"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 9 मई 2011

"लेन-देन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

मित्रों!
आज अपनी बहुत पुरानी रचना प्रस्तुत कर रहा हूँ!
मुझे तो पसन्द नहीं है!
आपको भी पसन्द नहीं आयेगी!
क्योंकि इसमें सिर्फ तुकबन्दी ही है!

मुझे हँसना नही आया।
उन्हें रोना नही आया।।

मिलन के गीत मन ही मन,
हमेशा गुन-गुनाता था।
हृदय का शब्द होठों पर,
कभी बिल्कुल न लाता था।
मुझे कहना नही आया।
उन्हें सुनना नही आया।।

कभी जो भूलना चाहा,
जुबां पर उनकी ही रट थी।
अन्धेरी राह में उनकी,
चहल-कदमी की आहट थी।
मुझे सपना नही आया।
उन्हें अपना नही भाया।।

बहुत से पत्र लाया था,
मगर मजमून कोरे थे।
शमा के भाग्य में आये,
फकत झोंकें-झकोरे थे।
मुझे लिखना नही आया।
उन्हें पढ़ना नही आया।।

बने हैं प्रीत के क्रेता,
जमाने भर के सौदागर।
मुहब्बत है नही सौदा,
सितम कैसे करूँ उन पर।
मुझे लेना नही आया।
उन्हें देना नही आया।।

15 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी पसंद बहुत बेकार है....यकीं जानिये...जिसे इतनी अच्छी रचना पसंद न आये उससे क्या आशा करें, बताईये??? :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह !!! आपका ' लेन-देंन ' हमें तो बहुत भाया है शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. शास्त्री जी , गजब लिखते हैं , कायल बना लिया आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे लेना नहीं आया , उन्हें देना नहीं आया ..
    लेनदेन हर किसी को कहाँ आता है ...
    बेहतरीन रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत से पत्र लाया था,
    मगर मजमून कोरे थे।
    शमा के भाग्य में आये,
    फकत झोंकें-झकोरे थे।
    मुझे लिखना नही आया।
    उन्हें पढ़ना नही आया।।

    बहुत सुन्दर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. aapki tukbandi hi kavita ki khoobsurti hai.vaise bhi tukaant kavita hi jyada prbhaav daalti hai.aap kya kahte hain???

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुझे तो पसन्द नहीं है!
    आपको भी पसन्द नहीं आयेगी!

    शास्त्रीजी गलत बयानी न कीजियेगा प्लीज.यदि आपको यह रचना पसंद न आती तो आप यहाँ प्रस्तुत ही क्यूँ करते.
    हाँ आप कुछ शरमाते से जरुर लग रहें हैं ,मोहब्बत के लेन देन में.अब क्या कहें आपकी इस बात के लिए

    "मिलन के गीत मन ही मन,हमेशा गुन-गुनाता था।हृदय का शब्द होठों पर,कभी बिल्कुल न लाता था।मुझे कहना नही आया।उन्हें सुनना नही आया।।"

    सच सच बताईयेगा अच्छा लग रहा है न ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे वाह्…………इतनी प्यारी रचना है और आप इसे तुकबंदी कह रहे हैं……………हमे तो बहुत भायी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुझे लेना नही आया।
    उन्हें देना नही आया।।

    सारा रोना ही इस बात का है कि आदाब और जाब्ते बहुत कम लोग जानते हैं .
    बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी रचना का शीर्षक पढ़ के अचानक ही लगा जैसे "लेन-देन" नहीं, "लादेन" लिखा हो!
    रचना आपकी बहुत पसंद आयी!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails