"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 27 अप्रैल 2012

"नजर न आया वेद कहीं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


देश-वेश और जाति, धर्म का, मन में कुछ भी भेद नहीं।
भोग लिया जीवन सारा, अब मर जाने का खेद नहीं।।

सरदी की ठण्डक में ठिठुरा, गर्मी की लू झेली हैं,
बरसातों की रिम-झिम से जी भर कर होली खेली है,
चप्पू दोनों सही-सलामत, पर नौका में  छेद कहीं।
भोग लिया जीवन सारा, अब मर जाने का खेद नहीं।।

सुख में कभी नही मुस्काया, दुख में कभी नही रोया,
जीवन की नाजुक घड़ियों में, धीरज कभी नही खोया,
दुनिया भर की पोथी पढ़ लीं, नजर न आया वेद कहीं।
भोग लिया जीवन सारा, अब मर जाने का खेद नहीं।।

आशा और निराशा का संगम हैएक परिभाषा है,
कभी गरल है, कभी सरल है, जीवन एक पिपासा है,
गलियों मे बह रहा लहू है, दिखा कहीं श्रम-स्वेद नहीं।
भोग लिया जीवन सारा, अब मर जाने का खेद नहीं।।

15 टिप्‍पणियां:

  1. यथार्थ को स्पष्ट करती सुदर रचना!

    गलियों मे बह रहा लहू है, दिखा कहीं श्रम-स्वेद नहीं।भोग लिया जीवन सारा, अब मर जाने का खेद नहीं।।

    .....आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  2. दार्शनिकता के भावों से परिपूर्ण रचना ....बहुत सुन्दर कुछ अलग

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावों में दार्शनिकता और संतुष्टि परिलक्षित करती कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आशा और निराशा का संगम है, एक परिभाषा है,
    कभी गरल है, कभी सरल है, जीवन एक पिपासा है,
    गलियों मे बह रहा लहू है, दिखा कहीं श्रम-स्वेद नहीं।
    भोग लिया जीवन सारा, अब मर जाने का खेद नहीं।।

    .....जीवन की सच्चाई का गहन और सुंदर प्रवाहमयी चित्रण...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. छेद नाव में होने से भी, कभी नहीं नाविक घबराया ।

    जल-जीवन में गहरे गोते, सदा सफलता सहित लगाया ।

    इतना लम्बा अनुभव अपना, नाव किनारे पर आएगी -

    इन हाथों पर बड़ा भरोसा, बाधाओं को पार कराया ।

    अगर स्वार्थ के काले चेहरे, थाली में यूँ छेद करेंगे -

    भौंक भौंक के भूखे मरना, किस्मत में उसने लिखवाया ।।

    नाव दुबारा फिर उतरेगी, पार करेगी सागर खारा ।

    रखियेगा पतवार थाम के , डाक्टर फिक्स-इट छेद भराया ।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शाष्त्री जी सच यही है जीवन तो जी लिया अब तो रिहर्सल है .कोई गिला नहीं कोई शिकवा नहीं .बहुत दिया देने वाले ने तुझको ,आँचल ही न समाये तो क्या, कीजे ,बीत गए जैसे ये दिन रैना ,बाकी भी कट जाए ,देश-वेश और जाति, धर्म का, मन में कुछ भी भेद नहीं।भोग लिया जीवन सारा, अब मर जाने का खेद नहीं।।दुआ कीजे .वीरुभाई सी ४ ,अनुराधा ,कोलाबा , नेवल ऑफिसर्स फेमिली रेज़िदेंशियल एरिया (नोफ्रा ) नेवी नगर, मुंबई-४००-००५

    कृपया यहाँ भी पधारें -
    रक्त तांत्रिक गांधिक आकर्षण है यह ,मामूली नशा नहीं

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/
    आरोग्य की खिड़की

    आरोग्य की खिड़की

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/04/blog-post_992.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. भोग लिया जीवन सारा, अब मर जाने का खेद नहीं।।

    आपने सही फरमाया,सुंदर रचना,.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति,..बेहतरीन पोस्ट

    MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आशा और निराशा का संगम है, एक परिभाषा है,
    कभी गरल है, कभी सरल है, जीवन एक पिपासा है!
    जीवन का सार यही है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. गलियों मे बह रहा लहू है, दिखा कहीं श्रम-स्वेद नहीं।………बेहद उम्दा और सारगर्भित रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. veerubhai ने कहा…

    नाव दुबारा फिर उतरेगी, पार करेगी सागर खारा ।जीवन पथ पे चलते चलते, कभी पथिक न हारा .

    कृपया यहाँ भी पधारें रक्त तांत्रिक गांधिक आकर्षण है यह ,मामूली नशा नहीं
    शुक्रवार, 27 अप्रैल 2012

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/04/blog-post_2612.html
    मार -कुटौवल से होती है बच्चों के खानदानी अणुओं में भी टूट फूट
    Posted 26th April by veerubhai
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/04/blog-post_27.html

    उत्तर देंहटाएं
  12. आशा और निराशा का संगम है, एक परिभाषा है,
    कभी गरल है, कभी सरल है, जीवन एक पिपासा है!
    behtareeen.....

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails