"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 17 जून 2011

"अपना वतन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

जिसकी माटी में चहका हुआ है सुमन,

मुझको प्राणों से प्यारा है अपना वतन।

जिसकी घाटी में महका हुआ है पवन,

मुझको प्राणों से प्यारा है अपना वतन।

जिसके उत्तर में अविचल हिमालय खड़ा,

और दक्षिण में फैला है सागर बड़ा.

नीर से सींचती गंगा-यमुना चमन

मुझको प्राणों से प्यारा है अपना वतन।।

वेद, कुरआन-बाइबिल का पैगाम है,

ज़िन्दगी प्यार का दूसरा नाम है,

कामना है यही हो जगत में अमन।

मुझको प्राणों से प्यारा है अपना वतन।।

सिंह के दाँत गिनता, यहाँ पर भरत,

धन्य आजाद हैं और विस्मिल-भगत,

प्राण देकर जिन्होंने किया था हवन।

मुझको प्राणों से प्यारा है अपना वतन।।

यह धरा देवताओं की जननी रही,

धर्मनिरपेक्ष दुनिया में है ये मही,

ऐ वतन तुझको करता हूँ सौ-सौ नमन।

मुझको प्राणों से प्यारा है अपना वतन।।

26 टिप्‍पणियां:

  1. सिंह के दाँत गिनता, यहाँ पर भरत,
    धन्य आजाद हैं और विस्मिल-भगत,

    बहुत सुन्दर ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. vaah kyaa ahsaas hai apne vtan ka schcha ahsaas hai apne vatan ka ..akhtr khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  3. देश प्रेम से ओत-प्रोत बहुत सुंदर कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  4. अति सुंदर रचना है आज भी आज़ादी की याद आपके के दिल मे है.
    हर वर्ष लगेगे आज़ादी की चिता पेर मेले, बाकी मरने वालो का यही निशा होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  5. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्रीजी एक बार फिर मुझे कुछ ऐसा पढने को मिला जो हमेशा याद रहेगा. सराहनीय

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीये गुरु जी, एक बार फिर अपने आज़ादी के बिंदु को मिला दिया, जिस प्रकार मोती की माला टूट जाती है फिर जॉइंट कर दी जाती है वाह किया बात है

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीये गुरु जी,जैसे हमारा देश महान, वैसे गुरुजी है आपका कमाल. किया लिखते है आप .

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर गीत है.
    अर्चना चावजी अगर इसे अपनी आवाज दे दे तो बहुत अछ्छा लगेगा सुन कर.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा.

    उत्तर देंहटाएं
  10. जिस दिल में देश प्रेम नहीं वो दिल ही क्या....
    बहुत अच्छी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  11. भरत देश है हमारा और हमें अपना देश है सबसे प्यारा! बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  12. देश प्रेम से ओट - प्रोत रचना|

    उत्तर देंहटाएं
  13. देश प्रेम की भावनाओं से ओतप्रोत बहुत सुन्दर रचना..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपके देश -प्रेम को नमन ,रचना भारत -मयी हो चली ....बोधगम्य रचना ./ शुक्रिया जी /

    उत्तर देंहटाएं
  15. देश प्रेम से ओत-प्रोत सुन्दर रचना है.
    वाह वाह के सिवा नहीं कुछ भी कहना है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. देश प्रेम की बेहतरीन कविता...मेरा भारत महान का सन्देश देती हुई...कभी लगता है...हमारे बुजुर्गों ने घी खाया था...और हम अभी तक हाथ सुंघा रहे हैं...महान लोगों के देश की ये परिणति अनेक प्रश्न-चिन्ह खड़े करती है...

    उत्तर देंहटाएं
  17. राष्ट्र प्रेम का सजीव फिल्मांकन साबित हुई शाष्त्री जी की पोस्ट .आभार ,शब्द -चित्र जुगल बंदी के लिए शब्द -दर -शब्द .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सुन्दर रचना सर! राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत। बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  19. ऐ वतन तुझको करता हूँ सौ-सौ नमन।

    मुझको प्राणों से प्यारा है अपना वतन।।\ बहुत सु8न्दर। हमारा भी शत शत नमन है। जय हिन्द।

    उत्तर देंहटाएं
  20. देश‍ प्रेम से गुलज़ार यह शब्‍द रचना अनुपम ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. सिंह के दाँत गिनता, यहाँ पर भरत,

    धन्य आजाद हैं और विस्मिल-भगत,

    प्राण देकर जिन्होंने किया था हवन।

    मुझको प्राणों से प्यारा है अपना वतन।।

    देश भक्ति से ओत-प्रोत बहुत ही सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपके देश -प्रेम को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  23. मुझको प्राणों से प्यारा है अपना वतन।।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails