"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 8 मई 2011

"फसलें उगाकर देखिए" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


ग़ज़ल
  
पर्वतों से पत्थरों को तो उठाकर देखिए।
तोड़कर इनको कभी रोजी कमाकर देखिए।

शाख के गुल को कुचलना तो बहुत आसान है,
कण्टकों की राह पर भी पग बढ़ाकर देखिए।

दूर के ही ढोल लगते हैं सुहाने कान को,
ताल से इनकी कभी सुर को मिलाकर देखिए।

ग्रीष्म, बारिश-शीत में भी कर रहें काम जो,
साथ उनके चार पल भी तो बिताकर देखिए।

कितनी मेहनत से बनाते हैं परिन्दे घोंसले,
बीनकर तिनकों से अपना घर बनाकर देखिए।

हैं बहुत खुद्दार निर्धन, मुफ्त की खाते नहीं,
खेत में बँगलों से बाहर, हल चलाकर देखिए।

श्रमिक और किसान का भारत बसा है गाँव में,
मुफ्त का मत खाइए, फसलें उगाकर देखिए। 

28 टिप्‍पणियां:

  1. " श्रमिक और किसान का भारत बसा है गाँव में,
    मुफ्त का मत खाइए, फसलें उगाकर देखिए। "

    एक सार्थक सन्देश देती रचना ... आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. शाख के गुल को मसलना तो बहुत आसान है,
    कण्टकों की राह पर भी पग बढ़ाकर देखिए।


    बहुत खूबसूरत गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  3. ek naseehat deti hui gazhal....bahut uttam,atulniye shabd kum pad rahe hain taareef ke liye.pictures,n photo me farming bahut achchi lagti hai kintu jo vahan kaam karte hain haal vahi jaane.bahut sarahniye rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  4. " श्रमिक और किसान का भारत बसा है गाँव में,
    मुफ्त का मत खाइए, फसलें उगाकर देखिए। "
    सुंदर रचना ...सार्थक सन्देश

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्‍छा संदेश देती गजल, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दूर के ही ढोल लगते हैं सुहाने कान को,
    ताल से इनकी कभी सुर को मिलाकर देखिए।

    ग्रीष्म, बारिश-शीत में भी कर रहें काम जो,
    साथ उनके चार पल भी तो बिताकर देखिए।
    शास्त्री जीीआज के किसान की दुर्दशा उसकी अनदेखी के कारण ही हुयी है कविता के माध्यम से अच्छा सन्देश दिया। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. " श्रमिक और किसान का भारत बसा है गाँव में,
    मुफ्त का मत खाइए, फसलें उगाकर देखिए। "

    बहुत सु्न्दर संदेश देती सार्थक रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ज़बरदस्त सन्देश छिपा हर शेर में.

    कितनी मेहनत से बनाते हैं परिन्दे घोंसले,
    बीनकर तिनकों से अपना घर बनाकर देखिए।

    मुझे ये शेर ज़ियादा अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ग्रीष्म, बारिश-शीत में भी कर रहें काम जो,
    साथ उनके चार पल भी तो बिताकर देखिए।
    कितनी मेहनत से बनाते हैं परिन्दे घोंसले,
    बीनकर तिनकों से अपना घर बनाकर देखिए।
    बहुत ख़ूबसूरत कविता प्रस्तुत किया है आपने! हैपी मदर्स डे!

    उत्तर देंहटाएं
  10. कितनी मेहनत से बनाते हैं परिन्दे घोंसले,
    बीनकर तिनकों से अपना घर बनाकर देखिए।

    वाह वाह वाह....

    लाजवाब लिखा है आपने, बधाई.

    मेरे ब्लॉग दुनाली पर देखें-
    मैं तुझसे हूँ, माँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. 'मुफ्त का मत खाइए, फसलें उगाकर देखिए।'

    बहुत सच्ची और सार्थक बात कही है आपने शास्त्रीजी .

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (9-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. कितनी मेहनत से बनाते हैं परिन्दे घोंसले,
    बीनकर तिनकों से अपना घर बनाकर देखिए।

    यथार्थ को चित्रित करती बहुत सुन्दर प्रेरक रचना..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर, बेहतरीन अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत खूबसूरत रचना, धन्य्वाद

    उत्तर देंहटाएं
  16. अति-सुंदर गीत...बढ़िया लगी...धन्यवाद शास्त्री जी

    उत्तर देंहटाएं
  17. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. मदर्स डे की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  19. पर्वतों से पत्थरों को तो उठाकर देखिए।तोड़कर इनको कभी रोजी कमाकर देखिए।
    शाख के गुल को कुचलना तो बहुत आसान है,
    कण्टकों की राह पर भी पग बढ़ाकर देखिए।
    बहुत खूब शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत दिनों के बाद
    एक बहुत बढ़िया ग़ज़ल पढ़ने को मिली!
    --
    इसका नयापन
    इसकी एक महत्त्वपूर्ण विशेषता है!

    उत्तर देंहटाएं
  21. shashtri sahab aapki is rachana ko padhkar hamen bharat ke wastwik jan ki pratimurti jehan men utar aayi . laga
    do pratimurtyon ki samvedana vegmayi ho chali hai . bahut achha laga . aabhar ji .

    उत्तर देंहटाएं
  22. हैं बहुत खुद्दार निर्धन, मुफ्त की खाते नहीं,
    खेत में बँगलों से बाहर, हल चलाकर देखिए।

    इसे ही कहते हैं डिग्निटी ऑफ़ लेबर। बहुत ही संदेशपरक कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  23. हैं बहुत खुद्दार निर्धन, मुफ्त की खाते नहीं,
    खेत में बँगलों से बाहर, हल चलाकर देखिए।
    bahut sunder ghazal .
    har ek sher gahan abhivyakti liye hue ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत पसन्द आयी ग़ज़ल!
    आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails