"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

शनिवार, 28 अप्रैल 2012

‘‘मेरी पसन्द के सात दोहे’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

मानव बोता खेत में, कंकरीट और ईंट।
बिन चावल और दाल के, रहा खोपड़ी पीट।१।

बेटी के दुख-दर्द को, समझ न पाते लोग।
नारी को वस्तु समझ, लोग रहे हैं भोग।२।

राजनीति है वोट की, खोट, नोट भरमार।
पढ़े-लिखों को हाँकते, अनपढ़, ढोल, गवाँर।३।

छिपा खजाना ज्ञान का, पुस्तक हैं अनमोल।
इनको कूड़ा समझ कर, रद्दी में मत तोल।४।

झगड़ा है सुख के लिए, जगवालों के बीच।
वैतरणी के मध्य में, डूब रहे हैं नीच।५।

बन्द लिफाफों में भरा, शब्दों का सब सार।
खोलो ज्ञान कपाट को, भर लो नवल विचार।६।

प्राणिमात्र कल्याण का, वेदों में सन्देश।
जीवन में धारण करो, ये अनुपम उपदेश।७।

19 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया दोहे गुरु जी ।।

    आभार ।।

    रोटी कपडा से हुआ, पहले आज मकान ।
    खाय विटामिन गोलियां, मानव फिर नंगान ।।

    नारी के प्रति सोच को, न बदले नादान ।
    देखेगी दुनिया सकल, खुद अपना अवसान ।।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बिखेरी आपने सच्ची नीति औ ज्ञान

    करते हैं तारीफ़ हम,धन्य धन्य अभिज्ञान.

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर संदेश देते सार्थक दोहे

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दर संदेश देते सार्थक दोहे.......

    जवाब देंहटाएं
  5. राजनीति है वोट की, खोट, नोट भरमार।
    पढ़े-लिखों को हाँकते, अनपढ़, ढोल, गवाँर।३।
    राजनीति अर्थ और समाज नीति का सार तत्व लिए है ये संक्षिप्त दोहावली .बधाई .कृपया यहाँ भी पधारें
    शनिवार, 28 अप्रैल 2012
    मंगल भवन अमंगल हारी...
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    जवाब देंहटाएं
  6. सभी दोहे बहुत सार्थक और सुंदर..आभार

    जवाब देंहटाएं
  7. Sahi kaha aapne.

    सज़ा दिलाने के लिए यहां सदियां दरकार हैं।
    देखिए एक लघुकथा
    विवाद -एक लघुकथा डा. अनवर जमाल की क़लम से Dispute (Short story)

    http://mankiduniya.blogspot.com/2012/04/dispute-short-story.html

    जवाब देंहटाएं
  8. सुन्दर संदेश देते सार्थक दोहे,.....

    जवाब देंहटाएं
  9. छिपा खजाना ज्ञान का, पुस्तक हैं अनमोल।
    इनको कूड़ा समझ कर, रद्दी में मत तोल।४।
    बहुत सुंदर और प्रेरक दोहे।

    जवाब देंहटाएं
  10. राजनीति है वोट की, खोट, नोट भरमार।
    पढ़े-लिखों को हाँकते, अनपढ़, ढोल, गवाँर।

    बिल्कुल सही बात है,
    यही हो रहा है आजकल।

    जवाब देंहटाएं
  11. आपकी पसंद के दोहे.. सभी एक से बढ़कर एक

    जवाब देंहटाएं
  12. आदरणीय मयंकजी,
    कितने सरल और भाव संप्रेषण में अनोखे हैं आपके ये दोहे. मैं तो बस आपकी रचनाओं का मुरीद बन चुका हूं।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

समर्थक

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails