"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 7 जुलाई 2011

"लुटता हुआ वतन होता है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

जब एकाकीपन होता है।

तब ही कुछ चिन्तन होता है।।


सूरज हँसता जब अम्बर में
आलोकित उपवन होता है।

जब विचार की धारा बहती
छाया नभपर घन होता है।

कंगाली में आटा गीला
बरस रहा सावन होता है।

जो रहते हैं संगे-महल में
उनका पत्थर मन होता है।

ढका हुआ उजले लिबास में
मैला-मैला तन होता है।

राम नाम की लूट मची है
लुटता हुआ वतन होता है।

रूप अनोखा इस दुनिया का
ख़ुदा जहाँ पर धन होता है

26 टिप्‍पणियां:

  1. शास्त्री जी,नमस्कार !
    सही चिन्तन हुआ है ...आप की कलम से ...

    ढका हुआ उजले लिबास में
    मैला-मैला तन होता है।
    बधाई !
    शुभकामनायें १

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो रहते हैं संगे-महल में
    उनका पत्थर मन होता है।

    ....बहुत सुन्दर और सार्थक रचना..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज का कटु सत्य बयाँ कर दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी कविता है दादा
    राम नाम की लूट मची है
    लुटता हुआ वतन रोता है।
    तो बहुत ही सुन्दर बन पड़ी है

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद साफगोई ...खुदा के घर मिला इतना मूल्यवान खजाना ....? आजकल तो खुदा भी नेताओं की तरह बन गया हैं ...स्विस बैंक ( तलघर ) में छिपा कर रखना पड़ रहा है उसको अपना धन ? वाह ! जब खुदा का यह हाल हैं तो हम तो इंसान है ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. कलम 'रूप' की लिक्खे कुछ भी,
    उम्दा बहुत सुखन होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंकजी,
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल शेयर करने के लिये बहुत बहुत आभार,

    उत्तर देंहटाएं
  8. ढका हुआ उजले लिबास में,
    मैला मैला मन होता है !
    यथार्थ का बेहद सटीक चित्रण !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. जो रहते हैं संगे-महल में
    उनका पत्थर मन होता है।

    बढि़या ||

    उत्तर देंहटाएं
  10. ढका हुआ उजले लिबास में ,
    मैला मैला तन होता है .
    सुनदर नव गीत ,भाव और अर्थ सौन्दर्य व्यंग्य विडंबना अपने लघु कलेवर में समेटे हुए . .

    उत्तर देंहटाएं
  11. dr.saheb mann ki pida sabaki pida hai fir bhi naa jane kyon sabako mithi lagati hai sadhuwad

    उत्तर देंहटाएं
  12. अग्नि जला कर जिसे निखारे
    अरे ! वही कुंदन होता है.
    लिपटे तन पर नाग विषैले
    वृक्ष वही चंदन होता है.

    प्रेरणाजनित .....

    उत्तर देंहटाएं
  13. सब कुछ कह दिया आपने साफ़ साफ यही सच है... हर चीज के दो पहलु हैं... आपके गीत में इन दोनों पहलुओं को हमारे सामने रखा| साधुवाद!
    आप मेरे ब्लॉग पर आये इसके लिए भी बहुत बहुत धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  14. शास्त्री जी! निराला जी को इस बात का बहुत ही मलाल था कि तुलसी दास ने सब कुछ लिख दिया अब वे क्या लिखें और इस आक्रोश को वे बहुत वीभत्स तरीके से व्यक्त करते थे, आपकी यह रचना पढ़कर इस समय मेरा भी हाल कुछ निराला जी जैसा ही हो रहा है। बस मैं उतना आक्रोशित नहीं हो सकता वह भी आपके प्रति

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस दुनिया में धन ही खुदा होता है ...
    एकदम ठीक ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. कंगाली में आटा गीला
    बरस रहा सावन होता है

    bahut hee badhiya geet!

    उत्तर देंहटाएं
  17. as usual...pyari si rachna....ham jaiso ke comments se upar ki rachna...:)

    उत्तर देंहटाएं
  18. bahut hi bahtreen kavita har line ko bar bar padne ko man karta hai sorry thoda late padhi.post ke liye aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  19. आप का बलाँग मूझे पढ कर आच्चछा लगा , मैं बी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी कविता में है वो नशा
    बस पढ़ते जाने का मन होता है....
    अत्यंत उत्तम कविता है ये मयंक जी!!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails