"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 25 जनवरी 2012

"आओ तिरंगा फहरायें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



गणतन्त्रदिवस की शुभवेला में,
आओ तिरंगा फहरायें।
देशभक्ति के गीत प्रेम से,
आओ मिल-जुलकर गायें।।

गांधी बाबा ने सिखलाई,
हमें पहननी खादी है,
बलिदानों के बदले में,
पाई हमने आजादी है,
मोह छोड़कर परदेशों का,
उन्नत अपना देश बनायें।
देशभक्ति के गीत प्रेम से,
आओ मिल-जुलकर गायें।।

नया साल-छब्बीस जनवरी,
खुशियाँ लेकर आता है,
बासन्ती परिधान पहन कर,
टेसू फूल खिलाता है,
सरसों के बिरुए खेतों में,
झूम-झूमकर लहरायें।
देशभक्ति के गीत प्रेम से,
आओ मिल-जुलकर गायें।।

पेड़ों की शाखाएँ सारी,
नयी-नयी कोपल पायेंगी,
अपने आँगन के अम्बुआ की,
डाली-डाली बौरायेंगी,
मुस्कानों से सुमन सलोने,
धरा-गगन को महकायें।
देशभक्ति के गीत प्रेम से,
आओ मिल-जुलकर गायें।।

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बढ़िया सर!

    गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut sundar desh bhakti geet.gantantra divas ki shubhkamnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  3. गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर देश प्रेम की अच्छी रचना,..

    --26 जनवरी आया है....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. देशभक्ति के गीत प्रेम से,
    आओ मिल-जुलकर गायें।।
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. जैअक्षर जय शब्द विधान,
    जय जन जाग्रति जय उत्थान .
    तभी बने गणतंत्र महान .

    उत्तर देंहटाएं
  7. bhool jaayei ham
    hindu hein yaa musalman
    आओ मिल-जुलकर गायें।।
    hind hamaaraa vatan
    ham sab hindustaan ke

    उत्तर देंहटाएं
  8. देश का मान और शान तिरंगा..... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  9. मोह छोड़कर परदेशों का,
    उन्नत अपना देश बनायें।
    देशभक्ति के गीत प्रेम से,
    आओ मिल-जुलकर गायें।।

    अच्छी प्रस्तुति
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

    vikram7: कैसा,यह गणतंत्र हमारा.........

    उत्तर देंहटाएं
  10. बढिया रचना।

    गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं....

    जय हिंद...वंदे मातरम्।

    उत्तर देंहटाएं
  11. देशभक्ति के गीत प्रेम से,
    आओ मिल-जुलकर गायें।।
    सार्थक आह्वान!
    गणतंत्र दिवस की बहुत शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बढ़िया गीत!

    गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    आज 26 जनवरी है।
    लोग ख़ुश हैं। ख़ुश होने की वजह भी है लेकिन जो लोग आज के दिन भी ख़ुश नहीं हैं उनके पास भी ग़मगीन होने की कुछ वजहें हैं। हमारा ख़ुश होना तब तक कोई मायने नहीं रखता जब तक कि हमारे दरम्यान ग़म के ऐसे मारे हुए मौजूद हैं जिनका ग़म हमारी मदद से दूर हो सकता है और हमारी मदद न मिलने की वजह से वह उनकी ज़िंदगी में बना हुआ है।
    हमारे अंदर अनुशासन की भावना बढ़े, हम ख़ुद को अनुशासन में रखें और किसी भी परिस्थिति में शासन के लिए टकराव के हालात पैदा न करें।
    जो लोग आए दिन धरने प्रदर्शन करते हुए शासन और प्रशासन से टकराते रहते हैं, उन्हें 26 जनवरी पर यह प्रण कर लेना चाहिए कि अब वे देश के क़ानून का सम्मान करेंगे और किसी अधिकारी से नहीं टकराएंगे बल्कि उनका सहयोग करेंगे।
    टकराकर देश को बर्बाद न करें।
    लोग अंग्रेज़ो से टकराए तो वे देश से चले गए और आज बहुत से लोग यह कहते हुए मिल जाएंगे कि देश में आज जो असुरक्षा के हालात हैं, ऐसे हालात अंग्रेज़ों के दौर में न थे।
    कहीं ऐसा न हो कि फिर टकाराया जाए तो देश और गड्ढे में उतर जाए।
    सो प्लीज़ हरेक आदमी यह भी प्रण करे कि अब हम क्रांति टाइप कोई काम नहीं करेंगे।
    जो राज कर रहा है, उसे राज करने दो।
    एक जाएगा तो दूसरा आ जाएगा।
    अपना भला हमें ख़ुद ही सोचना है।

    सादर ,

    Read entire message :
    प्लीज़ क्रांति न करे कोई No Revolution
    http://www.ahsaskiparten.blogspot.com/2012/01/no-revolution.html

    उत्तर देंहटाएं
  13. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर गीत ..गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  15. गणतंत्र दिवस के साथ बसंत ऋतु का स्वागत करती शानदार कविता...गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  16. देश प्रेम और प्रकृति प्रेम से ओतप्रोत सुंदर काव्य रचना.गणतंत्र दिवस की बधाइयाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  17. खूबसूरत देशभक्ति गीत...

    उत्तर देंहटाएं
  18. खूबसूरत देशभक्ति गीत...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails