"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 10 अप्रैल 2012

"झूठ आजाद है, सत्य परतन्त्र है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

बावफा के लिए तो नियम हैं बहुत,बेवफाई का कोई नही तन्त्र है।
सर्प के दंश की तो दवा हैं बहुत ,आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।

गन्ध देना ही है पुष्प का व्याकरण,
दुग्ध देना ही है गाय का आचरण,
तोल और माप के तो हैं मीटर बहुत,प्यार को नापने का नही यन्त्र है।
आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।

ईद, होली, दिवाली के त्योहार में,
दम्भ की है मिलावट भरी प्यार में,
आ बसी हैं विदेशों की पागल पवन,छल-कपट से भरा आज जनतन्त्र है।
आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।

नींव कमजोर पर हैं इमारत खड़ी,
शून्य से हो रहीं हैं इबारत बड़ी,
राम के राज में चोर-डाकू बहुत,झूठ आजाद है, सत्य परतन्त्र है।
आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।

13 टिप्‍पणियां:

  1. नींव कमजोर पर हैं इमारत खड़ी,
    शून्य से हो रहीं हैं इबारत बड़ी,
    राम के राज में चोर-डाकू बहुत,झूठ आजाद है, सत्य परतन्त्र है।
    आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।
    वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदमी के डसे का नही मन्त्र है।
    ...वाह, वाह!वाह, वाह!..क्या खूब कही आपने!...हम भी यही कहना चाहते है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सर्प के दंश की तो दवा हैं बहुत ,आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।
    क्या बात है शास्त्री जी. बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. wah shashtri sahab, kaash ki aapki is pratibha ka paasang bhi mil sake. sundar, bahut sundar...

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्कृष्ट कृति |
    बुधवारीय चर्चा-
    मस्त प्रस्तुति ||

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. Shayad har manav ke antarman ki yahi avaj hae .bdhai sarthak satya lekhan hetu.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह बेहद खूबसूरत रचना ....

    ईद, होली, दिवाली के त्योहार में,
    दम्भ की है मिलावट भरी प्यार में,
    आ बसी हैं विदेशों की पागल पवन,छल-कपट से भरा आज जनतन्त्र है।
    आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।.......खास कर ये लाजबाब

    उत्तर देंहटाएं
  8. नींव कमजोर पर हैं इमारत खड़ी,
    शून्य से हो रहीं हैं इबारत बड़ी,
    राम के राज में चोर-डाकू बहुत,झूठ आजाद है, सत्य परतन्त्र है।
    आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।

    बहुत सुन्दर रचना,बेहतरीन भाव पुर्ण प्रस्तुति,.....

    RECENT POST...फुहार....: रूप तुम्हारा...

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच कहा आपने, आदमी के डसे का कोई ईलाज नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. @ सर्प के दंश की तो दवा हैं बहुत ,आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।

    सच्चाई बयान की है
    शुभकामनायें आपको भाई जी !

    उत्तर देंहटाएं
  11. आ बसी हैं विदेशों की पागल पवन,छल-कपट से भरा आज जनतन्त्र है।
    आदमी के डसे का नही मन्त्र है।।
    सार्थक प्रस्तुति ...
    शुभकामनायें ....

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदमी डसे का नहीं मंत्र है
    वाह !!!! यथार्थ का सटीक चित्रण.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सांप को मंत्र सिखाना पड़ेगा
    आदमी डसेगा तो बुलाना पड़ेगा।

    वाह क्या मंत्र है ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails