"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 20 जुलाई 2011

"बेवफा से वफा की उम्मीद ही बेकार हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

इस ग़ज़ल में एकवचन-बहुवचन का दोष है।
चित्त एकाग्र होने पर सुधार कर लूँगा!


थे कभी शागिर्द जो करने लगे वो वार हैं
गुर नहीं जो जानते लेकर खड़े हथियार हैं

तीर तरकश में बहुत होंगे हमें सब कुछ पता,
फूल भी अपने चमन के बन गये अब खार हैं

है बहुत बेचैन दिल नादानियों को देखकर,
अमन के पैगाम में बढ़ने लगी तकरार है

साथ परछाई नही देती कभी तंगहाल में
ज़र के पीछे भागते देखे यहाँ किरदार हैं

जो न अपनों का हुआ गैरों का होगा क्या भला
बेवफा से वफा की उम्मीद ही बेकार है

जब यक़ीदा ही नहीं व्यापारियों के बीच में
इस पार हम उस पार वो और बीच में दीवार है

हो भले ही दुश्मनी लेकिन समझदारी तो हो
अब दरकते पर्वतों के मिट गये आधार हैं

रूप नालों ने दिखाया जब हुई बरसात है
झूठ का व्यापार है खुदगर्ज़ ये संसार है 

35 टिप्‍पणियां:

  1. जो न अपनों का हुआ गैरों का होगा क्या भला
    बेवफा से वफा की उम्मीद ही बेकार हैं
    कया बात है शास्त्री जी! आज तो बहुत ही आनंद आया इस ग़ज़ल को पढकर!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन रचना.... वाकई यह संसार बेबफा है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो न अपनों का हुआ गैरों का होगा क्या भला
    बेवफा से वफा की उम्मीद ही बेकार हैं।

    कृतघ्न की सटीक व्याख्या!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो न अपनों का हुआ गैरों का होगा क्या भला
    बेवफा से वफा की उम्मीद ही बेकार हैं...
    सटीक कहा है आपने! बहुत सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत गजब लिखा है...और कभी ये हकिकत भी होती है..जिसको आपने बड़े सुन्दर तरीके से कलमबद्ध किया है..आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. ह्रदय के भावो को ज्यों का त्यों प्रस्तुत कर दिया है आपने .यथार्थ को अभिव्यक्ति प्रदान करती आपकी रचना मन को छू गयी .आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. aadarniy sir
    bahut hi yatharth v sateek roop dikhaya hai aapne samaj ka .bahut hi achhi prastuti .
    par main ek baat kahna chahungi ki kabhi -kabhi gair bhi apne sagon se badh kar ho jaate hain .aap anytha na lijiyega .chunki ye ghatna mere saath ghatit ho chuki hai.
    bahut hi badhiya prastuti
    hardik naman
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरती से मन के भावों को कहा है ... अच्छी प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. हो भले ही दुश्मनी लेकिन समझदारी तो हो
    ये आपने सो आने सच्ची बात कही शास्त्री जी.आभार अच्छी सीख देने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपने दिखा कर सपने दे जाते है धोखा पीड़ा बहुत होती है मन मे पर करें क्या आदत नही है जो हम भी खोजे मौका

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी रचना अपने आप में सुंदर है।
    ...लेकिन आदमी हमेशा बेवफ़ा नहीं होता बल्कि कभी कभी वह हालात का मारा हुआ या किसी ग़लत दोस्त के फेर में आकर ग़लत फ़ैसले लेने वाला भी होता है यानि कि बहुत सी ऐसी सिचुएशन्स हैं कि आदमी बेवफ़ा न हो और उससे वफ़ा की आशा रखने वाले की अपेक्षा पूरी न हो पा रही हो।
    हिंदुस्तानी फ़िल्मों में ऐसी बहुत सी सिचुएशन्स डिस्कस की गई हैं। डिस्कस क्या बल्कि फ़िल्माई गई हैं।
    पता चला कि हीरोईन त्याग की मूर्ति है और हीरो उसे ग़लत समझ रहा है। इसीलिए मुझे फ़िल्म का क्लाईमेक्स हमेशा से पसंद है क्योंकि उसमें ग़लतफ़हमियों का अंत हो जाता है।
    राजा हिन्दुस्तानी का नाम भी इस विषय में एक अच्छा नाम है। उसके गाने भी काफ़ी लोकप्रिय हैं।
    ख़ैर, वह जीवन ही क्या जिसमें सब रस न हों ?
    कवि को तो सभी रसों को अभिव्यक्ति देनी पड़ती है।
    आपकी रचना सचमुच अच्छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. jahan-tahan urdu lafzo ka prayog kahne ke bhaav ko damdaar bana raha hai. bahut gehri chot karti hui aapki rachna sateek hai.

    उत्तर देंहटाएं
  13. dr.saheb,g eve,bhale hi be-vafa se vafa ki ummid hi bekar ho,lekin aap se hamen poori ummid hai ki aap prayas nahi chhodengen,vo apana dharm nibha raha hai to aap bhi apana dharm nibhane mse pichhe hatane walon m se nahi ho .lage raho munna bhai ki taraz par .mangalkamana.

    उत्तर देंहटाएं
  14. dil ke dard ko rachanaa main utaraa hai.bahut gaharai liye hue dardmai gajal.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेहतरीन भावों से सजी सुंदर गजल। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  17. शास्‍त्री जी आपसे इस वार की, तलवार की धार की उम्‍मीद न थी। खैर ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. अब गर्दन काट ही दी तो क्‍या कीजै ?

    उत्तर देंहटाएं
  19. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. अविनाश जी!
    रचना पर कमेंट कीजिए!
    हम भी आपके मित्र ही हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत उम्दा सुन्दर और धारदार शानदार प्रस्तुति………ये दुनिया ऐसी ही है किसी का ना हुई है ना होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुन्दर अभिव्यक्ति की है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  23. “रूप” नालों ने दिखाया जब हुई बरसात है
    झूठ का व्यापार है खुदगर्ज़ ये संसार है

    bahut umda....

    उत्तर देंहटाएं
  24. सभी एक से बढ़कर एक.. लेकिन एक बात तो है कि बेवफा में वफा भी शामिल है...

    उत्तर देंहटाएं
  25. रचना में इस बार अलग-सा रंग देखने को मिला.क्या कहने हैं.इसे पढ़ते वक़्त किसी का एक बहुत प्यारा शेर याद आ गया,आप भी सुनिए:-

    वफ़ा के नाम पे इतने गुनाह होते हैं.
    ये उनसे पूछे कोई जो तबाह होते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  26. गहरी कविता, अपनों की पीड़ा भी गहरी होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  27. साथ परछाई नही देती कभी तंगहाल में
    ज़र के पीछे भागते देखे यहाँ किरदार हैं

    jeewan ka sach...behtarin tarike se bayan kiya hai aapne..

    उत्तर देंहटाएं
  28. जो न अपनों का हुआ गैरों का होगा क्या भला
    बेवफा से वफा की उम्मीद ही बेकार है

    एकदम दुरुस्त हैं

    उत्तर देंहटाएं
  29. बेहतरीन रचना.... वाकई यह संसार बेबफा है...

    उत्तर देंहटाएं
  30. जो न अपनों का हुआ गैरों का होगा क्या भला
    बेवफा से वफा की उम्मीद ही बेकार हैं।..बहुत सुन्दर दिल से निकली गजल है...आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  31. जो न अपनों का हुआ गैरों का होगा क्या भला
    बेवफा से वफा की उम्मीद ही बेकार हैं।..बहुत सुन्दर दिल से निकली गजल है...आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  32. वा‍ह ...बहुत खूब कहा है आपने ...बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails