"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 2 जुलाई 2011

"ये गद्दार मेरा वतन बेच देंगे" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



ये गद्दार मेरा वतन बेच देंगे।
ये गुस्साल ऐसे कफन बेच देंगे।

बसेरा है सदियों से शाखों पे जिसकी,
ये वो शाख वाला चमन बेच देंगे।

सदाकत से इनको बिठाया जहाँ पर,
ये वो देश की अंजुमन बेच देंगे।

लिबासों में मीनों के मोटे मगर हैं,
समन्दर की ये मौज-ए-जन बेच देंगे।

सफीना टिका आब-ए-दरिया पे जिसकी,
ये दरिया-ए गंग-औ-जमुन बेच देंगे।

जो कोह और सहरा बने सन्तरी हैं,
ये उनके दिलों का अमन बेच देंगे।

जो उस्तादी अहद-ए-कुहन हिन्द का है,
वतन का ये नक्श-ए-कुहन बेच देंगे।

लगा हैं इन्हें रोग दौलत का ऐसा,
बहन-बेटियों के ये तन बेच देंगे।

ये काँटे हैं गोदी में गुल पालते हैं,
लुटेरों को ये गुल-बदन बेच देंगे।

हो इनके अगर वश में वारिस जहाँ का,
ये उसके हुनर और फन बेच देंगे।

जुलम-जोर शायर पे हो गर्चे इनका,
ये उसके भी शेर-औ-सुखन बेच देंगे।

‘मयंक’ दाग दामन में इनके बहुत हैं,
ये अपने ही परिजन-स्वजन बेच देंगे।

23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सामयिक प्रस्तुति शास्त्री जी ! बस यही कहूंगा कि

    बस दो ही चीजें थी,

    जो अंत में देने आती

    इनका साथ,

    एक फूल, दूजा कफ़न !

    एक गले पड़ता,

    दूसरा इनके शव चढ़ता,

    मगर तब से वो भी

    कतराने और शर्माने लगे है,

    जबसे बेच खाया इन गद्दारों ने

    अपना ही वतन !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये अपने ही परिजन-स्वजन बेच देंगे।

    is pankti se bahut hi jyad uunchi hain ye panktiyan --

    लगा हैं इन्हें रोग दौलत का ऐसा,
    बहन-बेटियों के ये तन बेच देंगे।


    bahut hi jabardast ||
    सफीना टिका आब-ए-दरिया पे जिसकी,
    ये दरिया-ए गंग-औ-जमुन बेच देंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. लुटेरों को ये गुलबदन बेच देंगे .............

    बहुत खूब शास्त्री जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. झंडा उल्टा लटकाये जाने पर हल्ला मचाने वाली मीडीया को उल्टा लटका देश नही दिख रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  5. आद. शास्त्री जी,
    बहुत ही खूबसूरत ,मन को उद्वेलित करने वाली ग़ज़ल लिखी है आपने !
    समय को छू कर उसे महसूस कराने की क्षमता समाहित है इसमें !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर व् सार्थक रचना प्रस्तुत की है आपने .आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. लगा हैं इन्हें रोग दौलत का ऐसा,
    बहन-बेटियों के ये तन बेच देंगे।

    ये काँटे हैं गोदी में गुल पालते हैं,
    लुटेरों को ये गुल-बदन बेच देंगे।

    बहुत खूब ..बढ़िया गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'सफीना टिका आब-ए-दरिया पे जिसकी,
    ये दरिया-ए गंग-औ-जमुन बेच देंगे।

    जो कोह और सहरा बने सन्तरी हैं,
    ये उनके दिलों का अमन बेच देंगे।'

    मौज़ू प्रस्तुति, हर इक मिसरा लाज़वाब...बधाई शास्त्री जी! आप तो ग़ज़लगोई में भी उस्ताद ठहरे

    उत्तर देंहटाएं
  9. देश के ताजा तरीन हालातों पर गहरा तंज़ और क्षोभ झलक रहा है ...
    आम आदमी के गुस्से को शब्द दे दिए हैं आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  10. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)ji aapake hote ye nahi ho sakata kyon ki aap logon ko jagarook kar rahen hain desh ki seva kar rahen hain thanx

    उत्तर देंहटाएं
  11. अगर कलम के सिपाही सो गये...
    तो वतन के मसीहा वतन बेच देंगे...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहतरीन ग़ज़ल। विचारोत्तेजक और मन को उद्वेलित कर देने वाली।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर एवं सार्थक रचना! बेहतरीन प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  14. पैसे के लिए तो यह अपने आप को बेच दें। देते भी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. देश भक्ति से ओतपोत यह रचना काबिले तारीफ़ है शास्त्री जी ...धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  16. वतन बेच देंगें चमन बेच देंगें -ये खुद गरज कुछ भी बेच देंगें .अच्छी बहुत अच्छी मार्मिक रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  17. लगा हैं इन्हें रोग दौलत का ऐसा,
    बहन-बेटियों के ये तन बेच देंगे।
    ...

    बहुत सटीक प्रस्तुति..मन को उद्वेलित करती एक उत्कृष्ट रचना..आभार

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails