"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

समर्थक

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2009

"अब तक हर साँस कुँवारी है।" एक बहुत पुरानी रचना- (डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)




यह जीवन की लाचारी है,

अब तक हर साँस कुँवारी है।


खड़ी हुई दोराहे पर, वह सोच रही अपने मन में,

ठण्डी-ठण्डी बयार आकर, क्यों आग लगाती है तन में,

तन पर अधिकार पिया का है,

मन का प्रेमी अधिकारी है।

यह जीवन की लाचारी है,

अब तक हर साँस कुँवारी है।।


वह लोक लाज के कारण, अपने मन की टीस दबा बैठी,

सूरज का तेज-प्रकाश देख, रजनी रजनीश गँवा बैठी,

सम्बन्धों मे वह छली गयी,

झूठी सब रिश्तेदारी है।

यह जीवन की लाचारी है,

अब तक हर साँस कुँवारी है।।


प्रेमी की सूरत नयनों मे, साजन से नजर चुराती है,

वो चित्र न मन से मिट जाये, ये नयन मूँद मुस्काती है,

साजन तो यही समझते हैं,

शर्मीली मेरी नारी है।

यह जीवन की लाचारी है,

अब तक हर साँस कुँवारी है।


10 टिप्‍पणियां:

  1. शास्त्री जी!

    रचना पुरानी है मगर अच्छी है।

    शायद जवानी के दिनों में लिखी होगी।

    इण्टर-नेट पर 150वीं रचना

    प्रकाशित करने के लिए,

    आपको मुबारकवाद।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत धन्यवाद जी इतनी सुंदर रचना सूबह सूबह पढवाने के लिये. आप जैसे रचयिता की रचना पुरानी हो या नई हो क्या फ़र्क पडता है?

    बस आनन्द बरस जाता है. आप तो पढवाते रहें ऐसे ही.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  3. 150वीं प्रविष्टी के लिए
    बधाई हो मयंक जी!

    जवाब देंहटाएं
  4. शास्त्रीजि रचना कभी पुरानी नहिं होती वो हर पल किसी नये लिबास मे नित नूतन रहती है बहुत सुन्दर रछ्न है ब्धाई

    जवाब देंहटाएं
  5. जब पुराना चावल,पुरानी शराब का महत्व बढ सकता है तो पुरानी रचना का क्यों नही,बहुत बढिया।

    जवाब देंहटाएं
  6. मज़ेदार ...बहुत अच्छा लगा पढ़कर

    जवाब देंहटाएं
  7. aapki purani rachna mein bhi utni hi gahanta hai jitni aaj hoti hai.........bahut gahri soch ke sath likhi gayi thi us waqt bhi kavita.

    wah kya kahne.

    जवाब देंहटाएं
  8. 150th post ke liye hardik shubhkamnayein.
    aap aise hi likhte rahein aur hum aise hi padhte rahein .

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत अच्छा लिखा आपने... क्या आज सास दिवस है.. ताऊजी के ब्लॉग पर भी सास ही सास दिख रही है :)

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails