"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 16 जनवरी 2012

"पिंजड़े का जीवन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

पिंजड़े का जीवन
तोते का मन

फाके मस्ती में भी
रहता था परिवार के संग
हमेशा ही लड़ता था
मेहनत की जंग
उड़ता था
ऊँची-ऊँची उड़ान
कभी नही होती थी
थकान

जाता था
रेगिस्तानी रेत में
आता था
धान के खेत में
चखता था
खट्टे-मीठे आम
यही था उसका
रोजमर्रा का काम

एक दिन वह
बहेलिए को भा गया
लालचवश्
उसके जाल मे आ गया
तोते को बेच दिया
एक साहुकार को
अब वो तरस गया
परिवार के प्यार को
चाँदी का घर था
सोने का आसन था
बढ़िया भोजन था
दुर्लभ व्यञ्जन  थे
रुचिकर पकवान थे
बेमन से खाता था
मन में पछताता था
सब कुछ तो था
लेकिन
आजादी न थी
सभी उसको
करते थे प्यार
हमेशा करते थे
उसकी मनुहार

अगर कुछ नही था
तो वह था
अपनों का निश्छल प्यार
सुख का जीवन भी
बन गया था भार

धीरे-धीरे वह हो गया
दुर्बल और
कृश्-काय
बन गया
परजीवी और
असहाय
दे रहा था
सन्देश
सुना रहा था
अपना उपदेश

कभी भी नही होना
परतन्त्र!
यही है
जीवन का मन्त्र!

24 टिप्‍पणियां:

  1. कभी भी नही होना
    परतन्त्र!
    यही है
    जीवन का मन्त्र!
    सटीक और सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. पिजरें के पंछी रे तेरा दरद न जाहे कोय
    बहुत सुंदर सार्थक सटीक चित्रण,बेहतरीन पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  3. कभी भी नही होना
    परतन्त्र!
    यही है
    जीवन का मन्त्र!
    वाह ..बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. partantra hokar jeena bhi kya jeena.bhaav vibhor kar diya aapki kavita ne.bahut badhia.

    उत्तर देंहटाएं
  5. पिंजड़े का जीवन ..
    सचमुच ..
    पंख होते हुए भी उड़ न पाना ...
    कितना कष्टदायी होता होगा..
    ये नीरस जीवन..
    kalamdaan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. तुलसीदास जी ने कहा है-"पराधीन सपनेहूँ सुख नहीं" बहुत मार्मिक चित्रण |

    आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  7. कभी भी नही होना
    परतन्त्र!
    यही है
    जीवन का मन्त्र!
    बेहतरीन अभिव्यक्ति

    vikram7: महाशून्य से व्याह रचायें......

    उत्तर देंहटाएं
  8. न हो अपनों का निश्छल प्यार
    सारी सुख-सुविधा है बेकार..

    बड़ी सहजता से जीवन का मंत्र मिला, आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. पराधीनता तो पराधीनता ही है| बहुत मार्मिक कविता|

    उत्तर देंहटाएं
  10. अच्छा लगा,
    कविता कहने के अंदाज़ में जो
    आपने परिवर्तन किया है।
    सिर्फ़ कविता ही नहीं
    जीवन का एक मंत्र भी दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मनोज कुमार द्वारा blogger.bounces.google.com
    8:27 अपराह्न (14 मिनट पहले)

    मुझे
    मनोज कुमार ने आपकी पोस्ट " "पिंजड़े का जीवन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")... " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    अच्छा लगा,
    कविता कहने के अंदाज़ में जो
    आपने परिवर्तन किया है।
    सिर्फ़ कविता ही नहीं
    जीवन का एक मंत्र भी दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. उड़ान को रोका जाना निसंदेह बेहद दर्दनाक होता है मर्म को हिला दे ऐसी पोस्ट है \

    उत्तर देंहटाएं
  13. कभी भी नही होना
    परतन्त्र!
    यही है
    जीवन का मन्त्र!
    सुन्दर सीख देती सार्थक रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  14. पराधीन सुख सपनेहुँ नाहीं! बेहद मार्मिक चित्रण.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सार्थक रचना।
    जीवन का अमूल्‍य मंत्र दिया आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    उत्तर देंहटाएं
  17. मयंक जी सुन्दर रचना ...
    पिंजरा चाहे सोने का क्यों न हो लेकिन कैद में रहना किसी को अच्छा नहीं लगता ... हम जैसे मानव अपने स्वार्थ के लिए दूसरे प्राणियों को कैद कर रहे है जो कि अच्छा नहीं ... यदि हमें कैद कर के रखा जाय तो हम कैसे अनुभव करेंगे एस हमें सोचना चाहिए ...
    बहुत अच्छा सन्देश आपकी एस कविता के माध्यम से ..

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails