"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 21 मई 2011

"भीड़ में नर तलाश करते हो" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"



नीड़ में ज़र तलाश करते हो!
भीड़ में नर तलाश करते हो!

छल-फरेबी के हाट में जाकर,
नीर में सर तलाश करते हो!!

शाख़ वालों से खौफ खाते हो,
चीड़ में जड़ तलाश करते हो!

दौर-ए-मँहगाई के ज़माने में,
खीर में गुड़ तलाश करते हो!

ज़ाम दहशत के ढालने वालो,
पीड़ में सुर तलाश करते हो!

रूप की लग रहीं नुमाइश हैं,
हूर में उर तलाश करते हो!
------
शब्दार्थ- सर=सरोवर

22 टिप्‍पणियां:

  1. कसम से क़यामत के दिन मजा आ गया. अब शांति से चला भी जाऊंगा तो अफ़सोस न होगा,ऐसी बेरहम दुनिया में न रहने का !

    उत्तर देंहटाएं
  2. शास्त्री जी आपका बॉलीवुड नहीं होलीवुड भी पक्का है.बस 'हूरों'से पंगा न लेना.
    देखतें हैं आपके 'रूप' की नुमाइश क्या क्या गुल खिलाती हैं.भाभीजी साथ रहेंगीं तो 'रूप' खिलेगा ही.
    अब तो दावत में आपको हमें खीर तो खिलानी ही पड़ेगी ,बेशक बिना गुड़ वाली हो.

    उत्तर देंहटाएं
  3. नीड़ में ज़र तलाश करते हो!
    भीड़ में नर तलाश करते हो!
    बहुत सटीक पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. अहा!
    हूर में उर तलाश करते हो।
    बहुत गहरी बात कह दी आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  5. uff sir ab bhi HUR ki talash...:)
    waise ek ek pankti sateek aur behatareen...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बड़ी गहरी और सामयिक बात कह दी आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ज़ाम दहशत के ढालने वालो,
    पीड़ में सुर तलाश करते हो!

    बेहतरीन पंक्तियाँ हैं सर!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. ज़ाम दहशत के ढालने वालो,
    पीड़ में सुर तलाश करते हो!
    bahut sateek panktiyan.bahut achchi rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  9. छल-फरेबी के हाट में जाकर,
    नीर में सर तलाश करते हो!

    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. नीड़ में ज़र तलाश करते हो!
    भीड़ में नर तलाश करते हो!

    क्या बात है

    उत्तर देंहटाएं
  11. दौर-ए-मँहगाई के ज़माने में,
    खीर में गुड़ तलाश करते हो!
    बिल्कुल सही लिखा है आपने! सटीक पंक्तियाँ! बेहतरीन रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  12. आजकल तो कमाल पर कमाल कर रहे हैं…शानदार लेखन का परिचायक है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. '' रूप” की लग रहीं नुमाइश हैं,
    हूर में उर तलाश करते हो!---

    आजकल क्या हो गया है आपको आप तो कमाल कर रहे है ...कहा से मिला वो हिरा ,जिसने कुंदन बना दिया शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  14. ज़ाम दहशत के ढालने वालो,
    पीड़ में सुर तलाश करते हो!

    “रूप” की लग रहीं नुमाइश हैं,
    हूर में उर तलाश करते हो!
    ------bahut hi gahari yathart ko darsaati bemisaal rachanaa.badhaai aapko.

    उत्तर देंहटाएं
  15. छल-फरेबी के हाट में जाकर,
    नीर में सर तलाश करते हो!!

    शाख़ वालों से खौफ खाते हो,
    चीड़ में जड़ तलाश करते हो!

    वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर कविता..........दिल को आनन्दित करती हुई पंक्तियाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  17. “रूप” की लग रहीं नुमाइश हैं,
    हूर में उर तलाश करते हो!


    bahut umdaa........हूर mei bas wahi dekhe..or kuch nahi hai dekhne or samjhne ko

    उत्तर देंहटाएं
  18. शाख़ वालों से खौफ खाते हो,
    चीड़ में जड़ तलाश करते हो!

    दौर-ए-मँहगाई के ज़माने में,
    खीर में गुड़ तलाश करते हो!
    बहुत सटीक पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  19. “रूप” की लग रहीं नुमाइश हैं,हूर में उर तलाश करते हो!------क्या कहना कमाल है आप की लेखनी में ,सलाम है आप की सोच को

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails