"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 6 जुलाई 2012

"सिफत आशीष लेने मेरे घर भी आई" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

बैशाखी के पावन पर्व पर

मेरे शिष्य सुरेन्द्र 'मुल्हिद' के घर
प्यारी बिटिया 'सिफत' जन्म लिया था।
तब मैंने बिटिया 'सिफत' पर एक कविता लिखी थी।

आज मेरे लिए आश्चर्य की बात यह थी कि
सुरेन्द्र 'मुल्हिद', उनकी पत्नी ईशा,
इस प्यारी सी बिटिया को लेकर मेरे निवास पर आये।

उनके साथ सिफत के मामा मंजीत सिंह और
सिफत की नानी श्रीमती अमृत कौर भी थीं।

सुरेन्द्र 'मुल्हिद' ने मेरे चरण स्पर्श करके

मुझे कुरते-पाजामे का वस्त्र भी भेंट किया।

इसके बाद यह लोग नानकमत्ता गुरूद्वारा में
मत्था टेकने के लिए चले गये।
सिफत को एक बार पुनः शुभाशीष देते हुए
अपनी एक पुरानी रचना पोस्ट कर रहा हूँ।

"घर आयी है राजदुलारी"

बैशाखी के पावन पर्व पर मेरे शिष्य सुरेन्द्र 'मुल्हिद' के घर प्यारी बिटिया इस अवसर पर 'मुल्हिद' जीऔर उनकी धर्मपत्नी कोढेरों शुभकामनाएँ! 'सिफत' को शुभाशीष के साथ-साथ यह रचना भी उपहार में दे रहा हूँ!

कितनी कोमल-कितनी प्यारी।
घर आयी है राजदुलारी।।
दीवारें कितनी उदास थीं
सूना-सूना घर-आँगन था,
प्यारी बिटिया बिना तुम्हारे,
खाली-खाली सा जीवन था,
चहक उठा है उपवन सारा-
महक उठी है बगिया सारी।
घर आयी है राजदुलारी।।
पहली बार पिता बनने का,
तुमसे ही सौभाग्य मिला है,
जीवन के इस वीराने में,
चम्पा जैसा सुमन खिला है,
गूँज उठी शहनाई जैसी,
नन्ही कलिका की किलकारी।
घर आयी है राजदुलारी।।

देता शुभआशीष तुम्हें मैं,
सदा स्वस्थ-प्रसन्न रहो तुम,
'मुल्हिद' समतल-भूतल में,
बनकर जल की धार बहो तुम,
तुम बहार बनकर आयी हो,
'सिफत' तुम्हीं तो हो फुलवारी।
घर आयी है राजदुलारी।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. मिला सिफत को ढेर सा, गुरुवर का आशीष |
    गुरु नानक की है कृपा , हो सबसे इक्कीस || ,

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह शास्त्री जी ममतामय फोटो चित्र और विवरण, साथ ही आपकी काव्यमय आशीर्वचन, आनन्द आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाकई आनन्दमयी है सिफत !

    उत्तर देंहटाएं
  4. किसे अधिक सुन्दर कहूँ -सिफ़त या उससे प्रेरित कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सिफत को सस्नेह आशीर्वाद,,,और बहुत२ प्यार,,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  6. ममतामय फोटो चित्र और विवरण,
    सिफत को सस्नेह आशीर्वाद..............
    और बहुत२ प्यार.......

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत प्यारी है सिफत.... सुंदर पंक्तियाँ रची हैं आपने....

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्यारी प्यारी राजदुलारी...ढेर सारा प्यार...

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावमय करते शब्‍दों का संगम ... अनुपम प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सिफ़त को ढेरों आशीर्वाद ………

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. aadarneey guru ji
    aapka aashirwaad paa ke meri bitiya dhanya ho gayee aur aap sabhi ke ashirwaad se wo bahut unnati kare yehi meri kaamna hai, aapko mil ke jeevan safal ho gaya!
    aabhaar!

    उत्तर देंहटाएं
  13. शास्त्री जी आपके लिए .....बहुत खूब ...और सिफत के लिए शुभ आशीष

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails