"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 24 जनवरी 2012

"अब बसन्त आयेगा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


खिल जायेंगे नव सुमन,
उपवन मुस्कायेगा!!

कुहासे की चादर,
धरा पर बिछी हुई।
नभ ने ढाँप ली है,
अमल-धवल रुई।।

दिवस हैं छोटे,
रोशनी मऩ्द है।
शीत की मार है,
विद्यालय बन्द है।।

जल रहे हैं अलाव,
आँगन चौराहों पर।
चहल-पहल कम है,
पगदण्डी-राहों पर।।

सूरज अदृश्य है,
पड़ रहा पाला है।।
पर्वत ने ओढ़ लिया,
बर्फ का दुशाला है।।

मन में एक आशा है,
अब बसन्त आयेगा!
खिल जायेंगे नव सुमन,
उपवन मुस्कायेगा!!

24 टिप्‍पणियां:

  1. ये प्रभु की लीला है ,की हर कुहासे के उपरान्त सुनहरी आभा के साथ वसंत ज़रूर आता है..
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    kalamdaan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. सर्दी में सर्दीले हुए जज्बात...
    क्या बात क्या बात क्या बात.....:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. सर्दी में सर्दीले हुए जज्बात...
    क्या बात क्या बात क्या बात.....:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. सूरज अदृश्य है,
    पड़ रहा पाला है।।
    पर्वत ने ओढ़ लिया,
    बर्फ का दुशाला है।।


    मन में एक आशा है,
    अब बसन्त आयेगा!
    खिल जायेंगे नव सुमन,
    उपवन मुस्कायेगा!!
    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. jaldi aaye ye vasant sardi jaldi jaaye.bahut sundar geet likha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आने वाली है बसंत पंचमी...आपने अभी से माहौल बना दिया...

    उत्तर देंहटाएं
  7. नई आशायें, नया सवेरा. कुहरा कभी तो छंटेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  8. नई आशायें, नया सवेरा. कुहरा कभी तो छंटेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन में एक आशा है,
    अब बसन्त आयेगा!
    खिल जायेंगे नव सुमन,
    उपवन मुस्कायेगा!!
    सही कहा...अब बसंत का ही इतजार है,शास्त्री जी . सुदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर प्रस्तुति,भावपूर्ण अच्छी रचना,..
    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर प्रस्तुति,भावपूर्ण अच्छी रचना,..
    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. swagat is baasanti geet ka ...

    dhnya kar diya

    aapki jai ho daddu !

    उत्तर देंहटाएं
  13. मन में एक आशा है,
    अब बसन्त आयेगा!
    खिल जायेंगे नव सुमन,
    उपवन मुस्कायेगा!!

    शीत का मौसम इस गीत से और भी सुहाना हो गया,वाह !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. मन में एक आशा है,
    अब बसन्त आयेगा!
    खिल जायेंगे नव सुमन,
    उपवन मुस्कायेगा!!



    आने वाले बसंत की शुभकानाएं

    उत्तर देंहटाएं
  15. मन में एक आशा है,
    अब बसन्त आयेगा!
    खिल जायेंगे नव सुमन,
    उपवन मुस्कायेगा!!बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  16. मन में एक आशा है, अब बसन्त आयेगा! खिल जायेंगे नव सुमन, उपवन मुस्कायेगा!!

    bahut khoob...

    उत्तर देंहटाएं
  17. आस की उजास की सकारात्मक भाव की रचना .
    फिर बसंत आयेगा .नए परिधान लाएगा .

    उत्तर देंहटाएं
  18. शीत मौसम का बहुत सुन्दर वर्णन किया है...
    बेहतरीन प्रस्तुती...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails