"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 14 अप्रैल 2012

"घर आयी है राजदुलारी" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

बैशाखी के पावन पर्व पर
मेरे शिष्य सुरेन्द्र 'मुल्हिद' के घर
प्यारी बिटिया  'सिफत' जन्मी है।
इस अवसर पर 'मुल्हिद' जी
और उनकी धर्मपत्नी को
ढेरों शुभकामनाएँ!
'सिफत' को शुभाशीष के साथ-साथ
यह रचना भी उपहार में दे रहा हूँ!

कितनी कोमल-कितनी प्यारी।
घर आयी है राजदुलारी।।
दीवारें कितनी उदास थीं
सूना-सूना घर-आँगन था,
प्यारी बिटिया बिना तुम्हारे,
खाली-खाली सा जीवन था,
चहक उठा है उपवन सारा-
महक उठी है बगिया सारी।
घर आयी है राजदुलारी।।
पहली बार पिता बनने का,
तुमसे ही सौभाग्य मिला है,
जीवन के इस वीराने में,
चम्पा जैसा सुमन खिला है,
गूँज उठी शहनाई जैसी, 
नन्ही कलिका की किलकारी।
घर आयी है राजदुलारी।।

देता शुभआशीष तुम्हें मैं,
सदा स्वस्थ-प्रसन्न रहो तुम,
'मुल्हिद' समतल-भूतल में,
बनकर जल की धार बहो तुम,
तुम बहार बनकर आयी हो,
'सिफत' तुम्हीं तो हो फुलवारी।
घर आयी है राजदुलारी।।

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत प्यारी रचना...
    सुरेन्द्र जी को बधाई और शुभकामनाएँ!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. नन्हीं गुडिया कि तरह आह्लादित करती हुई ....
    बहुत सुंदर रचना ....
    शुभकामनायें ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. नन्ही गुडिया को शुभकामनाएं ...बैसाखी को मेरे पति का भी जन्मदिन होता है.. :))

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut pyaari si saloni beti humari bhi dheron badhaai aapke mitra ko .aapki kavita bhi bahut hi pyaari hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बच्ची तो बहुत सुन्दर है. बहुत बहुत बधाई मुल्हिद जी को.

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभाशीष देती बहुत प्यारी रचना,

    सुरेन्द्र जी को बधाई,..

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी रचना मनभावन है ..
    बधाई
    kalamdaan

    उत्तर देंहटाएं
  8. नन्ही गुडिया को शुभकामनाएं...बहुत सुन्दर रचना!...बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  9. हमारी ओर से भी सिफत को ढेर सा प्यार और आशीर्वाद...

    उत्तर देंहटाएं
  10. 'सिफत' को ढेर सारा प्यार और आशीर्वाद सुरेन्द्र जी को हार्दिक बधाइयाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बढ़िया प्रस्तुति ।
    आभार ।।

    सिफत को ढेर सा प्यार और आशीर्वाद ||

    उत्तर देंहटाएं
  12. महालक्ष्मी सिफत के प्रति कोमल भावों से संसिक्त दुलारती सी रचना .फलक और आफरीन के उत्पीडन से पैदा सामाजिक विषाद को कम करती हुई .

    उत्तर देंहटाएं
  13. सिफत आई
    खुशियां बिखराई
    मयंक जी ने बनाई
    एक सुंदर रचना
    खिलाऔ मिठाई
    सबको बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. 'सिफत' तुम्हीं तो हो फुलवारी।
    घर आयी है राजदुलारी।।
    सुंदर रचना .......इस राजदुलारी को मेरी भी बहुत बहुत शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  15. ढेरों शुभकामनायें राजदुलारी के आने की..

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुन्दर उपहार!
    सिफत को ढेर सा प्यार और आशीर्वाद.

    उत्तर देंहटाएं
  17. आदरणीय गुरु जी
    सबसे पहले तो मैंने आपको शुक्रिया करना चाहूंगा कि आपने मेरे दिल कि बात बिना कहे ही समझ ली और मेरी सिफत के लिए एक दिल को छू लेने वाला बाल गीत लिखा, बहुत बहुत आभार! मेरे बाकी दोस्तों का भी बहुत बहुत शुक्रिया जिन्होंने मेरी बेटी को उपहार स्वरुप आशीर्वाद दिया है!
    गुरु जी, आपकी आज्ञा तो ले ही चुका हूँ तो ये रचना मैं अपने ब्लॉग पर जल्द ही लगाऊँगा!
    चरण स्पर्श!

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुरेंद्र जी को हमारा भी बधाई संदेश पहुँचे.......

    गुरु की जिस पर हो कृपा, खुलते उसके भाग
    पाय सफलता-मान-धन , अरु पाये अनुराग
    अरु पाये अनुराग , सफल जीवन हो जाये
    लक्ष्मी चल कर द्वार, सुखों के सँग में आये
    हुई साधना सफल , सुमिर गुरुनाम शुरू की
    खुलते उसके भाग, जिस पर हो कृपा गुरु की.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत प्यारी रचना... सुरेन्द्र जी को हार्दिक बधाईया/शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails