"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 5 जनवरी 2012

"रंग-बिरंगी चिड़िया रानी" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

 IMG_2480 - Copy
रंग-बिरंगी चिड़िया रानी। 
सबको लगती बहुत सुहानी।। 

दाना-दुनका चुग कर आती। 
फिर डाली पर है सुस्ताती। 

रोज भोर में यह उठ जाती। 
चीं-चीं का मृदु-राग सुनाती।। 

फुदक-फुदक कर कला दिखाती। 
झटपट नभ में यह उड़ जाती।। 

तिनका-तिनका जोड़-जोड़कर। 
नीड़ बनाती है यह सुन्दर।। 

उसमें अण्डों को देती है। 
तन-मन से उनको सेती है।। 

अब यह मन ही मन मुस्काती। 
चूजे पाकर खुश हो जाती।। 

चुग्गा इनको नित्य खिलाती। 
दुनियादारी को सिखलाती।। 

एक समय ऐसा भी आता। 
जब इसका मन है अकुलाता।। 

फुर्र-फुर्र बच्चे उड़ जाते। 
इसका घर सूना कर जाते।। 

करने लगते हैं मनमानी। 
चिड़िया की है यही कहानी।।
♥चित्रांकन-प्रांजल शास्त्री♥

25 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और कोमल भाव, नव वर्ष मंगलमय हो!

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रवार भी आइये, रविकर चर्चाकार |

    सुन्दर प्रस्तुति पाइए, बार-बार आभार ||

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर...प्रांजल की कलाकारी भी सुन्दर..

    ये व्यथा चिड़िया की ही नहीं, आजकल सभी की है...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावमय करते शब्‍दों का संगम ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रांजल जी,इसी तरह लिखते रहे,मरी बहुत२ शुभकामनाए......

    नई रचना --काव्यान्जलि--जिन्दगीं--में click करे

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut pyari rachna chidia ki penting bhi bahut sundar hai pranjal ko shabasi.

    उत्तर देंहटाएं
  7. चिड़िया सुन्दर चंचल प्राणी..बाल ह्रदय को छूती कविता
    kalamdaan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर सी मृदुल मृदुल कोमल प्रस्तुति.
    पढकर मन तरंगित हो गया है.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं तो बच्चों की तरह इसे गाने लगा।
    एक कवि की सफलता है यह।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आसानी से जुबान पर चढ़ने वाला सुंदर बाल-गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी हर पोस्ट जीवन का एक न्य सन्देश दे जाती है |

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही प्यारी कविता है प्रांजल की..

    उत्तर देंहटाएं
  13. चुग्गा इनको नित्य खिलाती।
    दुनियादारी को सिखलाती।।

    एक समय ऐसा भी आता।
    जब इसका मन है अकुलाता।।

    फुर्र-फुर्र बच्चे उड़ जाते।
    इसका घर सूना कर जाते।।

    करने लगते हैं मनमानी।
    चिड़िया की है यही कहानी।।
    सुन्दर गेय बाल गीत .

    उत्तर देंहटाएं
  14. दिल को छूती हुई प्यारी बल -रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्रांजल ने बहूत सुंदर चित्र बनाये है...
    बहूत हि प्यारी बाल कविता है...

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२५) में शामिल की गई है /आप मंच पर पधारिये और अपने सन्देश देकर हमारा उत्साह बढाइये /आपका स्नेह और आशीर्वाद इस मंच को हमेशा मिलता रहे यही कामना है /आभार /

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails