"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 22 मई 2011

"सूखे हुए छुहारे, उनको लुभा गये हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


chhuhara
पिछले वर्ष 
"प्रियवर अलबेला खत्री जी"
 
को समर्पित करते हुए 
यह गीत लिखा था!
आज पुनः आप सबके साथ 
इस अभिव्यक्ति को साझा कर रहा हूँ!  
 अंगूर के सभी गुण, 
किशमिश में आ गये हैं! 
सूखे हुए छुहारे, 
उनको लुभा गये हैं!! 

बूढ़े हुए तो क्या है, 
मन में भरा है यौवन, 
गीतों के जाम में ही, 
ढाला हुआ है जीवन, 
इस उम्र में भी हम तो, 
दुनिया को भा गये हैं! 
सूखे हुए छुहारे, 
उनको लुभा गये हैं!! 

बनकर नवल-नवेले, 
पापड़ बहुत हैं बेले, 
मिट्टी की हम महक में, 
नाचे हैं और खेले, 
उनकी नजर में हम तो, 
ब्लॉगिंग में छा गये हैं! 
सूखे हुए छुहारे, 
उनको लुभा गये हैं!! 

ठेले हैं शब्द हमने, 
कुछ जोड़-तोड़ करके, 
व्यञ्जन परोसते हैं, 
नींबू निचोड़ करके, 
वीणा सुतान सुनकर, 
यह राग पा गये हैं! 
सूखे हुए छुहारे, 
उनको लुभा गये हैं!!

22 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा हा सर! क्या बात है:))..बेहतरीन लिखा आपने.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सूखे हुए छुहारे जब उनको भा गए हैं
    बहती गंगा में आप नहा गए हैं

    उम्दा !

    मोम का सा मिज़ाज है मेरा / मुझ पे इल्ज़ाम है कि पत्थर हूँ -'Anwer'

    उत्तर देंहटाएं
  3. शानदार कविता, फ़ोटो देख कर तो खाने को मन भी कर रहा है,

    उत्तर देंहटाएं
  4. सर, एक कहावत है...साठा सो पाठा...जब से निशब्द आई है...छुहारों के भी भाव बढ़ गये हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  5. हंसने हँसाने की अच्छी व्यवस्था है

    उत्तर देंहटाएं
  6. शास्त्री जी सुनते है 'छुहारों' का दूध आजकल आपको बहुत भा रहा है.स्ट्रोक पर स्ट्रोक लगाये जा रहें हो. कभी चौक्का तो कभी छक्का.फिल्डिंग करते करते पसीना छुडवा दे रहें है. कहते हैं "नया नौ दिन पुराना सौ दिन".सूखे छुहारों से और क्या क्या कमाल करेंगें आप.

    नई पोस्ट आज ही जारी की है.थोड़े स्ट्रोक्स वहां भी हो जाये.

    उत्तर देंहटाएं
  7. aur yah haarya ras ki kavita humko bhaa gai.hahaha...maja aa gaya padh ke.but sookhe hue chuvare sabse jyada gunkaari hote hain.yeh bhi satya hai .

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये सूखे छुआरे तो सब पर भारी पड रहे है सारे ब्लोगर्स घबरा रहे हैं ……………बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह बहुत खूब्\ रहे सूखे हुये छुआरे। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. शास्त्री जी छुवारे तो स्वयं ही सूखे होते है इसीलिए खजूर नही छुवारे होते है
    अब हसने का उपक्रम करता हूँ हा हा हा
    गिन के तीन बार क्योकि तीन से तेरह बनते देर नही लगता
    मै ब्लागिंग करता हूँ इस आनंद से अपने को वंचित करके कैसे रहू
    बस अभी छुवरा नही बना हूँ
    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  11. बूढ़े हुए तो क्या है,
    मन में भरा है यौवन,
    गीतों के जाम में ही,
    ढाला हुआ है जीवन,
    इस उम्र में भी हम तो,
    दुनिया को भा गये हैं!
    सूखे हुए छुहारे,
    उनको लुभा गये हैं!!

    आप तो सदा बहार है शास्त्री जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ये तो बहुत ताक़तवर बात हो गई (ड्राईफ़ूट की बात जो है)
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैने तो आपको कहा ही था बिना पढ़े :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति। धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  15. :) क्या बात है बहुत बढ़िया.

    उत्तर देंहटाएं
  16. ये सूखे हुए छुहारे सभी ड्रायफ्रूट्स पर भारी पड रहे हैं ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails