"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 27 मई 2011

"बदनाम" का शेर और ग़ज़ल (प्रस्तोता-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


कई दिनों से मेरे मित्र
गुरूसहाय भटनागर "बदनाम"
टोक रहे हैं कि मेरी ग़जल नहीं लगाई आपने!
आज पढ़िए उनकी यह रूमानी ग़ज़ल! 
शेर
चलते-चलते थक गये अब, हो गई मंजिल तमाम।
तुमको ऐ जाने तमन्ना, आख़री दम का सलाम।। 
 ग़ज़ल
तेरी मुहब्बत का हमको, गुज़रा वो जमाना याद आया
वो रंगभरा इक मंजर सा, वो शहर पुराना याद आया

मिलते थे कभी दीवानों से, चलते थे कभी बेगानों से
उस राहे मुहब्बत का ऐ दिल, इक-इक अफसाना याद आया 

वो भी तो एक ज़माना था, तुम पलकें बिछाए रहते थे
हमको वो मुहब्बत का तेरी, हर राज़ पुराना याद आया

मिट जाएँगे हम, मर जाएँगे हम,इकरारे मुहब्बत में इक दिन
उन तेरी फ़रेबी नज़रों का, "बदनाम" ज़माना याद आया
गुरूसहाय भटनागर "बदनाम"

11 टिप्‍पणियां:

  1. मिट जाएँगे हम, मर जाएँगे हम,इकरारे मुहब्बत में इक दिन
    उन तेरी फ़रेबी नज़रों का, "बदनाम" ज़माना याद आया

    क्या बात कही सर!....बहुत बढ़िया गज़ल है.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह बहुत ही सुन्दर गज़ल लगाई है …………पसन्द आई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या गज़ल कही है, पढ़कर आनन्द आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह !……पसन्द आई। पढ़कर आनन्द आ गया।
    http://aruneshdave.blogspot.com/2011/05/blog-post_22.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. मिट जाएँगे हम, मर जाएँगे हम,इकरारे मुहब्बत में इक दिन
    उन तेरी फ़रेबी नज़रों का, "बदनाम" ज़माना याद आया.bhbahut sunder gajal .man aanandit ho gayaa,badhaai aapko.



    please visit my blog and leave a comment also.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बदनाम जी रचना पढ़वाने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut umda ghazal hai.post karne vaale aur likhne vaale dono ka aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह जी बहुत सुंदर गजल कही धन्यवाद आप का

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर गज़ल ....यहाँ पढवाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails