"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 12 अप्रैल 2009

"श्री विष्णु प्रभाकर जी को भाव-भीनी श्रद्धांजलि" (डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



हिन्दी के शीर्षस्थ साहित्यकार विष्णु प्रभाकर जी हिन्दी साहित्य को समृद्धशाली बना कर इस लौकिक संसार से हमेशा-हमेशा के लिए विदा हो गये हैं। परन्तु हिन्दी साहित्य की अमूल्य धरोहर के रूप में लाखों-करोड़ो हिन्दी साहित्य प्रेमियों के दिलों में अपनी कभी न मिटने वाली यादें छोड़ गये हैं।
निश्छल स्वभाव वाले, साहित्य के इस साधक को कौन भुला पायेगा। वे साहित्य को पूर्णतः समर्पित कालजयी साहित्यकार थे।
उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के एक छोटे कस्बे मीरापुर में 20 जुलाई 1912 को जन्मे इस साहित्यकार ने जीवन के बहुत उतार-चढ़ाव झेले और साहित्य की साधना करते चले गये। बहुमुखी प्रतिभा के धनी श्री प्रभाकर जी की साहित्यिक प्रतिभा भी बहुमुखी थी।
उन्होंने हिन्दी -साहित्य की विधाओं जैसे- उपन्यास, कहानी-लेखन, एकांकी-लेखन, नाटक, जीवनी, बालोपयोगी साहित्य आदि सभी में अपनी सशक्त लेखनी को चलाया। 1980 के दशक में मैंने रुहेलखण्ड विश्वविद्यालय के एम.ए. के पाठ्यक्रम में उनके नाटक ‘‘युगे-युगे क्रांन्ति’’ के द्वारा उनके गहन चिन्तन-मनन का परिचय पाया था। वह स्मृति आज भी मेरे मन पर उनकी विशेष छाप बनाये हुए है।
मैं इस महान साहित्यकार को प्रणाम करता हूँ।
अपने दिल की गहराइयों से उन्हें भाव-भीनी श्रद्धांजलि समर्पित करता हूँ।

12 टिप्‍पणियां:

  1. shri vishnu prabhakar ji ke bare mein itni upyogi jankari ke liye shukriya.

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर.......शास्त्री जी को मेरी भी श्रद्धांजलि...

    जवाब देंहटाएं
  3. Uchchaaran par prakaashit lagbhag har post par das ke aaspaas comment to hote hee hain. Is post ke saath maatra do comment dekhkar hairaanee ke saath-saath dukh bhee huaa.
    Aapne sachchee shraddhaanjali dekar puneet kaarya kiyaa hai. Main ismen shaamil hoon.
    (Mobile se)

    जवाब देंहटाएं
  4. महान साहित्यकार!
    विष्णु प्रभाकर जी को श्रद्धांजलि।

    जवाब देंहटाएं
  5. इतने महान साहित्यकार का विदा हो जाना, हिन्दी साहित्य की अपूरणीय क्षति है। श्रद्धांजलि।

    जवाब देंहटाएं
  6. मित्रवर मयंक जी!
    विष्णु प्रभाकर जी को आपके साथ एम ए में साथ-साथ पढ़ा है।
    श्रद्धांजलि...

    जवाब देंहटाएं
  7. श्रद्धांजलि...
    ईश्वर उनकी आत्मा को सदगति प्रदान करें।

    जवाब देंहटाएं
  8. महान साहित्य के सर्जनकर्ता को
    भावभीनी-श्रद्धांजलि।

    जवाब देंहटाएं
  9. विष्णु प्रभाकर जी
    को भावभीनी-श्रद्धांजलि।

    जवाब देंहटाएं
  10. वन्दना अवस्थी दूबे जी!
    आपने अपनी टिप्पणी में भावनाओं में डूब कर विष्णु प्रभाकर जी को श्रद्धांजलि देने की जगह मुझे ही श्रद्धांजलि से नवाज दिया। आभारी हूँ। यदि बुरा न मानें तो पुनः विष्णु प्रभाकर जी को श्रद्धा-समुन चढ़ा दें । वैसे मुझे भी तुम्हारे श्रद्धा-समुन स्वीकार हैं।

    जवाब देंहटाएं
  11. Vaah, Mayank jee,
    Vandana jee ke shraddhaa-suman sweekaar karke aapne theek hee kiyaa hai. Jeetejee aapko shraddhaanjali arpit karke unhonne aapkee umra barhaane kaa kaam kar diyaa hai. Sachmuch aapko unkaa aabhaaree honaa hee chaahiye.
    (Mobile se)

    जवाब देंहटाएं
  12. मैं साहित्य का पारखी नहीं, न ही विष्णु जी को मैंने कभी पढ़ा। लेकिन कल पता चला कि मरणोपरांत उनका अंतिम संस्कार नहीं किया जायेगा, क्योंकि उन्होंने अपना शरीर अखिल भारतीय आयु्र्विज्ञान संस्थान को दान कर दिया है। वहाँ चिकित्सा-शास्त्र के छात्र उनके शरीर पर अध्ययन करके बेहतर डॉक्टर बन सकेंगे। शिक्षा के लिये ऐसा महादान केवल कोई महापुरुष ही कर सकता है। ऐसी उच्च और परोपकारी सोच रखने वाले व्यक्ति की धरती से विदायी वाकई दुखदायी है। विष्णु प्रभाकर अमर रहें।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails