"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 19 अप्रैल 2012

"हमारी नैनो" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आखिरकार हमने भी नैनो ले ही ली!
घर में एक बाइक, एक स्कूटर
और एक ज़ेन-स्टिलो कार पहले से ही थी।
बड़े बेटे की पोस्टिंग देहरादून में हो गयी
और वह मोटरसाइकिल वहाँ ले गया।
अब घर में दोपहिया वाहन में
केवल एक स्कूटर ही बचा।
छोटा बेटा स्कूटर लेने के लिए कह रहा था।
इसपर मैंने कहा कि अब तुमने
अपनी पसन्द की शादी भी कर ली है तो
तुमको "नैनो" लेकर दे देते हैं।
छोटी पुत्रवधु पल्लवी और 
मेरी धर्मपत्नि अमरभारती
नैनो का स्वागत करती हुईं।
 छोटे पुत्र विनीत को तिलक लगाकर
मिठाई खिलाते हुए 
पल्लवी और अमरभारती।
श्रीमती जी ने हमें भी तिलक लगाया।
अब हमने भी नैनों का जायजा लिया।
 नैनों के साथ हम दोनों ने फोटो भी खिंचवाये। 
 पल्लवी, विनीत और श्रीमती जी
नैनो पाकर कितने खुश हैं।


26 टिप्‍पणियां:

  1. बधाई शास्त्री जी ।
    नैनो जब आई थी तो हमारे भी नयनों में बस गई थी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नैनो लेने हेतु हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. aapki neno bahut pasand vaise bhi gadi ka laal rang mujhe bahut achcha lagta hai .aap sabhi ko badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई...सभी तस्वीर बहुत अच्छे लगे.

    उत्तर देंहटाएं
  5. नैनो आ गई सदन में
    करें स्वीकार बधाई जी।
    अवसर है यह हर्ष का
    कब होगी मिठाई जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत२ बधाई शास्त्री जी,कार का रंग अच्छा लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत बधाई आपको और आपके परिवार को ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. नैनो की फोटो लगाई आपने यहां
    कुछ लड्डुओं की भी लगा देते
    खिलाते कैसे इतनी दूर से दिखा देते
    नैनो देख ली हमने अब आपकी
    बैठा के कविता में ही घुमा देते।

    बधाईयां !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बहुत बधाई शास्त्री जी ! नैनो तो खूबसूरत है ही आपके परिवार के सदस्यों से मिल कर भी बहुत प्रसन्नता हुई !

    उत्तर देंहटाएं
  10. बधाई.

    कृपया मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" की १५० वीं पोस्ट पर पधारें और अब तक मेरी काव्य यात्रा पर अपनी राय दें, आभारी होऊंगा .

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत-बहुत बधाई सहित शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बधाई बहुत बहुत बधाई शास्त्री जी ! नैनो तो खूबसूरत है ही आपके परिवार के सदस्यों से मिल कर भी बहुत प्रसन्नता हुई !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बधाई हो शास्त्री जी!...नैनो की रिपोर्ट बहुत अच्छी आई है!...

    उत्तर देंहटाएं

  14. वो खूसट जब मरेगा न तो उसकी अर्थी इसी में ले के जानी चाहिए, उसे भी पता चले कि ये तेल से नहीं धक्के से चलती है.....

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails