"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 20 जनवरी 2012

"घूम रहे शैतान" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


सज्जनता का ओढ़ लबादा,
घूम रहे शैतान!
संकट में है हिन्दुस्तान!
संकट में है हिन्दुस्तान!!

द्वारे-द्वारे देते दस्तक,
टेक रहे हैं अपना मस्तक,
याचक बनकर माँग रहे हैं,
ये वोटों का दान!
संकट में है हिन्दुस्तान!
संकट में है हिन्दुस्तान!!

कोई अपना हाथ दिखाता,
कोई हाथी के गुण गाता,
कोई खुशी के कमल खिलाता,
कोई घड़ी का समय बताता,
गैससिलिण्डर, साइकिल. चूल्हा,
सबके अलग निशान!
संकट में है हिन्दुस्तान!
संकट में है हिन्दुस्तान!!

जीवन भर गद्दारी करते,
भोली जनता का मन हरते,
मक्कारी से कभी न डरते,
फर्जी गणनाओं को भरते,
खर्च करोड़ों का करते हैं,
ये हैं बे-ईमान।
संकट में है हिन्दुस्तान!
संकट में है हिन्दुस्तान!!

सोच-समझकर बटन दबाना,
इनके झाँसे में मत आना,
घोटाले करने वालों को,
कभी न कुर्सी पर बैठाना,
मत देने से पहले,
लेना सही-ग़लत पहचान!
संकट में है हिन्दुस्तान!
संकट में है हिन्दुस्तान!!

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सही और सटीक .आज की व्यवस्था पर करारी चोट...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मत देने से पहले,
    लेना सही-ग़लत पहचान!

    ..सारे ही गलत हैं...अब क्या किया जाये???
    जो सही है वो भी कुर्सी पाते गिरगिट बन जाते हैं.

    सार्थक रचना सर.
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोई कुछ भी कहे पर सच्चाई यही है।
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन भर गद्दारी करते,
    भोली जनता का मन हरते,
    मक्कारी से कभी न डरते,
    फर्जी गणनाओं को भरते,
    खर्च करोड़ों का करते हैं,
    ये हैं बे-ईमान।
    संकट में है हिन्दुस्तान!
    संकट में है हिन्दुस्तान!!
    Aam aadmi ise samajh paata , kaash !

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच कहती रचना सार्थक प्रस्तुति ...समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका सवागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस संकट से देश को कोई समाधान मिले

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही समय पर सही बात की है आपने। धन्यवाद आपकी काव्यमयी सलाह के लिये।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. Nice .

    महापुरुष चाहते यह थे कि लोग उनके दिखाए मार्ग पर चलें.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अब क्या बताएं...नागनाथ और सांपनाथ में किसे चुने...विकट समस्या है...

    उत्तर देंहटाएं
  11. शास्त्री जी आप्किकवितायें तो मुझे बहुत ही अच्छी लगती हैं..
    kalamdaan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छी प्रस्तुति,बहुत सुंदर रचना,....
    new post...वाह रे मंहगाई...

    उत्तर देंहटाएं
  13. चुनाव से पहले सही सलाह .. पर कुर्सी पाते ही सब एक से हो जाते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  14. शानदार पोस्ट है आज की, चुनाव से पूर्व सरल भाषा में सही सलाह है |

    उत्तर देंहटाएं
  15. मौजूदा दौर पर सटीक उतरती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  16. जब सारे ही बेईमान है तो बेचारी जनता किसे वोट देगी?

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (२८) में शामिल की गई है /आप इस मंच पर पधारिये/और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आपका आशीर्वाद हमेशा इस ब्लोगर्स मीट को मिलता रहे यही कामना है /आभार /लिंक है /
    http://www.hbfint.blogspot.com/2012/01/27-frequently-asked-questions.html

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails