"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 9 जून 2011

"ग़ज़ल- इतना नहीं ख़फा होते" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


ज़रा सी बात पे इतना नहीं ख़फा होते

हमेशा बात से मसले रफा-दफा होते

इबादतों के बिना तो खुदा नहीं मिलता
बिना रसूख के कोई सखा नहीं होते

जो दूसरों के घरों पर उछालते पत्थर
कभी भी उनके सलामत मकां नहीं होते

फ़लक के साथ जमीं पर भी ध्यान देते तो
वफा की राह में काँटे न बेवफा होते

अगर न रूप दिखाते डरावना अपना
तो दौरे-इश्क में दोनों ही बावफा होते 

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर गज़ल शास्त्री जी...
    हर शेर पर वाह निकला...

    आभार...


    सादर
    गीता पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो दूसरों के घरों पर उछालते पत्थर
    कभी भी उनके सलामत मकां नहीं होते
    SAARTHK aur khubsoorat gajal.badhaai sweekaren.

    उत्तर देंहटाएं
  3. रख सकते गर धीरज , दो रोज के लिए
    जीवन में असफल , नहीं इस दफा होते |

    विश्वास न मिटता अगर, बीच में अपना
    सारे जहाँ से अपने , दुश्मन सफा होते |

    आदरणीय शास्त्री जी :
    नया ब्लागर हूँ--
    कृपया गजल की कुछ बारीकियां बताने का कष्ट करें|
    मेरी पंक्तियों का तारतम्य अक्सर बिगढ़ जाता है |

    उत्तर देंहटाएं
  4. एहसास जगाती ये गज़ल...
    मेरी पसंद का शेर..
    जो दूसरों के घरों पर उछालते पत्थर
    कभी भी उनके सलामत मकां नहीं होते

    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जो दूसरों के घरों पर उछालते पत्थर
    कभी भी उनके सलामत मकां नहीं होते..
    लाजवाब और सटीक पंक्तियाँ! ख़ूबसूरत ग़ज़ल!

    उत्तर देंहटाएं
  6. फ़लक के साथ जमीं पर भी ध्यान देते तो
    वफा की राह में काँटे न बेवफा होते...

    Very inspiring creation Shastri ji .

    .

    उत्तर देंहटाएं
  7. ज़रा सी बात पे इतना नहीं ख़फा होते
    हमेशा बात से मसले रफा-दफा होते

    कई संगीन मसले बातो से रफा -दफा होते देखे है शास्त्री जी ...बहुत सुंदर ...लाजबाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. फ़लक के साथ जमीं पर भी ध्यान देते तो
    वफा की राह में काँटे न बेवफा होते

    वाह वाह बहुत सुन्दर गज़ल्।

    उत्तर देंहटाएं
  9. har sher bahut wajandaar, waah bahut khoob, daad kubool karen Roopchandra ji.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब !हमेशा की तरह शिखर पर अश -आर आपके .

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर गज़ल शास्त्री जी... हर शेर पर वाह निकला...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails