"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 20 जून 2011

"कीट निकम्मे" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


प्रथम-दूसरे और तीसरे,
चौथे और पाँचवे खम्बे।
सबको कुतर रहे भीतर घुस,
घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।।

जिनको सौंपी पहरेदारी,
वो करते हैं चोरी-जारी,
खाकर करते नमक हरामी,
खुले आम करते गद्दारी,
चाँदी-सोना लूट लिया सब,
खम्बों पर धर दिये मुलम्मे।
सबको कुतर रहे भीतर घुस,
घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।।

योगी-भोगी सन्त बने हैं,
मोटे मगर महन्त बने है,
दिखलाने के दाँत अलग हैं,
पर खाने के दन्त घने हैं,
अमल-धवल सी केंचुलियों में,
छिपे हुए विषधर बदरंगे।
सबको कुतर रहे भीतर घुस,
घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।।

जनता की है झोली खाली,
भरी हुई है इनकी थाली.
रक्षा-सौदों, ताबूतों में
खेल-खेल में हुई दलाली,
मुख में राम, बगल में चाकू
रखकर बोल रहे जय-अम्बे।
सबको कुतर रहे भीतर घुस,
घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।।

सुन्दर लगता बहुत धतूरा,
लेकिन बहुत विषैला होता,
झूठ बहुत प्यारा लगता है,
लेकिन सत्य कसैला होता,
जैसा देखा वही लिखा है,
रक्षा करना हे जगदम्बे!
सबको कुतर रहे भीतर घुस,
घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।।

41 टिप्‍पणियां:

  1. लोकतंत्र के पाँचों खम्बों का सटीक अंकन किया है
    सचमुच अब तो माँ जगदम्बे ही बचा सकती है

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिनको सौंपी पहरेदारी,
    वो करते हैं चोरी-जारी,
    खाकर करते नमक हरामी,
    खुले आम करते गद्दारी

    अरे वाह! बहुत सुन्दर व्यंजना

    उत्तर देंहटाएं
  3. शांत चित्त श्रीमान में, देखी पहली रीस |
    कागद पर परगट हुई, रही सभी को टीस |
    रही सभी को टीस, सड़े अब अगला खम्भा
    लोकतंत्र की चमक, चढ़ा अब महामुलम्मा |
    कह रविकर गुरुदेव, करें न इकदम चिंता ||
    रहे देश आबाद, जगे अब प्यारी जनता ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक सटीक रचना ... माहौल ही ऐसा बन गया है ... आक्रोश शब्दों के रूप में निकल ही जाता है !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. aaj hi maine ek comment kiya tha ki teen chakke puncture hai to gadi kaise chalegi,aapne chauthe ko bhi ko puncture kar diya aur panchva yani antakvad ko isse jod kar sidhe chhakka jad diya hai,sateek likha hai shastri ji.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिनको सौंपी पहरेदारी,
    वो करते हैं चोरी-जारी,
    खाकर करते नमक हरामी,
    खुले आम करते गद्दारी,
    चाँदी-सोना चुरा-चुरा कर,
    खम्बों पर धर दिये मुलम्मे।
    सबको कुतर रहे भीतर घुस,
    घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।
    sachchai ko bakhoobi byan kiya hai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. शांत चित्त श्रीमान में, देखी पहली रीस |
    कागद पर परगट हुई, रही सभी को टीस |
    रही सभी को टीस, सड़े न अगला खम्भा
    लोकतंत्र की चमक, चढ़ेगा शुद्ध मुलम्मा |
    कह रविकर गुरुदेव, करें न इकदम चिंता ||
    रहे देश आबाद, जगे जब प्यारी जनता ||

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाकई दीमक से हैं ये कीट. अंदर ही अंदर खोखला कर दिया देश.
    बेहतरीन रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  9. योगी-भोगी सन्त बने हैं,
    मोटे मगर महन्त बने है,
    दिखलाने के दाँत अलग हैं,
    पर खाने के दन्त घने हैं,

    सटीक लेखन....

    उत्तर देंहटाएं
  10. जनता की है झोली खाली,
    भरी हुई है इनकी थाली.
    रक्षा-सौदों, ताबूतों में
    खेल-खेल में हुई दलाली,
    मुख में राम, बगल में चाकू
    रखकर बोल रहे जय-अम्बे।
    सबको कुतर रहे भीतर घुस,
    घुन नकर कुछ कीट निकम्मे।।
    bahut saarthak byang karati hui yathart batalaati hui bahut bemisaal rachanaa,badhaai aapko.

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुख में राम, बगल में चाकू
    रखकर बोल रहे जय-अम्बे।
    सबको कुतर रहे भीतर घुस,
    घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।।
    वाह! सटीक लिखा है आपने! सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  12. जिनको सौंपी पहरेदारी,
    वो करते हैं चोरी-जारी,
    खाकर करते नमक हरामी,
    खुले आम करते गद्दारी ..

    आज कल ऐसे कीट हर जगह पाए जाते हैं ... अब ये कीट न रश कर आदमखोर हो गए हैं ... अच्छी व्यंग रचना शास्त्री जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. आज देश को खोखला करने का काम कर रहे हैं ...सभी पर अच्छा प्रहार है .. बिल्कुल सटीक रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. घुन सचमुच में दुष्ट बहुत हैं,
    देखो खम्भे खोद रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सटीक.. इन निकम्मे कीटों पर pesticide छिड़क दिया जाए .

    उत्तर देंहटाएं
  16. गीत में ऐसा विम्ब विलक्षण ही है... सुन्दर कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर लगता बहुत धतूरा,
    लेकिन बहुत विषैला होता,
    झूठ बहुत प्यारा लगता है,
    लेकिन सत्य कसैला होता,
    जैसा देखा वही लिखा है,
    रक्षा करना हे जगदम्बे!
    सबको कुतर रहे भीतर घुस,
    घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे....

    बेहद सटीक अभिव्यक्ति शास्त्री जी । ऐसी निक्कमे कीट ही हमारी व्यवस्था को दीमक की तरह चाट रहे हैं ।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  18. जिनको सौंपी पहरेदारी,
    वो करते हैं चोरी-जारी,
    खाकर करते नमक हरामी,
    खुले आम करते गद्दारी

    एक सटीक रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. तीखे प्रहार संयमित परन्तु प्रभावकारी हैं ,शब्द संयोजन दृष्टान्त केअनुरूप आघाती है,जो काव्य को रुचिकर बना रखा है . सुंदर सृजन को सम्मान, बधाई .../

    उत्तर देंहटाएं
  20. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 21 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच-- 51 ..चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  21. मुख में राम, बगल में चाकू
    मीठे बोल बोलते डाकू

    उत्तर देंहटाएं
  22. ऐसे लोगों से ही तो निपटना है...जगदम्बे की शरण में तो उन्हें जाना पड़ेगा...

    उत्तर देंहटाएं
  23. इन कीटों को ही तो मारना है. सुन्दर गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  24. देश के राजनीतिक विद्रूप पर खूब लिखा है "घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे ".किसी भी पूर्व चूक या गलती के लिए आपसे माफ़ी चाहता हूँ .

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुन्दर लगता बहुत धतूरा,
    लेकिन बहुत विषैला होता,
    झूठ बहुत प्यारा लगता है,
    लेकिन सत्य कसैला होता,
    वाह !!!!!
    हर कविता है एक समुन्दर ,
    उथल-पुथल, सर्वदा-निरंतर.
    चलो निकालें मंथन करके
    'कवि-मन-मोती' छुपा है अन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  26. प्रथम-दूसरे और तीसरे,चौथे और पाँचवे खम्बे।सबको कुतर रहे भीतर घुस,घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे...

    दिखलाने के दांत अलग है , खाने के दांत अलग ...
    एकदम सत्य !

    उत्तर देंहटाएं
  27. gugu ji app ney bilkul thik hi kaha hai agar ek baar ghun lag jata hai to phir wo jaldi sey nahi jata hai. bahut sunder .

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुन्दर लगता बहुत धतूरा,
    लेकिन बहुत विषैला होता,
    झूठ बहुत प्यारा लगता है,
    लेकिन सत्य कसैला होता,
    जैसा देखा वही लिखा है,
    रक्षा करना हे जगदम्बे!
    सबको कुतर रहे भीतर घुस,
    घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।।

    सटीक और शानदार लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  29. जैसा देखा वही लिखा है,
    रक्षा करना हे जगदम्बे!
    सबको कुतर रहे भीतर घुस,
    घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।
    ...sateek....nikammon kee puri fauj ban gayee hai har jagah....

    उत्तर देंहटाएं
  30. सुन्दर लगता बहुत धतूरा,
    लेकिन बहुत विषैला होता,
    झूठ बहुत प्यारा लगता है,
    लेकिन सत्य कसैला होता,

    वाह ...बहुत खूब कहा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. जिनको सौंपी पहरेदारी,
    वो करते हैं चोरी-जारी,
    खाकर करते नमक हरामी,
    खुले आम करते गद्दारी,
    चाँदी-सोना लूट लिया सब,
    खम्बों पर धर दिये मुलम्मे।
    सबको कुतर रहे भीतर घुस,
    घुन बनकर कुछ कीट निकम्मे।।

    zabardast!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. afsos magar in keet nikammo ko energy bhi ham dete hain aur jay jay kaar bhi ham hi karte hai...aur gharo me bhi hamare hi saindh lagti hai...na jane kab jagenge ham...jab bhi koi dharam ki duhayi deta hai ham aankhe meech lete hain aur apna hi ghar lutwate hain.

    sashakt abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  33. आपकी रचना में अंतर्निहित बातों से पूरी तरह सहमत हूं. लेकिन पांचवां खंभा क्या है समझ नहीं पाया. क्या इंटरनेट मीडिया?

    उत्तर देंहटाएं
  34. इन कीटों को नाश करने का कोई रास्ता है क्या ..........बस ये ही पूछना है मुझे

    उत्तर देंहटाएं
  35. आखिर ये निकम्में कीट आयें कहाँ से?
    क्या हम जिम्मेवार नहीं?

    उत्तर देंहटाएं
  36. एक प्रभावशाली कविता... मंच पर धूम मचा देगी...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails