"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 14 मई 2011

"विपदाओं में भूल न जाना" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


मित्रों!
आज हलका-फुलका ग़ज़ल/गीत ही प्रस्तुत कर रहा हूँ!
सुख-दुख के इस चक्रवात में,
साथी हरदम साथ निभाना।
गठबन्धन के वचनों को तुम,
विपदाओं में भूल न जाना।।

माना जीवनपथ दुर्गम है,
आज अमावस जैसा तम है,
हाथों में दीपक लेकर तुम,
मुझको सही राह दिखलाना।
गठबन्धन के वचनों को तुम,
विपदाओं में भूल न जाना।।

काँटों के सँग में रह लेना,
उनके नश्तर भी सह लेना,
अपनी निश्छल मुस्कानों से,
खुश होकर गुलशन महकाना।
गठबन्धन के वचनों को तुम,
विपदाओं में भूल न जाना।।

इक दिन बादल छँट जाएँगे,
सारे संकट कट जाएँगे,
सूरज उजियारा लाएगा
जब आयेगा समय सुहाना।
गठबन्धन के वचनों को तुम,
विपदाओं में भूल न जाना।।

28 टिप्‍पणियां:

  1. एक दूजे का साथ हो तो काँटे भी फूल बन जाते हैं ……………बेहद भावभीनी प्रस्तुति सुन्दर सीख भी देती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर ... अगर हल्का फुल्का इतना सुन्दर हो ..मन में उल्लास लाए तो ये हल्का फुल्का कई रचनाओं से भरी है/// बहुत सुन्दर रचना ..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. वंदना जी :) आपका मेरा क्लिक एक दम साथ साथ ..आपको भी नमस्ते..

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut saarthak rachna bahut nirmal gulaab jaisi komal.ati sunder.

    उत्तर देंहटाएं
  5. काँटों के सँग में रह लेना,
    उनके नश्तर भी सह लेना,
    अपनी निश्छल मुस्कानों से,
    खुश होकर गुलशन महकाना।
    गठबन्धन के वचनों को तुम,
    विपदाओं में भूल न जाना।।
    सकारत्मक सोच जिन्दगी जीने के लिए ....बहुत अच्छी और भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने सही कहा कि

    गठबन्धन के वचनों को तुम,
    विपदाओं में भूल न जाना।।


    http://quranse.blogspot.com/2011/05/quranic-teachings.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहद भावपूर्ण और सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  8. "
    काँटों के संग भी रह लेना --------भूल ना जाना "|
    बहुत अच्छी लगी ये पंक्तियाँ और पूरी रचना |
    बधाई |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच्चा साथ मिले तो हर संकट कट जाता है ...अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  10. यही आशाये होती हैं सच्चे साथी से..

    उत्तर देंहटाएं
  11. सरल शब्दों में जीवन की बेशकीमती सीख दे दी आपने ....सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुख-दुख के इस चक्रवात में,
    साथी हरदम साथ निभाना।
    गठबन्धन के वचनों को तुम,
    विपदाओं में भूल न जाना

    यथार्थ को व्यक्त करती एक भावपूर्ण रचना, शास्त्री जी तो हिंदी काव्य जगत की धरोहर है नमन

    उत्तर देंहटाएं
  13. भाषा को सरल रखते हुए भी सार गर्भित बातें कहना आप से सीखना होगा हमे

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुख-दुख के इस चक्रवात में,
    साथी हरदम साथ निभाना।
    गठबन्धन के वचनों को तुम,
    विपदाओं में भूल न जाना।।

    वह साथी की क्या जो दुःख में साथ न दे ..
    खुबसुरत रचना ...बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर भावमयी रचना..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच कहा आपने, विपदाओं में ही याद रखा जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  17. जो भुल जाए वो गठबधंन कैसा। सुन्दर रचना। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  18. भावपूरित इस कविता को पढ़कर बहुत अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  19. काँटों के सँग में रह लेना,
    उनके नश्तर भी सह लेना,
    अपनी निश्छल मुस्कानों से,
    खुश होकर गुलशन महकाना।
    गठबन्धन के वचनों को तुम,
    विपदाओं में भूल न जाना।।

    साथ हों तो शूल भी फूल लगते हैं बहुत ही प्यारा गीत.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. शास्त्री जी ...नमस्कार ...बहुत शर्मिंदा हूँ ..कुछ समय का अभाव था और आप तो बहुत अच्छा लिखते हैं और मैं लेखन में अभी सीखने के पड़ाव में हूँ ..आगे से आपको शिकायत नहीं होगी..... आपके मार्गदर्शन का इंतजार रहेगा......धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  21. जीवन सन्देशयुक्त सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  22. काँटों के सँग में रह लेना,
    उनके नश्तर भी सह लेना,
    अपनी निश्छल मुस्कानों से,
    खुश होकर गुलशन महकाना।
    गठबन्धन के वचनों को तुम,
    विपदाओं में भूल न जाना।।

    यही तो होगा प्यारा साथ ....
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  23. इक दिन बादल छँट जाएँगे,
    सारे संकट कट जाएँगे,
    सूरज उजियारा लाएगा
    जब आयेगा समय सुहाना।

    सहज अभिव्यक्ति के साथ आशावादी दृष्टीकोण से लबरेज़ सुन्दर पंक्तियाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  24. अपने जीवनसाथी के साथ-साथ मित्र को भी नसीहत देती हुई कविता !
    सरल एवं प्रवाहमय ढंग से प्रस्तुति कवि की योग्यता को प्रमाणित करती है !

    उत्तर देंहटाएं
  25. aadarniy sir
    sach ! aapki prastyti man me bas gai .bahut hi sahta ke saath aapne saathi ke saath ko baut bahut ahmiytata di hai jaisa ki haona bhi chahiye .pata nahi kyon aaj aapki post padh kar aankho me aansu aa gaye .shayad ye bhi aapki rachna ke sang ho liye
    bahut bahut behtareen rachna .ishwar karen ki saathi ka saath jivan paryant bana rahe .
    hardik naman
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  26. dr.saab namaste halke geet bhi bhari vajandar lage lekin enmen fulaka to kahin nazar nahi aaya sir

    उत्तर देंहटाएं
  27. गठबन्धन के वचनों को तुम,विपदाओं में भूल न जाना।। जब हो किसी का साथ तो हर राह आसां हो जाती है । बहुत भावपूर्ण आह्वान । शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails