"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 23 मई 2011

"काश् मैं नारि होता!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


मित्रों! मैं नहीं जानता कि 
यह कविता है या गीत है,
तुकान्त है या अतुकान्त है,
बस टाइम पास ही तो है!
(१)
काश् मैं नारि होता!
आभासी दुनिया में
ब्लॉग पर
अपना सुन्दर चित्र लगाता
चार लाइन लिखता
और चालीस कमेंट पाता!
काश् मैं नारि होता!
(२)
अपनी प्रोफाइल में
विदेश का पता भरता
दुनियाभर के लोगों से
मनोरंजक बातें करता
व्यंग्य में कही बात को भी
अपनी प्रसंशा ही जानता
और खुद को बहुत ही
सौभाग्यशाली मानता
काश् मैं नारि होता!
(३)
पति रात-दिन की
ड्यूटी कर धन कमाता
घर आकर 
खुद भोजन बनाता
या होटल से लाता
मैं ठाठ से खाता
और हुक्म चलाता
काश् मैं नारि होता!
--
कल पढ़िए!
अच्छा हुआ! जो मैं नारि न हुआ!

34 टिप्‍पणियां:

  1. आप अगर नारी होते तो.........

    हा हा

    आपके सिर पर टोपी अच्छी नहीं लगती
    और नीचे धवल धोती अच्छी नहीं लगती

    उत्तर देंहटाएं
  2. दायें बायें मजनूं छाते
    पीछे पति जी थैला लाते

    मुस्कान एक सब पर भारी होती

    हाय मै कितनी प्यारी होती

    पति अगर करते क्रोध का आडंबर

    सीधे घुमाती महिला थाने का नंबर

    बच्चे सौप पति को चैन से सोता

    हाय काश मै नारी होता

    हा हा हा दादा मै भी पाईप लाईन मे लगा हूं मेरा भी एक उपनाम सोचिये

    उत्तर देंहटाएं
  3. kanhi se jalne ki badboo aa rahi hai.naari ke aaraam se .saaheb naari hote to na jaane KYA KYA karna padta,ginvaane ki jaroorat nahi.aap khud hi samajh daar hain.khair kal ki post padhne ko aatur ek naari.

    उत्तर देंहटाएं
  4. काश् मैं नारि होता!
    आभासी दुनिया में
    ब्लॉग पर
    अपना सुन्दर चित्र लगाता
    चार लाइन लिखता
    और चालीस कमेंट पाता!
    काश् मैं नारि होता!
    hahaha ......
    kal ka intzaar hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. शास्त्री जी, नमस्कार,
    फ़िर कुछ खोना भी पडता,
    बच्चों का जिक्र आप भूल गये,
    उन्हें भी पालना पडता,

    उत्तर देंहटाएं
  6. :)सही है.आप ही क्यों काश हर पुरुष एक बार नारी जरुर बनता.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज के जमाने में आप नारी होते तो सब पर भारी होते। क्योंकि आप पर्दे-she नहीं मर्दे-she होते। क्या कहा आप मर्दे-सी का मतलब नहीं समझ पाए। अजी! मर्दे-सी का मतलब मर्दों को देख लेने वाली नारी। क्या आप करूणानिधि को चारों खाने चित करने वाली जयललिता को मर्दे- सी नहीं मानते? क्या आप बुद्धदेव भट्टाचार्य के गुब्बारे की हवा निकालने वाली ममता बनर्जी को मर्दे-सी नहीं नहीं मानते? क्या आप बहन जी को भी मर्दे-सी नहीं माँनते हैं? भारत में मर्दे-सी की फेहरिस्त बड़ी तेजी से बढ़ रही है। काँग्रेस में ’सी’ लगने से काँग्रेसी शब्द बना है। उसमें कमान फहले भी मर्दे-she के हाथों में थी और आज भी है। क्या इन्दिरा गाँधी मर्दे-she नहीं थीं। क्या सोनिया गाँधी मर्दे-she नहीं हैं?
    ========================
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी
    ========================

    उत्तर देंहटाएं
  8. हा हा हा ! शास्त्री जी , सुन्दर चित्र तो अब भी लगा सकते हैं । वैसे भी दिल में तो सभी लगाये रहते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत मज़ेदार!शास्त्री जी कहीं ना कहीं तो आपने मान लिया की ज्यादा टिप्पणी लेने का यह नुस्खा कामयाव है | मगर आप पुरुष ही रहिये

    उत्तर देंहटाएं
  10. :):)

    अपनी अपनी सोच है ... असल में जो होते नहीं वही होना चाहते हैं ... नारियों से पूछेंगे तो वो यही कहेंगी कि

    काश हम पुरुष होते / मनपसंद खाना बनवाते /बिना व्यवधान के टी० वी० देखते /जहाँ मन होता वहाँ जाते / हर वक्त अपने मन की करवाते / बेहिचक लड़कियों से फ्लर्ट करते /बहुत लंबी लिस्ट है :):)

    उत्तर देंहटाएं
  11. हहहह्हा बहुत खूब भाई जी
    एक बार नारी का जीवन आप जी के देख ही लो
    पर एक बात हम भी जरुर कहेगे ..कि सब नारी एक से नहीं होती
    आपकी कल आने वाली रचना का इंतज़ार रहेगा

    उत्तर देंहटाएं
  12. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 24 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  13. अच्छा है आप नारी नहीं है, नारी होते तो कही और होते, अपनों से दूर, या आनर किल्लिंग में मरते, दहेज़ में जलते या घर के लिए कोर्ट कचहरी करते राजनीत करते तो कनिमारी होकर कविता करते जेल जाते.. शास्त्री जी ये भी हसी ठिठोली है आप की तुकांत, अतुकांत या कोई और तरह की कविता की तरह .. आशा है अन्यथा नहीं लेंगे ...अभिवादन

    उत्तर देंहटाएं
  14. जो हैं, वही रहें, हम प्रशंसक बने रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  15. कमेन्ट तो ज़्यादा पाते ही नेट पर भी और सड़क पर भी !

    उत्तर देंहटाएं
  16. कुछ नारियों पर व्यंग अच्छा किया है आपने ...
    अच्छा है ...
    उन नारियों के लिए जो वाकई दलदल में फँसी हैं ....
    पढकर कुछ तो आँख खुलेगी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. :):)
    हर इंसान वही क्यों बनना चाहता है जो वह नहीं है !

    उत्तर देंहटाएं
  18. kya baat hai sir .itana badi baat itane kam shabdon mem ---

    अपना सुन्दर चित्र लगाता
    चार लाइन लिखता
    और चालीस कमेंट पाता!
    काश् मैं नारि होता!
    bahut bahut aabhar .

    उत्तर देंहटाएं
  19. विवरण दिखाएँ ६:४८ पूर्वाह्न (2 मिनट पहले)
    शास्त्री जी,

    काश ! आप ये इच्छा पूरी कर पाते तो जो भ्रम पले हुए हैं वो तो जरूर टूट जाते. अरे जाने दीजिये, बस दो चार दिन भाभी जी कि ड्यूटी संभाल लीजिये . समझ आ जायेगा. आभासी दुनियाँ वाले भी घर में रोटी पका कर खिलाते हैं न. बस दो दिन के लिए........
    ब्लॉगर काम नहीं कर रहा है सो सीधे आपको मेल में भेज रही हूँ.
    रेखा श्रीवास्तव
    09307043451

    http://kriwija.blogspot.com/
    http://hindigen.blogspot.com
    http://rekha-srivastava.blogspot.com
    http://merasarokar.blogspot.com
    http://katha-saagar.blogspot.com
    --
    रेखा श्रीवास्तव जी!
    मेरे यहाँ तो ब्लॉगर काम कर रहा है!

    उत्तर देंहटाएं
  20. .

    हा हा हा....काश आप 'नारी' ही होते । ऊंट पहाड़ के नीचे तो आता । और हाँ ! चित्र सुन्दर सा कहाँ से लाते ? जो जैसा है , वैसा ही तो चित्र लगाएगा । बेचारे कैमरे का क्या दोष ?.....lol..

    Smiles and winks galore !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  21. बच्चो को पालना ..?.घर चलाना ..? कोई हंसी खेल नही है जनाब ..तब दिन में भी तारे नजर आते....!!! अच्छा है जो आप नारी नही है ....हा हा हा हा

    कल की कड़ी का इन्तजार रहेगा ?

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत खूब
    सुन्दर परिकल्पना

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह ...बहुत ही बढि़या कहा है ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  24. शानदार प्रस्तुतिकरण्।

    उत्तर देंहटाएं
  25. और जब पति पी कर आता...तब क्या होता...वैसे इमैजिनेशन अच्छा है...

    उत्तर देंहटाएं
  26. फिर आप लिखते काश में पुरुष होता....

    उत्तर देंहटाएं
  27. अभी भी आप नारी होने का
    उपाय जरूर खोजने जायें
    आगर पा जायें तो अकेले
    अकेले नारी ना हो जायें
    हमें भी बतायें और
    अपने साथ साथ नारी बनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |
    आओ धक्का मार के, महंगा है पेट्रोल ||
    --
    बुधवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails