"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 14 जून 2011

"दोहामय टिप्पणियाँ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

मित्रों!
कल कुछ "आम दोहे" लिखे थे!

टिप्पणियों ने आम को, बना दिया है खास।
आम-खास के बीच में, रहे न कोई खटास।।

आमों को दी आपने, आकर बहुत मिठास।
आम-खास के बीच में, बना रहे विश्वास।

आम-आम कहते रहे, आम ना जाने कोय।
ईश्वर भी तो आम के, बसा हृदय में होय।।

खाते-खाते आम को, नेता बन गये खास।
इन खासों की बात पर, कौन करे विश्वास।।

-0-
इस पोस्ट पर बहुत सी टिप्पणियाँ मिलीं थीं।
जिनमें से् कुछ दोहामय टिप्पणियाँ निम्नवत् हैं!
(नोट-कुछ टिप्पणियों को मैंने दोहा छन्द में परिवर्तित कर दिया है।)

Arun ने कहा…
* लिखकर ख़ास मयंक जी, कहते उसको आम |
आम नहीं दोहे यह, हैं अमूल्य बेदाम ||

मनोज कुमार ने कहा…
* लोकतन्त्र में किसी के, मुख पर नहीं लगाम।
सस्ती है अब खासियत, महंगा कितना आम।

DR. ANWER JAMAL ने कहा…
* खरे दाम जो दे सके, वही खायेगा आम।
बिन पैसे के मित्रवर, मुँह पर देओ लगाम।।

Kunwar Kusumesh ने कहा…
आम पर आपके दोहे पढ़े,
उधर कुछ ब्लॉग वालों की लड़ाई इसके पहले पढ़ी.
बस फिर क्या ये कुण्डली बन गई.देखिये:-
ब्लॉग जगत में हो रहा,आमों जैसा हाल.
खट्टे -मीठे आम से,भरी मिले हर थाल.
भरी मिले हर थाल ,कहे तुकमी से चौसा.
कर लो दो दो हाथ चलो तुम हमसे मौसा.
देख लड़ाई, जान हमारी है सांसत में.
आमों जैसे लोग लड़ रहे ब्लॉग जगत में
.

"ब्लाग" बातों का आम-रस है। इसका आनन्द उठाते रहिए,
मुस्कराते रहिए।===========
लोकतंत्र में "आम" को, बातों की बस छूट।
जितने "ख़ासमख़ास" वे, उतनी उनकी लूट॥
===========
मुस्कान हास्य का कायिक लक्षण है।
मुस्कान संक्रामक भी होती है।
जब कोई व्यक्ति आपको मुस्कराता हुआ देखता है तो
वह भी मुस्काराने लगता है।
===========
"आम" पर आपकी प्रस्तुति पढ़ करके आनन्द आ गया।


डॉ० डंडा लखनवी

बहुत खूबसूरत रचना ..
आम खाते हुए भी आम ( इंसान) पर सोच ...
लोकतंत्र में हो गया, आज आदमी आम |
इतने सारे आम हैं ,पर ज्यादा हैं दाम ||

sidheshwer ने कहा…
रचना नित्य नवीन रच उपजाते उल्लास ।
दोहे लिखकर आम को बना दिया है खास।

Ravikar ने कहा…
हर फल आमो-ख़ास दे, इकलौता ये पेड़.
खास हुए सब आम अब , खाकर बहुत थपेड़.

ख़ास तुम्हारे साथ हैं, साथ हमारे आम!
साथी जिसके आम हों, होता उसका नाम!!

21 टिप्‍पणियां:

  1. टिप्पणियों से बन गई, पोस्ट बहुत यह ख़ास!
    आम-ख़ास के मेल का, आज हुआ आभास!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी प्रेरणा से हम सबको भी
    दोहा रचने का अवसर प्राप्त हो गया!

    उत्तर देंहटाएं
  3. यही खासियत है आपकी कहीं से भी कुछ भी लेकर रचना का निर्माण कर लेते हैं…………ये अन्दाज़ भी बहुत अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अवलोकन कर पोस्ट का हुआ सुंदर आभास,
    बात-बात में आपने आम को कर दिया खास।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपने लिए तो हर कोई जीता है . किन्तु आप अपने प्रेरक व्यक्तित्व के बल पर औरों को भी प्रेरित - प्रभावित कर रहे हैं . यह महान गुण है. कभी आपसे मिला तो मेरा अहोभाग्य होगा .

    उत्तर देंहटाएं
  6. आम खास की बात में लेकर कितने नाम
    बात बात में कर गए कितनों को प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  7. टिप्पणी टिप्पणी जोड़ के दोहा लए बनाएँ,
    ऐसे खास काम बस शास्त्री जी कर पायें.:)

    उत्तर देंहटाएं
  8. आम-आम की चर्चा में आम हो गया खास
    सबके मन को भाती है इसकी महक-मिठास...

    उत्तर देंहटाएं
  9. गूगल बज़ से-
    prithwipal rawat - wah wah ji!
    --
    aam aam sab kah rahe, jo the khasamkhaas!
    dekh aam ki khasiyat, neta bhaye udaas!
    neta bhaye udas, ho gaya halla gulla!
    jo the khasamkhaas, ban gaye hain rasgulla!
    kahe 'musafir' aam ki, mahima aprampaar!
    aam-aam ne kar diya, khasoon ka bantadhaar!

    उत्तर देंहटाएं
  10. parm adarjog dr.saheb apaki aammaawali ki dohawali aakanth ras se sarabor kar gayi.

    उत्तर देंहटाएं
  11. पहले आम पर फिर टिप्पणियों पर सुन्दर दोहे प्रस्तुत किये आपने. बढ़िया है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. aapki har rachna aapko bhale hee aam lagtee ho lekin humein to khaas hee lagtee hai!

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह ! शास्त्री जी आपने तो कमाल कर दिया! टिप्पणी से रचना बना दिया और बड़े ही सुन्दरता से प्रस्तुत किया है!

    उत्तर देंहटाएं
  14. जैसी पोस्‍ट वैसी शानदार टिप्‍पणियां। काश, मुझे भी दोहा लिखना आता।

    ---------
    ये शानदार मौका...
    यहाँ खुदा है, वहाँ खुदा है...

    उत्तर देंहटाएं
  15. पंडित जी इस देश में बहुत कमाया नाम,
    खास नहीं हम बन सके, बने रह गए आम!

    उत्तर देंहटाएं
  16. अच्छा लिखने वाले कम, अच्छा पढ़ने वाले कम, पढ़कर समझ सकने वाले और भी कम... लेकिन अगर एक अच्छे लेख/कविता/दोहे को अच्छे पढ़ने वाले मिलें, इतने अच्छे, और इतने सृजनात्मक, कि वे समझकर प्रतिक्रियाओं को दोहों के रूप में लिख दें, तो लेखक की प्रसन्नता, उत्साह, संतोष का क्या ओर छोर होगा. आपकी रचना से आपके यही भाव छलक रहे हैं. :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. respected sir ji nice lines for Mangoes
    "Kiya mosuam aya hai
    jiwaan mai Aam ki bahar laya hai,
    aam kiya khaas hai jiwan may itnei mithass hai" such appney to pura jiwaan hi Mathias sey bhar diya sir.

    उत्तर देंहटाएं
  18. अपने शेर को दोहे के रूप में देखना अच्छा लगा ।
    शुक्रिया ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails