"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 26 अप्रैल 2009

‘‘वन्दना’’ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

श्यामल ‘सुमन’ जी के ब्लॉग की प्रार्थना पोस्ट पर मैंने अपनी इस कविता की कुछ पंक्तियों से टिप्पणी की थी। लेकिन टिपियाने वालों ने उनकी कविता के बदले में मेरी टिप्पणी को ही वाह-वाही से टिपियाना शुरू कर दिया। बस इसी प्रेरणा से अभिभूत होकर यह पूरी कविता अपने ब्लॉग पर प्रकाशित कर रहा हूँ।

मुझको वर दे तू भगवान,

मेरा कर दे तू उत्थान।


जो मानवता के भक्षक हैं,

उनका मत करना सम्मान।


नेता बने हुए अभिनेता,

ढोंग दिखावा जिनका काम।


वोट माँगने तेरे घर में,

आयेंगे पाजी शैतान।


लोकतन्त्र के मक्कारों को,

देना मत कोई ईनाम।।


नोटों के बदले में अपना,

नही बेचना तू ईमान।


माला के बदले में इनके,

सिर पर करना जूते दान।


विनती सुन ले दयानिधान,

इनका मत करना कल्याण।

8 टिप्‍पणियां:

  1. waah waah..........bahut khoob.
    bada karara tamacha hai vandana ke roop mein.

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सटीक कविता रची आपने.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत बढिया व सामयिक रचना है।बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  4. नेताओं की जो बनाई है रेल

    भ्रष्‍टता से कर दिया है मेल


    इन्‍हें मिलनी चाहिए ऐसी जेल

    जिसमें होती न हो कभी बेल


    नेताओं की जब लगेगी सेल

    अभिनेता उसमें बिकेंगे गेल

    जवाब देंहटाएं
  5. भगवान आपकी प्रार्थना अवश्य सुनेंगे!

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह वाह डाक्टसाब....
    बहुत सही प्रतिक्रिया है एक सच्चे नागरिक की।

    और हां...आपने इसे यहां लगाकर अच्छा किया वर्ना पता नहीं कब हमारी इस पर नज़र पड़ती।

    जवाब देंहटाएं
  7. माला के बदले में इनके,सिर पर करना जूते दान।
    विनती सुन ले दयानिधान,इनका मत करना कल्याण।
    bhut khub....kya bat hae

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails