"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 3 जुलाई 2011

"मिट गया है वजूद" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


चवन्नी ने दम तोड़ दिया है
अठन्नी की बारी है
रुपया सोच रहा है
मेरा भी अन्जाम
यही होगा एक दिन
--
वो दिन दूर नहीं
जब आयेगा
दस हजार का नोट
और करेगा
अर्थव्यवस्था पर चोट
--
तब मिटेगी गरीबी?
जी नहीं
मिट जाएँगे गरीब
ठीक बैसे ही
जैसे चवन्नी का
मिट गया है वजूद
--
नोटों ने हमेशा
सिक्कों को कुचलना है
बड़ों को पनपना है
छोटों को मिटना है

24 टिप्‍पणियां:

  1. तब मिटेगी गरीबी?
    जी नहीं
    मिट जाएँगे गरीब
    ठीक बैसे ही
    जैसे चवन्नी का
    मिट गया है वजूद
    वाह जी बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. चव्वनी के जाने से कई परेशानियां खड़ी कर दी हैं... मसलन ...
    १. हम सवा रूपया का प्रशाद नही चढ़ा सकते ....
    २.हम किसी को सवा ग्यारह का सगुन नही दे सकते ... ३.अब हम किसी को 'चव्वनी-छाप' नही कह सकते..
    क्योकि आने वाली पीढ़ी को पता ही नही चलेगा की 'चव्वनी' कहते किसे थे ...हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  3. वो दिन दूर नहीं
    जब आयेगा
    दस हजार का नोट
    और करेगा
    अर्थव्यवस्था पर चोट
    --
    तब मिटेगी गरीबी?
    जी नहीं
    मिट जाएँगे गरीब
    ठीक बैसे ही
    जैसे चवन्नी का
    मिट गया है वजूद

    शास्त्री जी! हम कितना भी शोर करें पर हम जानते हैं और हमें मान भी लेना चाहिए कि यही कुदरत का नियम हैं हर छोटा बड़ों का ग्रास बनता है। बुद्धि-बल ज़ुरूर प्रभावी होता है पर जहाँ ज़रा भी चूक हुई कि गई भैंस पानी में कोशिश होनी चाहिए कि चूक न हो

    उत्तर देंहटाएं
  4. badon ko shayad pata hi nahi hai ki unka vajood hi choton se bana hai.bahut achcha likha hai Shastri ji.

    उत्तर देंहटाएं
  5. चवन्नी के माध्यम से व्यवस्था पर गहरी चोट .

    उत्तर देंहटाएं
  6. नोटों ने हमेशा
    सिक्कों को कुचलना है
    बड़ों को पनपना है
    छोटों को मिटना है
    lekin kranti ki chingari bhi aise me hi bhadak uthhti hai .achchhi kavita .aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  7. बड़ों को पनपना है |
    छोटों को मिटना है ||

    बहुत-सुन्दर
    शास्त्री जी बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  8. रुपया सोच रहा है
    मेरा भी अन्जाम
    यही होगा एक दिन
    sahi kaha hai aapne kyonki ye hi to ho raha hai aur athanni ka kya vo bhi lagbhag bazar se out ho chuki hai keval mandir me chadhaye jane ke liye rakhi hai.sundar bhavabhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  9. तब मिटेगी गरीबी?
    जी नहीं
    मिट जाएँगे गरीब
    ठीक बैसे ही
    जैसे चवन्नी का
    मिट गया है वजूद


    बड़ी मछली छोटी मछली को खा जाति है ..सही कहा है

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (4-7-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. गेहूं के साथ घुन को भी पिसना है ,सब आंकड़ों की बाजीगरी है शाष्त्री जी -एक बाज़ीगर रोज़ -बा -रोज दिखा रहा खेल ,आंकड़े बे -मेल ,गरीबों को दिखा रहा है ,गरीबी रेखा को घटा रहा है .अच्छी कविता चवन्नी से कोंग्रेस के आम -आदमी तक सब यकसां हैं कहीं कोई वजूद नहीं .

    उत्तर देंहटाएं
  12. न रही चवन्नी कुछ खोने का सा अहसास है

    उत्तर देंहटाएं
  13. रुपये की भभक में चवन्नी को सबक।

    उत्तर देंहटाएं
  14. तब मिटेगी गरीबी?
    जी नहीं
    मिट जाएँगे गरीब
    ठीक बैसे ही
    जैसे चवन्नी का
    मिट गया है वजूद

    सटीक....

    उत्तर देंहटाएं
  15. छोटे सिक्के गायब होंगे और बड़े नोट सिक्कों में ढलने लगेंगे ...
    रोचक प्रविष्टि !

    उत्तर देंहटाएं
  16. अब छोटे सिक्कों का ज़माना गया! बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. चवन्नी के माध्यम से व्यवस्था पर गहरी चोट .
    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails