"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 14 जुलाई 2011

"आज के दोहे" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


समझ न पाया आजतक, क्या होता भूगोल!
घोटालों में दब गये, मुद्दे सब अनमोल!!

चार दिनों की चाँदनी, उसके बाद अँधेर।
जल्दी-जल्दी लूट ले, क्यों करता है देर।।

जो कुछ है अब घट रहा, वो होगा इतिहास।
क्या होगा परिणाम कल, इसका है आभास।।

गान्धी जी के देश में, रावण करते राज।
कारागृह में बन्द हैं, राम-लक्ष्मण आज।।

राम राज का स्वप्न अब, कैसे हो साकार।
नीचे से ऊपर तलक, छाया भ्रष्टाचार।। 

22 टिप्‍पणियां:

  1. राम राज्य में सीता हुई वनवासी

    गाँधी के वक़्त में भगत को लगी फांसी

    कौन से युग में

    किसी का कब हुआ भला

    जो अब होगा ...........आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut uttam sateek dohe maja aa gaya padhkar.vicharniye sthiti ko rubaroo karate dohe.

    उत्तर देंहटाएं
  3. राम राज का स्वप्न अब, कैसे हो साकार।
    नीचे से ऊपर तलक, छाया भ्रष्टाचार।।
    बेजोड़ शास्त्री जी। दो लाइन में जो बात कह दी जाती है, वह लंबी कविता में भी नहीं मिलती। मुझे यह विधा सीखना है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. गान्धी जी के देश में, रावण करते राज।
    कारागृह में बन्द हैं, राम-लक्ष्मण आज।।

    बहुत सारगर्भित सुन्दर दोहे ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सारगर्भित सुन्दर दोहे ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर दोहों की लगी, लम्बी बड़ी कतार |
    अपने पर ही बोझ ये, नालायक सरकार ||

    उत्तर देंहटाएं
  7. दोहे को ऐसा दुहा, जैसे दुहते गाय!
    एक-एक दोहा अमृत है, जैसे होती चाय !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. अदभुद दोहे ...हर दोहा चकित कर रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  9. चार दिनों की चाँदनी, उसके बाद अँधेर।
    जल्दी-जल्दी लूट ले, क्यों करता है देर।।

    सत्य दर्शाते दोहे हैं गुरु जी!
    आज गुरु पूर्णिमा के अवसर पर आपको शत शत प्रणाम मेरी तरफ से!

    उत्तर देंहटाएं
  10. लाजवाब दोहे गुरुजी
    आज की व्यथा को जताते हुये

    गुरु पूर्णिमा के अवसर पर आपको शत शत प्रणाम मेरी तरफ से!

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज के दोहे बेमिसाल....
    उपमेय - उपमान का समीकरण बेजोड़
    दस रस अब तक थे सुने,ग्यारह्वाँ-"झंझोड़".
    तब भी डायनासौर थे , अब भी डायनासौर
    तब के बड़े भयानक थे, अब के हैं सिरमौर.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही अच्छा लिखा है आपने सत्य है इन बेईमानो का नाम इतिहास मे काले अक्षरो से लिखा जायेगा

    उत्तर देंहटाएं
  13. जो कुछ है अब घट रहा, वो होगा इतिहास।
    क्या होगा परिणाम कल, इसका है आभास।।
    शानदार और सटीक दोहे !

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप तो दोहा विधा में प्रवीण हैं शास्त्री जी कई बार आपके द्वारा रचित दोहे पढ़ चुकी हूँ। बहुत अच्छे दोहे धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails