"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 18 जुलाई 2012

"इस दुनिया से वह चला गया" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरे शुरूआती दौर की 
एक बहुत पुरानी रचना!

जल में मयंक प्रतिविम्बित था,
अरुणोदय होने वाला था।
कली-कली पर झूम रहा,
एक चंचरीक मतवाला था।।

गुंजन कर रहा, प्रतीक्षा में,
कब पुष्प बने कोई कलिका।
मकरन्द-पान को मचल रहा,
मन मोर नाच करता अलि का।।

लाल-कपोल, लोल-लोचन,
अधरों पर मृदु मुस्कान लिए।
उपवन में एक कली आयी,
सुन्दरता का वरदान लिए।।

देख अधखिली सुन्दर कलिका,
भँवरे के मन में आस पली।
और अधर-कपोल चूमने को,
षट्पद के मन में प्यास पली।।

बस रूप सरोवर में देखा,
और मुँह में पानी भर आया।
प्रतिछाया को समझा असली,
और मन ही मन में ललचाया।।

आशा-विश्वास लिए पँहुचा,
अधरों से अधर मिला बैठा।
पर भीग गया लाचार हुआ,
जल के भीतर वह जा पैंठा।।

सत्यता समझ ली परछाई,
कामुकता में वह छला गया।
नही प्यास बुझी उस भँवरे की,
इस दुनिया से वह चला गया।।

25 टिप्‍पणियां:

  1. सरल शब्दों की सार्थक कविता

    उत्तर देंहटाएं
  2. भगवान् उनकी आत्मा को शान्ति प्रदान करे |
    सादर नमन ||

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. काका का वो कहकहा, कथ्यों का आनंद ।
      वर्षों से पड़ता रहा, मंद मंद अब बंद ।

      मंद मंद अब बंद, सुपर-स्टार बुलवाये ।
      तारा मंडल बड़ा, गगन पर प्रभु जी लाये ।

      चमकोगे अनवरत, दिखोगे छैला बांका ।
      खूब करो आनंद, प्रेम नगरी में काका ।।

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर अद्दभुत सन्देश छलावा के मोह पाश से दूर रहना चाहिए ...वाह

    उत्तर देंहटाएं
  4. सत्यता समझ ली परछाई,
    कामुकता में वह छला गया।
    नही प्यास बुझी उस भँवरे की,
    इस दुनिया से वह चला गया।।
    सुन्दर है बहुत .रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. dr.saheb aap hi kahate hain purani rachana lekin padhane par laga jaise nayee hi hai.kaljayi rachana ke liye sadhuwad

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन रचना...
    राजेश खन्ना जी को श्रद्धांजलि

    उत्तर देंहटाएं
  7. राजेश खन्ना जी को श्रद्धांजलि देते हए बेहतरीन रचना ,,,,,,

    RECENT POST ...: आई देश में आंधियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. उम्दा रचना ...आज के दिन के लिए सार्थक

    उत्तर देंहटाएं
  9. आत्‍मा का विभिन्‍न्‍ा रूपो मे सुन्‍दर वर्णन कर सार्थर बाते समझाने का धन्‍यवाद
    यूनिक तकनीकी ब्लाग

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर शब्दों में श्रद्धांजलि हीरो को !

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया सार्थक प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. कल 20/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेहतरीन रचना.
    राजेश खन्ना जी को श्रद्धांजलि.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सत्‍य के दर्शन कराती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर भाव ,सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails