"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 27 जनवरी 2012

"अब चमन, अपना ठिकाना हो गया है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


दिल हमारा अब दिवाना हो गया है।
फिर शुरू मिलना-मिलाना हो गया है।।

हाथ लेकर चल  पड़े हम साथ में,
प्रीत का मौसम, सुहाना हो गया है।

इक नशा सा, जिन्दगी में छा गया,
दर्द-औ-गम, अपना पुराना हो गया है।

सब अधूरे् स्वप्न पूरे हो गये,
मीत सब अपना, जमाना हो गया है।

दिल के गुलशन में बहारें छा गयीं,
अब चमन, अपना ठिकाना हो गया है।

तार मन-वीणा के, झंकृत हो गये,
सुर में सम्भव गीत गाना हो गया है।

मन-सुमन का रूप अब खिलने लगा,
बन्द अब, आँसू बहाना हो गया है।

26 टिप्‍पणियां:

  1. आपका गीत प्यारा सा, हमें गुनगुनाना हो गया है

    जवाब देंहटाएं
  2. //इक नशा सा, जिन्दगी में छा गया,
    दर्द-औ-गम, अपना पुराना हो गया है।

    behtareen ghazal sir.. behtareen.. :)

    जवाब देंहटाएं
  3. हाथ लेकर चल पड़े हम साथ में,
    प्रीत का मौसम, सुहाना हो गया है।


    इक नशा सा, जिन्दगी में छा गया,
    दर्द-औ-गम, अपना पुराना हो गया है।
    वाह-वाह... रूमानी हो गए और कर भी दिया !

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर गजल शास्त्री जी । पढ़कर चित्त प्रसन्न हो गया ।
    आ गये जो आपके इस ब्लॉग में, हृदय का "दीपक" जलाना हो गया ।

    आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर फूलो को देख..मन हमारा भी प्रसन्न होगया..

    जवाब देंहटाएं
  6. दिल हमारा अब दिवाना हो गया है।
    फिर शुरू मिलना-मिलाना हो गया है।।

    हाथ लेकर चल पड़े हम साथ में,
    प्रीत का मौसम, सुहाना हो गया है।

    वसन्त का रंग चढना शुरु हो गया है………बहुत खूबसूरत प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत खूब! वसन्त का प्रभाव झलकने लगा है..बहुत सुन्दर प्रस्तुति...आभार

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ही अच्छा लगा कविता का ये मूड...

    जवाब देंहटाएं
  9. सुंदर चित्र से सजा यह पोस्ट सुहाना हो गया है|

    जवाब देंहटाएं
  10. बसंत पंचमी और माँ सरस्वती पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ । मेरे ब्लॉग "मेरी कविता" पर माँ शारदे को समर्पित 100वीं पोस्ट जरुर देखें ।

    "हे ज्ञान की देवी शारदे"

    जवाब देंहटाएं
  11. सुंदर रचना ...कृपया नयी-पुरानी हलचल पर पधारें ...आज आपकी कविता का लिंक वहां पर है ...

    जवाब देंहटाएं
  12. वाह ...बहुत ही बढि़या भाव संयोजन ।

    जवाब देंहटाएं
  13. खुशिया झलकती है आपकी इस रचना से..
    बेहतरीन प्रस्तुति...

    जवाब देंहटाएं
  14. आपका गीत बहुत अच्छा लगा

    जवाब देंहटाएं
  15. बसंत ऋतू आई ..बहार आई .. खूबसूरत गज़ल ..
    बसंत पंचमी की शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  16. मन-सुमन का “रूप” अब खिलने लगा,
    बन्द अब, आँसू बहाना हो गया है।
    मुबारक यह मदनोत्सव बसंत.

    जवाब देंहटाएं
  17. हाथ लेकर चल पड़े हम साथ में,--
    एसा लगता है कि कोई कटा हुआ हाथ लेकर हम साथ चलपडे..

    - चल पडे हम हाथ लेकर हाथ में.. ..सही रहेगा

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails