"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 19 मई 2011

"मानो खुदा हो गया है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


क्या करूँ मित्रों!
अभी थोड़ी देर पहले अलबेला खत्री जी से चैट हो रही थी
और यह ग़ज़ल बन गई!
-0-0-0-0-0-
तुम्हारा मकां मयक़दा हो गया है।
यहाँ जो भी आया गधा हो गया है।

फक़त ज़ाम देखा, छुआ तक नहीं है,
मगर दिल अभी से फिदा हो गया है।

नज़र की कटारी जिसे तुमने मारी,
हमेशा को वो ग़मज़दा हो गया है।

भजन-कीर्तन और खाना-कमाना,
सिकन्दर का कब से जुदा हो गया है।

बनावट भरा रूप भाता बहुत है,
जवां जिस्म मानो खुदा हो गया है।

29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ख़ूबसूरत गज़ल..हरेक शेर बहुत लाज़वाब..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. gazal to idhar bhi taiyaar hai lekin aaj main zara guddu ko seedha karne me laga hoon isliye siva aapko badhaai dene ke aur main kar bhi kya sakta hoon

    bahut badhiya dada !

    umda gazal.............jai ho !

    केवल संयत, शालीन और विवादरहित टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी!

    is tippani se koi vivaad nahin hoga .....ha ha ha ha

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ख़ूबसूरत गज़ल| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या कहने , हर शे'र लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज की सच्चाई बयां करते एक से एक बढ़िया शेर - बहुत सही और बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  6. गहन शब्‍दों के साथ बेहतरीन शब्‍द रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. खुबसुरत गजल। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुझे इस गजल में कयामत दिखी है।
    ये मारू गजल किस कलम से लिखी है??

    उत्तर देंहटाएं
  9. आजकल आप रूप बदल बदल कर 'रूप' दिखा रहें हैं शास्त्री जी.आपका यह 'रूप' भी बहुत अच्छा लगा.अलबेला जी से चैट कर खूब अलबेलापन भी दिख रहा है आपकी सुन्दर प्रस्तुति में.

    उत्तर देंहटाएं
  10. नज़र की कटारी जिसे तुमने मारी,
    हमेशा को वो ग़मज़दा हो गया है।
    दिनों दिन हमतो आपके ग़ज़लकार “रूप” पर फ़िदा हुए जा रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. :) :) आज कल कुछ अलग ही मूड में दिख रहे हैं ..गज़ल जो न करवाए वो कम है ..

    बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  12. फटाफट एक गज़ल तैयार हो गई..क्या बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. अलबेला जी, ये क्या हो गया है
    बूढ़ा दिल फिर से जवाँ हो गया है

    बात करे है नयन कटारी की
    कैसा ज़ख़्म ये कहाँ हो गया है

    ख़ुदा है बस वही एक बलंदो-बाला
    मिटने वाला बदन कैसे ख़ुदा हो गया है

    किसे कैसे बचाए इस घायल से 'अनवर'
    इसी फ़िक्र में दिल मेरा धुआँ हो गया है

    उत्तर देंहटाएं
  14. शास्त्री जी ,प्रणाम
    आज की गजल अच्छी रही |आपके कमेंट्स से प्रोत्साहन मिलता है |मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  15. बढ़िया शेर निकाले हैं,शास्त्री जी.

    उत्तर देंहटाएं
  16. क्या बात है आप आरेंज कैप पर्पल कैप दोनो अपने नाम कर ली

    उत्तर देंहटाएं
  17. फक़त ज़ाम देखा, छुआ तक नहीं है,मगर दिल अभी से फिदा हो गया है।
    नज़र की कटारी जिसे तुमने मारी,हमेशा को वो ग़मज़दा हो गया है।bhaut hi behatrin shabdon ka chyan.bahut hi badiyaa gajal.badhaai aapko.aabhaar

    उत्तर देंहटाएं
  18. गज़ल पढ़के बूढ़ा जवां हो गया है.......

    बढ़िया प्रयास जो अनायास था !

    उत्तर देंहटाएं
  19. बनावट भरा रूप भाता बहुत है ,
    जवाँ जिस्म मानो खुदा हो गया है .
    नजर की कटारी जिसे तुमने मारी ,
    हमेशा को वह गमजदा हो गया है ।
    हमेशा को वह पर -कटा हो गया है . बेहतरीन अश -आर हैं आपके -
    खामोश ज़िन्दगी को आवाज़ दे रहे हो ,
    पर काट कर किसी के परवाज़ दे रहे हो .

    उत्तर देंहटाएं
  20. अलग अन्दाज की सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails