"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 23 जून 2011

"जुड़ करके एक-एक, गिनतियाँ हुईं हजार" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


मयंक
निन्यानबे के फेर में आया हूँ कई बार।
रहमत औकरम ने तेरी मुझको लिया उबार।।

ऐसे भी हैं कई बशर, अटक गये हैं जो,
श्रम करके मैंने अपना मुकद्दर लिया सँवार।

कल तक थी जो कमी, वो पूरी हो गई है आज,
शबनम में आ गया है, मोतियों सा अब निखार।

चलता ही रहा जो, वो पा गया है मंजिलें,
पतझड़ के बाद आ गई, चमन में फिर बहार।

नदियाँ मुकाम पा के, समन्दर सी हो गई,
थी बेकरार जो कभी, उनको मिला करार।

महताब को दिया प्रकाश आफताब ने,
बहने लगी है रात में, शीतल-सुखद बयार।

चेहरा चमक उठा, दमक उठा है रूप भी,
जुड़ करके एक-एक, गिनतियाँ हुईं हजार।

35 टिप्‍पणियां:

  1. कल तक थी जो कमी, वो पूरी हो गई है आज,
    शबनम में आ गया है, मोतियों सा अब निखार।

    सबसे पहले हजारी बन जाने पर हार्दिक बधाई स्वीकारें।
    आपने मील का पत्थर पार कर लिया है ये अपने आप मे एक बडी उपलब्धि है ……………इतने कम समय मे इतनी कवितायें लिखना सच मे आप पर माँ सरस्वती की महती कृपा है और ये हमेशा बनी रहे इसी की कामना करती हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बधाईयाँ
    आज तो आपने ये ब्लोगजगत का रिकार्ड अपने नाम कर लिया
    सबसे जल्दी 1000 कविताये पूरी करने का........मेरे ख्याल से अभी तक तो शायद ब्लोगर्स मे से किसी ने इतनी कविताये इतनी जल्दी पूरी नही की होंगी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ... बधाइयाँ और अगली का इंतज़ार ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई हो आपको न केवल संख्या मे वरन खूबसूरती मे भी आपने इस विधा मे हजार चांद लगा दिये हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. गलती कर-कर के हुए, महा-अनुभवी लोग |

    उत्तर देंहटाएं
  6. शास्त्री जी .
    बहुत-बहुत मुबारक कबूल करें |

    उत्तर देंहटाएं
  7. बधाई बधाई बधाई ! हार्दिक बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ...बहुत खूब ..बहुत-बहुत बधाई के साथ शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. १००० वी पोस्ट पूरे होने पर आपको हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!
    चलता ही रहा जो, वो पा गया है मंजिलें,
    पतझड़ के बाद आ गई, चमन में फिर बहार।
    वाह! बहुत खूब लिखा है आपने! ज़बरदस्त प्रस्तुती !

    उत्तर देंहटाएं
  10. हजारवीं पोस्ट के लिए हार्दिक बधाई ..

    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. Guru ji apko ek hazar vi post key leyey dil sey subhkamna app hamesa aisey hi likhtey rahey, apko bahut bahut baadheya.

    उत्तर देंहटाएं
  12. गलती कर कर के बने, महा-अनुभवी लोग |
    महाकवि बनता कोई, सहकर कष्ट वियोग |
    सहकर कष्ट वियोग, गलतियाँ करते जाएँ |
    किन्तु रहे यह ध्यान, उन्हें फिर न दोहराएँ |
    कह रविकर सन्देश, यही है श्रेष्ठ-जनों का |
    पंडित "शास्त्री" संत, आदि सब महामनों का ||

    उत्तर देंहटाएं
  13. १००० वीं पोस्ट के लिए हार्दिक बधाई.....यूँही यह आँकड़ा १ लाख को पार करे.....।

    उत्तर देंहटाएं
  14. हजारवीं पोस्ट के लिए बधाई कबूलें ..
    सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  15. नदियाँ मुकाम पा के, समन्दर सी हो गई,
    थी बेकरार जो कभी, उनको मिला करार।

    महताब को दिया प्रकाश आफताब ने,
    बहने लगी है रात में, शीतल-सुखद बयार।
    badhaai aapko 1000 kavitaayen blog main poori karane ke liye.ye rachanaa bhi adbhut hai.abhaar.

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक हजार की गिनती पूरी कर लेने की बधाई स्वीकार करें सर! आपकी मेहनत को दाद देता हूँ...
    ‘शबनम में आ गया है मोतियों सा अब निखार’

    उत्तर देंहटाएं
  17. आद. शास्त्री जी,
    हजारवीं पोस्ट के लिए मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार करें !

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत-बहुत हार्दिक बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत बहुत बधाई भाई जी आपको ........आपका साथ मुझे देर से नसीब हुआ ......पर आपके साथ जुड़ने का अब गर्व महसूस कर रही हूँ
    बहुत बहुत दिल से आपको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  20. कल तक थी जो कमी, वो पूरी हो गई है आज,
    शबनम में आ गया है, मोतियों सा अब निखार।

    सबसे पहले शास्त्री जी आपको १०००वी पोस्ट के लिए शुभकामनाए ...!

    रिकार्ड तोडू काम है जनाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. 1000 वीं पोस्ट के लिए तहेदिल से बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत बहुत बधाई, 1000वीं पोस्ट की।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत बहुत बधाई, 1000वीं पोस्ट की.....सतत लेखन की शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं
  24. बधाई बधाई बधाई ! हार्दिक बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  25. "श्रम कर के मैंने अपना मुकद्दर लिया सवार "
    बहुत सुंदर रचना |कविता बहुत अच्छी बन पडी है |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  26. १००० वी पोस्ट के लिए हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  27. कविताओं की लम्बी संख्या मुबारक हो ...ब्लॉगजगत में अनोखा ही होगा यह रिकॉर्ड !
    बहुत बहुत शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  28. आपकी मनमोहक रचनाओं से तो हमें भी हो गया प्यार!

    उत्तर देंहटाएं
  29. 1000 वीं पोस्ट की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  30. हजारवीं पोस्‍ट के लिए हजार बार बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails