"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 26 जुलाई 2012

“रूप” को छूकर नहीं मैला करो" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


तुम कभी तो प्यार से बोला करो।
राज़ दिल के तो कभी खोला करो।।

हम तुम्हारे वास्ते घर आये हैं,
मत तराजू में हमें तोला करो।

ज़र नहीं है पास अपने तो ज़िगर है,
चासनी में ज़हर मत घोला करो।

डोर नाज़ुक है उड़ो मत फ़लक में,
पेण्डुलम की तरह मत डोला करो।

राख में सोई हैं कुछ चिंगारियाँ,
मत हवा देकर इन्हें शोला करो।

आँख से देखो-सराहो दूर से,
रूप को छूकर नहीं मैला करो।

17 टिप्‍पणियां:

  1. डोर नाज़ुक है उड़ो मत फ़लक में,
    पेण्डुलम की तरह मत डोला करो।
    बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. आहा....
    बहुत बेहतरीन
    बहुत बेहतरीन..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. आँख से देखो-सराहो दूर से,
    “रूप” को छूकर नहीं मैला करो।

    ख्याल बहुत सुन्दर है और निभाया भी है आपने उस हेतु बधाई
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह! मिन्नत भरी आरजू ...
    खूबसूरत !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आँख से देखो-सराहो दूर से,
    “रूप” को छूकर नहीं मैला करो।
    some people are beautiful like flowers just by being .
    Beauty is to see not to touch .उनका होना ही चमन में फूल खिला देता है ,रोते हुए को हंसा देता है ...बढ़िया प्रस्तुति है .

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ! सलाह अच्छी है !

    आँख से देखो-सराहो दूर से,
    “रूप” को छूकर नहीं मैला करो।

    करने वाले अगर मान लेंगे
    छूकर नहीं फिर देख कर
    आँख से भी मैला करेंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  8. sahi baat hai lekin aapka naam bhee "Roop"chandra hai, aur aapko choo ke to patthar bhee sona ban jaata hai!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप की इस प्रेमवादी रचना को पढ़ कर यह कुंडली मनसे फूट पडी --

    आओ पत्थर मार कर , 'वित्त्वाद' दें तोड़ |
    इस पिशाच ने की बहुत, शैतानों से होड़ ||
    शैतानों से होड़,नियम सब ताख में रखे |
    कपट और छल,बल, दल से सब स्वाद हैं चखे ||
    'मानवता'का शत्रु, न् इसको गले लगाओ |
    इस विकार को चलो मिटाने मिल कर आओ ||

    उत्तर देंहटाएं
  10. आँख से देखो-सराहो दूर से,
    “रूप” को छूकर नहीं मैला करो।
    बहुत सुन्दर भाव बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब .. मज़ा आ गया लाजवाब गज़ल में ... हर शेर भावमय ..
    नमस्कार शास्त्री जी ...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails