"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 19 जुलाई 2011

"मैंने पाषाण बनाया है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

सबसे पहले यह गीत पढ़िए  
 जितने ज्यादा आघात मिले,
उतना ही साहस पाया है।
मृदु मोम बावरे मन को अब,
मैंने पाषाण बनाया है।।

था कभी फूल सा कोमल जो,
सन्तापों से मुरझाता था,
पर पीड़ा को मान निजी,
आकुल-व्याकुल हो जाता था,
इस दुनिया का व्यवहार देख,
पथरीला पथ अपनाया है।
मृदु मोम बावरे मन को अब,
मैंने पाषाण बनाया है।।

चिकनी-चुपड़ी सी बातों का,
अब असर नहीं कोई होता,
जिससे जल-प्लावन होता था,
वो कब का सूख गया सोता,
जो राग जगत ने है गाया,
मैंने वो साज बजाया है,
मृदु मोम बावरे मन को अब,
मैंने पाषाण बनाया है।।

झूठी माया, है झूठा जग,
छिपकर बैठे हैं भोले ठग,
बाहर हैं दाँत दिखाने के,
खाने के मुँह में छिपे अलग,
कमजोर समझकर शाखा को,
दीमक ने पाँव जमाया है।
मृदु मोम बावरे मन को अब,
मैंने पाषाण बनाया है।।

अब यह 1 मिनट का वीडिओ देखिए! 
साहित्य शारदा मंच खटीमा के बैनर तले एक कविगोष्ठी का आयोजन किया गया!
साधना न्यूज चैमल द्वारा इसकी कवरेज दिखाई गयी!
आयोजक-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

24 टिप्‍पणियां:

  1. दुनिया की सच्चाई दर्शाता गीत.
    बहुत सुन्दर.
    वीडियो भी देखा.बधाई आपको.

    उत्तर देंहटाएं
  2. दुनिया के रंग हैं ये
    बहुत सुंदर गीत....

    उत्तर देंहटाएं
  3. झूठी माया, है झूठा जग,
    छिपकर बैठे हैं भोले ठग,
    बाहर हैं दाँत दिखाने के,
    खाने के मुँह में छिपे अलग,
    कमजोर समझकर शाखा को,
    दीमक ने पाँव जमाया है।
    मृदु मोम बावरे मन को अब,
    सही kiya shastri जी ये तो aapko बहुत pahle कर lena chahiye tha ये संसार है ही ऐसा .यहाँ मृदु मन की कद्र ही kise है.शानदार प्रस्तुति.badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ...बहुत ही बढि़या ...।

    उत्तर देंहटाएं
  5. पहली बार यहाँ आया हूँ। बहुत सुन्दर और प्रवाहमयी कविता है। हर पंक्ति महत्वपूर्ण।

    उत्तर देंहटाएं
  6. चिकनी-चुपड़ी सी बातों का,
    अब असर नहीं कोई होता,
    जिससे जल-प्लावन होता था,
    वो कब का सूख गया सोता,

    bahut umda rachna likhi hai apne, padh ker bahut sakun mila, bahut gehre bahv chupa rakhehai aapne apni is rachna m ein...........badhai

    उत्तर देंहटाएं
  7. ख़ूबसूरत रचना और साथ में विडियो देखकर बहुत अच्छा लगा! अनुपम प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर........ख़ूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. आजकल सब जगह ऐसे ही व्य्वहार के लोग पाये जाते हैं. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपका अपना हृदय तो कभी पाषाण नहीं सकता. जिसमें प्रेम भरा है, वह बाहर छलक ही आयेगा, लाख रोकने की कोशिश कर लीजिये. गोष्ठी के सफल आयोजन के लिये पुन: बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  11. चन्दन जी पहली बार आये गुरुदेव की
    रचना का रसास्वादन किया ||
    उन्हें बधाई ||
    अब मैं तो हाजिरी लगा के ही निकल लेता हूँ ||

    उत्तर देंहटाएं
  12. चिकनी-चुपड़ी सी बातों का,
    अब असर नहीं कोई होता,
    जिससे जल-प्लावन होता था,
    वो कब का सूख गया सोता,
    जो राग जगत ने है गाया,
    मैंने वो साज बजाया है,
    मृदु मोम बावरे मन को अब,
    मैंने पाषाण बनाया है।।

    अरे मयंक जी, हमारी टिप्पणी का असर तो होगा ना? बड़ी दुविधा है अच्छा लिखूं तो
    चिकनी-चपड़ी बात लगेगी, खिंचाई करूँ तो मन वैसे ही पाषाण हो गया है, फर्क नहीं पड़ेगा,
    इसलिए लिख देता हूँ कि ठीकठाक रचना है, ज्यादा अच्छी भी नहीं है और उतनी खराब भी नहीं
    पढी जा सकती है...

    उत्तर देंहटाएं
  13. उच्च कोटि की कविता पढ़ कर यूँ बेसुध हुये मानों पाषाण हो गये.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  15. bahut sundar shashtri ji....mom bane is bawre mann ko ab pashan bnaya hai....kavi goshthi ke liye badhai..

    उत्तर देंहटाएं
  16. बनाना पड़ता है जी बनाना पड़ता है वर्ना आदमी जी ही नहीं पाएगा इस बेवफ़ा दुनिया में। इस तरह की आपसी सुख दुख की बातचीत के लिए
    ब्लॉगर्स मीट अब ब्लॉग पर आयोजित हुआ करेगी और वह भी वीकली Bloggers' Meet Weekly

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन के भावों को बहुत खूबसूरती से लिखा है ...सच्चाई बताती अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सशक्त पंक्तियाँ, सोचने को विवश करती हुयी।

    उत्तर देंहटाएं
  19. जीवन का सत्य यही है..... धीरे धीरे पाषाण बन जाते है.....कविता में बहुत प्रवाह था . अच्छी लगी रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. Bahut accha likhte h sir aap,apne jeevan kaal me mai 1 baar aapse jaroor milna chahunga...

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुंदर भावो से सजी एक कलात्मक रचना ..वीडियो भी अच्छा था ..बधाई ! ऐसे कार्यक्रमों का संचालन करने पर ..

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails