"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 23 मई 2011

एमी लोवेल की कविता -"टुकड़ा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


"टुकड़ा" (Fragment' a poem by Amy Lowell)  

अनुवादक-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"


कविता क्या है?


♥ काव्यानुवाद ♥
कविता रंग-बिरंगे, मोहक पाषाणों सी होती है क्या?
जिसे सँवारा गया मनोरम, रंग-रूप में नया-नया!!
हर हालत में निज सुन्दरता से, सबके मन को भरना!
ऐसा लगता है शीशे को, सिखा दिया हो श्रम करना!!
इन्द्रधनुष ने सूर्यरश्मियों को जैसे अपनाया है!
क्या होता है अर्थ, धर्म का? यह रहस्य बतलाया है!!
 एमी लोवेल
जन्म - 1874
मृत्यु - 1925

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सधे और सशक्त शब्द में ... सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनुवाद के शब्‍द सशक्‍त है और भाव भी स्‍पष्‍ट है। लोवेल की कविता भी साथ में दे देते तो और भी अच्‍छा लगता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने सचमुच कमाल कर दिखाया। गद्य का अनुवाद ही एक मुश्किल काम होता है और काव्य का काव्य में अनुवाद तो वाक़ई एक जटिल काम है।
    शुक्रिया हिंदी ब्लॉगिंग को समृद्ध करने के लिए !

    http://auratkihaqiqat.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक उत्कृष्ट रचना है का बेहतरीन अनुवाद ......कविता के भावों को सहेजते शब्द ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय शास्त्री जी आपकी अनुवाद कला देख कर मन अभिभूत हो गया है... यह कविता मेरी पसंदीदा है... अजीत जी ने कहा कि कविता भी देते तो मैं ही प्रतुत करने का श्रेय ले लेता हूँ... कविता का चयन और अनुवाद दोनों अप्रतिम ..

    "What is poetry? Is it a mosaic
    Of coloured stones which curiously are wrought
    Into a pattern? Rather glass that's taught
    By patient labor any hue to take
    And glowing with a sumptuous splendor, make
    Beauty a thing of awe; where sunbeams caught,
    Transmuted fall in sheafs of rainbows fraught
    With storied meaning for religion's sake."

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको और अरूण जी को भी धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनुवाद के बाद भी रचना की जीवन्तता बनी हुई है आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. KAVITA KYA HAI DILI JAZBAAT KA IZHAR HAI , DIL AGAR BEKAAR HAI TO KAVIT BHEE BEKAR HAI BAS YU HEE DO PANKTIYAAN YAAD AA GAYEE THEE TO

    उत्तर देंहटाएं
  9. sundar anuvaad huaa hai badhai. apni anuwad patrika ''sadbhawana darpan'' ke anukool rachana hai. izazat de to ise agale ank men prakashit karana chauoonga.

    उत्तर देंहटाएं
  10. http://aduanapt.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूबसूरत अनुवाद .. अच्छी कविता को पढाने का आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर रचना है, अनुवाद कमाल का है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह …………अदभुत संयोजन्…………आप दोनो का आभार शास्त्री जी और अरुण जी …………आपके कारण इतनी गहन भावाव्यक्ति पढने को मिली।

    उत्तर देंहटाएं
  16. कमाल है शास्त्री जी, इतना सरस और सरल अनुवाद कि मन बस पढ़ते रहने को करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. bahut hi achchi kavitaa ka bahut achcha anuwaad kiyaa aapne.humko aek saarthek kavita padhne ka shobhagya mila .dhanyawaad aapka.



    please visit my blog and leave the comments also.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर अनुवाद किया है आपने! भावपूर्ण रचना!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails