"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 10 जून 2011

"श्री गणेश वन्दना" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


विघ्न विनाशक-सिद्धि विनायक।
कृपा करो हे गणपति नायक!!

सबसे पहले तुमको ध्याता,
चरणयुगल में शीश नवाता,
आदि देव जय-जय गणनायक।
कृपा करो हे गणपति नायक!!

पार्वती-शिव के तुम नन्दन,
करते सभी तुम्हारा वन्दन,
सबको देते फल शुभदायक!
कृपा करो हे गणपति नायक!!

लेकर धूप-दीप और चन्दन,
सारा जग करता अभिनन्दन,
मैं अबोध अनुचर अनुगायक!
कृपा करो हे गणपति नायक!!

मूषक-मोदक तुमको प्यारे,
विपदाओं को टारनहारे,
निर्बल के तुम सदा सहायक!
कृपा करो हे गणपति नायक!!

34 टिप्‍पणियां:

  1. सबसे पहले तुमको ध्याता,चरणयुगल में शीश नवाता,आदि देव जय-जय गणनायक।कृपा करो हे गणपति नायक!!
    bahut sunder ganesh vendanaa.ganpatiji sabka kam siddha karen.badhaai aapko.

    उत्तर देंहटाएं
  2. jai shree ganesh,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  3. जय श्री गणेश ,काटो सब के क्लेश ...
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. जय जय श्रीगणेश ... बहुत सुन्दर गणेश वंदना ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर गणपत वन्दना..जय गणेश..

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह वाह वाह्…………अति उत्तम गणेश वन्दना…………पढकर आनन्द आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर गणेश वंदना! बहुत अच्छा लगा! जय जय श्रीगणेशाय नमः !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (11.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  9. गणेश वंदना का पाठ कर पुण्‍य लाभ में भागी बनाने के लिए आपका शुक्रिया
    अच्‍छी रचना

    शुभकामनाएं आपको

    उत्तर देंहटाएं
  10. गजानन की वंदना मन को छू गयी .इसमें संदेह नहीं कि लोग अपने पूजा घरों में गा कर इसे अविस्मरणीय बना देंगे . बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  11. मूषक-मोदक तुमको प्यारे,
    विपदाओं को टारनहारे,
    निर्बल के तुम सदा सहायक!
    कृपा करो हे गणपति नायक!!

    बहुत खूब !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ व्यक्तिगत कारणों से पिछले 15 दिनों से ब्लॉग से दूर था
    इसी कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बढिया किया गुरु जी गणेश जी की वन्दना प्रकाशित कर के!
    मैन आजकल मुम्बई में हूँ और कल ही सिद्धिविनायक मन्दिर दर्शन कर के आया हूँ, बहुत ही आनन्द आया!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर गणपत वन्दना| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर है गणेश जी की वन्दना......

    उत्तर देंहटाएं
  16. गणपति बाप्पा मोर्या

    उत्तर देंहटाएं
  17. "मैं अबोध अनुचर ,अनुगामी ,कृपा करो हे गणपति नायक "आनुप्रासिक सुन्दर प्रस्तुति ।
    मान्य -वर ,
    अनुमति प्रदान करें -रिमिक्स "तन रहता है भारत में ,रहता मन योरप मम्मीजी !"आपकी अति कृपा होगी ।
    भवदीय -
    वीरेंद्र शर्मा ,४३३०९ ,सिल्वर वुड ड्राइव ,मिशिगन -४८ १८८
    दूरध्वनी :००१-७३४ -४४६ -५४५१ .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहद प्रभावी गणपति वंदना...

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपके इश प्रेम को नमन -------

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ही उत्तम, प्रतिदिन पाठ करने योग्य। दिमाग भक्तितमय हो गया

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपका स्वागत है "नयी पुरानी हलचल" पर...यहाँ आपके ब्लॉग की किसी पोस्ट की कल होगी हलचल...
    नयी-पुरानी हलचल

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  22. मूषक-मोदक तुमको प्यारे,
    विपदाओं को टारनहारे,
    निर्बल के तुम सदा सहायक!
    कृपा करो हे गणपति नायक..

    बहुत अच्छी गणपति वंदना ।
    आभार।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  23. सबको देते फल शुभदायक!
    कृपा करो हे गणपति नायक!!

    उज्जवल विनायक वंदन ..!
    मेरा भी नमन ..!

    उत्तर देंहटाएं
  24. "Shri Ganesh Vandana", Bahut hi Sundar Prastuti. Ganesh Ji Prasann Hon; Om Gan Ganpataye Namah , Siddhi Vinaayak Namo Namah...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails