"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 11 मई 2011

"क्यों..?" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



मित्रों!
बहुत पहले यह छोटी सी रचना लिखी थी!
जिसका शीर्षक था क्यों?
इस क्यों.. का उत्तर आज तक नहीं मिला है!
युवा मन की इस रचना का 
आप भी आनन्द लीजिए
और इसका उत्तर मिले तो मुझे  भी बताइएगा! 
मेरे वीराने उपवन में,
सुन्दर सा सुमन सजाया क्यों?
सूने-सूने से मधुबन में,
गुल को इतना महकाया क्यों?

मधुमास बन गया था पतझड़,
संसार बन गया था बीहड़,
लू से झुलसे, इस जीवन में,
शीतल सा पवन बहाया क्यों?

ना सेज सजाना आता था,
मुझको एकान्त सुहाता था,
चुपके से आकर नयनों में,
सपनों का भवन बनाया क्यों?

मैं मन ही मन में रोता था,
अपना अन्तर्मन धोता था,
चुपके से आकर पीछे से,
मुझको दर्पण दिखलाया क्यों?

ना ताल लगाना आता था,
ना साज बजाना आता था,
मेरे वैरागी कानों में,
सुन्दर संगीत सुनाया क्यों?

15 टिप्‍पणियां:

  1. mohak bhav-pravar , bodhgamy rachana hriday ko chhuti huyi pyari lagi . sabhar sir /

    उत्तर देंहटाएं
  2. "मधुमास बन गया था पतझड़ -------पवन बहाया क्यूँ "
    भावपूर्ण रचना |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरे वैरागी कानों में आकर,
    सुन्दर संगीत सुनाया क्यों?
    इन प्रश्नों के उत्तर ना ही मिलें तो अच्छा है , सुन्दर रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. युवा -मन को समर्पित एक प्यारभरी कविता !कुछ पल ही सही हम भी युवा हो गए ---इतनी अच्छी कविता सुनाने का धन्यवाद शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ना ताल लगाना आता था,ना साज बजाना आता था,मेरे वैरागी कानों में,सुन्दर संगीत सुनाया क्यों?

    शास्त्री जी,आपकी 'क्यूँ' का जबाब तो मुझे 'ईश'
    कृपा ही लगता है.अब देखिये न यदि आपके 'वैरागी कानों' में सुन्दर संगीत न सुनाई पड़ता तो आपकी सुन्दर 'ताल' और 'साज' से हम तो वंचित ही रह जाते.
    लेकिन शास्त्रीजी एक बात बताईयेगा कि आपके कान वैरागी 'क्यूँ' हुए थे.क्या इसका राज हमें आप बतलायेंगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  6. गुरु जी
    आपने इतने दिनों बाद ये पोस्ट लगाई तो कहना चाहूँगा....
    इतनी खूबसूरत रचना को पोस्ट करने में,
    इतना वक़्त लगाया क्यों, इतना वक़्त लगाया क्यों
    आफरीन!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छा लगा पढ़कर। क्यों के सैकड़ों कौवे मन के उपवन में काँव काँव कर रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मधुमास बन गया था पतझड़,
    संसार बन गया था बीहड़,
    लू से झुलसे, इस जीवन में,
    शीतल सा पवन बहाया क्यों?
    दिल को छू गयी ये पंक्तियाँ! ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  9. चलो दिल्ली दोस्तों अब वक्त अग्या हे कुछ करने का भारत के लिए अपनी मात्र भूमि के लिए दोस्तों 4 जून से बाबा रामदेव दिल्ली के रामलीला मैदान में अनशन पर बैठ रहे हें हम सभी को उनका साथ देना चाहिए में तो 4 जून को दिल्ली जा रहा हु आप भी उनका साथ दें अधिक जानकारी के लिए इस लिंक को देखें
    http://www.bharatyogi.net/2011/04/4-2011.html

    उत्तर देंहटाएं
  10. ना ताल लगाना आता था,
    ना साज बजाना आता था,
    मेरे वैरागी कानों में,
    सुन्दर संगीत सुनाया क्यों?

    कोमल भावनाओं से सुरभित सुन्दर गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी रचना अच्छी है।
    आपके क्यों का उत्तर आपको हम दे देंगे लेकिन एक शर्त है कि आप हमारे ‘क्यों‘ का जवाब दे दीजिए।
    इस तरह हम दोनों एक दूसरे के क्यों को हल कर देंगे।
    कैसी तरकीब बताई , क्यों ?

    आखि़र ‘समझदार लोग‘ भ्रष्टाचार क्यों न करें, जबकि सदाचार का बदला असीमा के पापा को कुछ भी न मिला हो, सिवाय बर्बादी और गुमनामी के ? Solution

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेम रस से सराबोर कविता पढकर आनन्द आ गया।


    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (12-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. three days out of station hone ke kaaran yeh post der se padhi.bahut bahut khoobsurat prastuti.maja aa gaya padhkar.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails