लाना है। ईश्वर की इच्छा यही है कि हम उसके नाम से शांति पाएं। नमाज़ के लिए वह हमें इसीलिए बुलाता है ताकि हम शांति पाएं।
    शांति क़ायम करना और उसे क़ायम रखना इंसान की बुनियादी ज़रूरत है और इसी को मालिक ने हमारा बुनियादी कर्तव्य और हमारा धर्म निर्धारित कर दिया है।
    शांति हमारी आत्मा का स्वभाव और हमारा धर्म है।
    शांति ईश्वर-अल्लाह के आज्ञापालन से आती है।


    नया साल आ गया है,
    नए मौक़े लेकर आया है,

    सबको नव वर्ष की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शास्त्री जी! प्रणाम.. नववर्ष हेतु असंख्य शुभकामनाएं!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. Well done .

    सभी पाठकों और संरक्षकों को नववर्ष की मंगलकामनायें!

    भाषा और प्रेज़ेन्टेशन सभी कुछ दिलकश !!

    http://shekhchillykabaap.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहूत सुंदर रचना है...
    नववर्ष कि शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  7. नये साल को हमारा भी प्रणाम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही अच्छी कामना है. कविता भी उतनी ही अच्छी है.
    जमाल साहब राम-राम करने से भी बहुत शांति मिलेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक सार्थक रचना प्रस्तुत करने के लिए शास्त्री का आभार
    @ भारतीय नागरिक जी ! आपने बिल्कुल सही बात कही है कि राम-राम करने से भी बहुत शांति मिलती है। नमाज़ में भी राम का ही नाम लिया जाता है।
    इसी के साथ आप यह भी जान लें कि रूमाल की जगह रूमाल और चादर की जगह चादर ही काम आती है।
    सुमिरन के लाभ अपनी जगह हैं लेकिन धरती से अन्याय और भ्रष्टाचार का ख़ात्मा केवल ईश्वर अल्लाह के आदेश निर्देश पर ही चलकर हो सकता है, केवल उसका नाम जपने से या कोई आंदोलन चलाने से नहीं हो सकता।
    विफल आंदोलनों की लंबी सूची यही बता रही है।
    यह धरती कभी आध्यात्मिकता से भरी पूरी हुआ करती थी लेकिन आज अध्यात्म और योग को भी व्यवसाय बना लिया गया है।
    राम नाम जो शांति देता है, उसे भी अशांति फैलाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
    ईश्वर-अल्लाह की यह आज्ञा तो कहीं भी नहीं है और किसी भी भाषा में नहीं है।

    आदरणीय रूपचंद शास्त्री ने भी अपनी प्रस्तुत रचना में सभी वर्गों के मध्य आपसी प्रेम पर ही बल दिया है। उनका चिंतन सकारात्मक है। एक सार्थक रचना प्रस्तुत करने के लिए शास्त्री का आभार !
    Ram in muslim poetry,चराग़ ए हिदायत और इमाम ए हिन्द हैं राम - Anwer Jamal

    उत्तर देंहटाएं
  10. नव वर्ष का सुंदर अभिनन्दन!!!!!बधाई ,.....
    नया साल सुखद एवं मंगलमय हो,....
    --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर रचना
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपको नव-वर्ष 2012 की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप को सपरिवार नव वर्ष 2012 की ढेरों शुभकामनाएं.

    इस रिश्ते को यूँ ही बनाए रखना,
    दिल मे यादो क चिराग जलाए रखना,
    बहुत प्यारा सफ़र रहा 2011 का,
    अपना साथ 2012 मे भी इस तहरे बनाए रखना,
    !! नया साल मुबारक !!

    आप को सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया, आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ, एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से नया साल मुबारक हो ॥


    सादर
    आपका सवाई सिंह राजपुरोहित
    एक ब्लॉग सबका

    आज का आगरा

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपको भी नववर्ष की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails