"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

गुरुवार, 2 अप्रैल 2015

“हिन्दी में रेफ लगाने की विधि” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

 “हिन्दी में रेफ लगाने की विधि
            अक्सर देखा जाता है कि अधिकांश व्यक्ति आधा "र" का प्रयोग करने में बहुत त्रुटियाँ करते हैं। उनके लिए व्याकरण के कुछ सरल गुर प्रस्तुत कर रहा हूँ!

         हिन्दी में रेफ  अक्षर के नीचे लगाने के  लिए सदैव यह ध्यान रखना चाहिए कि का उच्चारण कहाँ हो रहा है ?

           यदि का उच्चारण अक्षर के बाद हो रहा है तो रेफ की मात्रा सदैव उस अक्षर के नीचे लगेगी जिस के बाद का उच्चारण हो रहा है ।
उदाहरण के लिए - प्रकाश, सम्प्रदाय, नम्रता, अभ्रक, चन्द्र आदि ।

           हिन्दी में रेफ या अक्षर के ऊपर  "र्" लगाने के  लिए सदैव यह ध्यान रखना चाहिए कि र्का उच्चारण कहाँ हो रहा है ?  “र्"   का उच्चारण जिस अक्षर के पूर्व हो रहा है तो रेफ की मात्रा सदैव उस अक्षर के ऊपर लगेगी जिस के पूर्व र्का उच्चारण हो रहा है ।
उदाहरण के लिए - आशीर्वाद, पूर्व, पूर्ण, वर्ग, कार्यालय आदि ।  
             रेफ लगाने के लिए आपको केवल यह अन्तर समझना है कि जहाँ पूर्ण "र" का उच्चारण हो रहा है वहाँ सदैव उस अक्षर के नीचे रेफ लगाना है जिसके पश्चात  "र"  का उच्चारण हो रहा है ।
जैसे - प्रकाश, सम्प्रदाय, नम्रता, अभ्रक, आदि में 
 "र" का उच्चारण हो रहा है ।   

17 टिप्‍पणियां:

  1. मैं भी अक्सर लोगों को यही सरल विधि बताती हूँ ...
    लोग अक्सर उच्चारण पर ध्यान नहीं देते जिसके कारण गलती होती हैं और वे हमेशा गलत शब्द ही लिख लेते हैं ..इ ई और उ ऊ की मात्रा लगते समय भी ऐसी ही गलती होती हैं ...
    बहुत बढ़िया साझा करने हेतु आभार!

    जवाब देंहटाएं
  2. सबसे ज्यादा गलती लोग "आशीर्वाद" लिखने में करते हैं यह मैंने देखा है.. [आर्शीवाद लिख देते हैं]

    जवाब देंहटाएं
  3. शुद्ध हिन्दी लिखने के व्याकरण की जानकारी आवश्यक है

    जवाब देंहटाएं
  4. लाभांवित करेगी ये जानकारी

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सही जानकारी दी यह लोगों के बहोत काम आएगी... आपका धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  6. उपयुक्त और सटीक जानकारी । लोग रेफ लगाने में प्रायः भूल कर देते हैं ।आपने अच्छी जानकारी दी है ।

    जवाब देंहटाएं
  7. हिंदी में वर्तनी की अशुद्धियाँ बहुत अधिक होती हैं । अंग्रेजी भाषा ने हिंदी और देवनागरी के प्रति लोगों की रुचि को कम किया है । भाषाई अस्मिता के अभाव ने सारी विकृति पैदा की है । ऐसे में आपका प्रयास सराहनीय है ।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी जानकारी आदरणीय
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  9. र की उचित जानकारी दी है आपने महोदय जी धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  10. र की उचित जानकारी दी है आपने महोदय जी धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails