"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

रविवार, 30 मई 2010

“महत्वपूर्ण-सूचना” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

“मेरे मोबाइल से गालियाँ सुनाई दीं”

मित्रों!
अलीगढ़ बारात में गया था!
28-05-2010 को रात्रि में 8:30 और 9:00 बजे के मध्य मेरा मोबाइल किसी मनचले पाकेटमार ने उड़ा लिया! उसके बाद मेरे दूसरे मोबाइल नं.-09997996437 पर गालियाँ सुनाई दी!
बाद में कई मित्रों का फोन आया कि आपके मोबाइल से हमें गालियाँ सुनाई पड़ीं!
मैंने रिलाइंस के कस्टुमर केयर से बात करके यह नं.-0368499921 बन्द करने का निवेदन कर दिया है! लेकिन इस प्रक्रिया में 3 घण्टे तक लग जाते हैं!
इस मोबाइल में कई महत्वपूर्ण नम्बर सेव थे! हो सकता है कि 28-05-2010 को रात्रि में 8:30 और 9:00 बजे के मध्य आपको भी इस नम्बर से अशोभनीय कॉल आई हों!
कृपया अन्यथा नहीं लेंगे !
'चर्चा मंच’ के सहयोगियों से निवेदन है कि वे अपना मोबाइल नम्बर पुनः मेरे ई-मेलः
roopchandrashastri@gmail.com पर भेजने की कृपा करेंगे!
कृपया अब मेरा यह मोबाइल नं. 09997996437 नोट करके सेव कर लीजिए!
सादर,
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”

15 टिप्‍पणियां:

  1. बताईये, क्या हालत है!! हद है.

    जवाब देंहटाएं
  2. आप एक fir करवा कर अपना पुराना नंबर वापस पा सकते है !! बाकी सूचना के लिए आभार |

    जवाब देंहटाएं
  3. ???आपके लिए हमारे यहाँ भी कुछ है ...आये और सुझाव दे

    जवाब देंहटाएं
  4. कर लो बात एक पाकेट मारी ओर फ़िर गाली गलोच...

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत अफ़सोस हुआ सुनकर कि आपका मोबाइल चोरी हो गया है! जानकारी देने के लिए शुक्रिया!

    जवाब देंहटाएं
  6. पुरुष की आंख कपड़ा माफिक है मेरे जिस्‍म पर http://pulkitpalak.blogspot.com/2010/05/blog-post_9338.html मेरी नई पोस्‍ट प्रकाशित हो चुकी है। स्‍वागत है उनका भी जो मेरे तेवर से खफा हैं

    जवाब देंहटाएं
  7. " thanx for information "

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत दुःख हुआ आपके मोबाइल के बारे में जान कर..... आपका हर नंबर मेरे पास सेव है....

    जवाब देंहटाएं
  9. अजी हद क्या हद की भी हद है.....सूचित करने के लिए धन्यवाद्!

    जवाब देंहटाएं
  10. क्या कहा? आपका मोबाइल किसी मनचले पॉकेटमार ने उडा लिया?
    हद हो गयी, मनचले पहले तो लडकियों को ही परेशान करते थे, अब बुजुर्गों को भी छेडने लगे हैं।
    नया नम्बर सेव कर लिया है।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails