"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

गुरुवार, 30 अप्रैल 2009

एक निवेदन

ब्लॉगर मित्रों!

बहुत दिनों से मैं एक नया ब्लाग बनाने का विचार बना रहा था। परन्तु आलस कर जाता था। फिर ऐसा संयोग बना कि मेरे कुछ शुभचिन्तकों ने अपनी टिप्पणियों से मुझे प्रेरणा दी कि इस काम को जल्दी अंजाम दे दो। अतः उन्हीं की कृपा से एक नया ब्लॉग शब्दों का दंगल बना पाया हूँ।

आशा है कि उच्चारण की भाँति इसे भी अपना प्यार देंगे।

यह शब्दों का दंगल है। इसे आप लड़ाई का अखाड़ा न समझें। यदि विद्वानों में बहस हो भी जाती हैं तो मेरा तो मानना हैं कि-

‘‘ज्ञानी से ज्ञानी लड़े, तो ज्ञान सवाया होय।

मूरख से मूरख लडे, तो तुरत लड़ाई होय।।’’

आप सब अपने-अपने क्षेत्र के महारथी हैं, विद्वान हैं। मैं दंगल का मास्टर नही हूँ, सिर्फ इसका एक अदना सा सेवक हूँ। मैं इस लड़ाई में कभी आपसे जीत नही पाऊँगा। क्योंकि सेवक कभी जीतता नही है।

चलते-चलते इतना अवश्य निवेदन करना चाहता हूँ कि यदि शब्दों की लड़ाई से आपके ज्ञान में बढ़ोतरी होती है तो आप पीछे कदापि न हटें। लेकिन यदि ये मतभेद मनभेद बन जायें। इसलिए अपनी भावनाओं नियन्त्रण अवश्य कर लें। स्वस्थ लेखन करें । शिष्ट शब्दों का प्रयोग करें।

मैं अपने दोनों ब्लॉगो का प्रयोग काव्य और गद्य को अलग-अलग लिखने में करना चाहता हूँ। शब्दों का दंगल भविष्य में भाई अजित वडनेकर जी के ‘शब्दों के सफर’ का अनुगामी बन कर कुछ साहित्य सेवा करना चाहता है।आपके शुभाशीष का अभिलाषी हूँ।

अन्त में श्रीमती वन्दना गुप्ता जी का (जो मेरी प्रत्येक पोस्ट को बड़े उत्साह व प्यार के साथ टिपियाती हैं) आभार व्यक्त करना चाहता हूँ।

छोटी बहिन जैसी रचना सिंह जी के साथ हुए तल्ख वार्तालाप के लिए खेद प्रकट करता हूँ। आशा है कि वो मुझे बड़ा भाई समझ कर क्षमा कर देंगी।

राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त छोटे भाई समान रावेंद्रकुमार रवि जी से विनय पूर्वक आग्रह-अनुग्रह करता हूँ कि मनरूपी सागर में आये ज्वार को भाटा में परिवर्तित करने की कृपा करें।

भाई समीर लाल जी, ताऊ रामपुरिया, कम्प्यूटरविद् आशीष् खण्डेलवाल, अजित वडनेकर, अविनाश वाचस्पति जैसे वरिष्ठ ब्लागर्स को नमन करता हूँ।

अन्तर्-जाल पर ब्लॉगिंग में आज मुझे 100 दिन ही तो हुए हैं।

इस अवधि में केवल 195 पोस्ट ही उच्चारण को दे पाया हूँ।

मैं तो सभी ब्लौगिंग के महारथियों में अभी बहुत कनिष्ठ हूँ।

विनयावनत- आपका सद्भावी।

"बाबा नागार्जुन अक्सर याद आते हैं।" डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

उत्तर-प्रदेश के नैनीताल जिले के काशीपुर शहर (यह अब उत्तराखण्ड में है) से धुमक्कड़ प्रकृति के बाबा नागार्जुन का काफी लगाव था।


सन् 1985 से 1998 तक बाबा प्रति वर्ष एक सप्ताह के लिए काशीपुर आते थे। वहाँ वे अपने पुत्र तुल्य हिन्दी के प्रोफेसर वाचस्पति जी के यहाँ ही रहते थे। मेरा भी बाबा से परिचय वाचस्पति जी के सौजन्य से ही हुआ था। फिर तो इतनी घनिष्ठता बढ़ गयी कि बाबा मुझे भी अपने पुत्र के समान ही मानने लगे और कई बार मेरे घर में प्रवास किया।


प्रो0 वाचस्पति का स्थानानतरण जब जयहरिखाल (लैन्सडाउन) से काशीपुर हो गया तो बाबा ने उन्हें एक पत्र भी लिखा। जो उस समय अमर उजाला बरेली संस्करण में छपा था। इसके साथ बाबा नागार्जुन का एक दुर्लभ बिना दाढ़ी वाला चित्र भी है। जिसमें बाबा के साथ प्रो0 वाचस्पति भी हैं। बाबा ने 15 अक्टूबर,1998 को अपना मुण्डन कराया था। उसी समय का यह दुर्लभ चित्र प्रो0 वाचस्पति और अमर उजाला के सौजन्य से प्रकाशित कर रहा हूँ।


बाबा अक्सर अपनी इस रचना को सुनाते थे-



खड़ी हो गयी चाँपकर कंगालों की हूक


नभ में विपुल विराट सी शासन की बन्दूक


उस हिटलरी गुमान पर सभी रहे हैं मूक


जिसमें कानी हो गयी शासन की बन्दूक


बढ़ी बधिरता दस गुनी, बने विनोबा मूक


धन्य-धन्य, वह धन्य है, शासन की बन्दूक


सत्य स्वयं घायल हुआ, गई अहिंसा चूक


जहाँ-तहाँ ठगने लगी, शासन की बन्दूक


जले ठूँठ पर बैठ कर, गयी कोकिला कूक


बाल न बाँका कर सकी, शासन की बन्दूक


"दंगल अब तैयार हो गया।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

यह कविता मेरे नये ब्लॉग ‘‘शब्दों का दंगल’’ पर भी उपलब्ध है।

शब्दों के हथियार संभालो, सपना अब साकार हो गया।

ब्लागर मित्रों के लड़ने को, दंगल अब तैयार हो गया।।

करो वन्दना सरस्वती की, रवि ने उजियारा फैलाया,

नई-पुरानी रचना लाओ, रात गयी अब दिन है आया,

गद्य-पद्य लेखनकारी में शामिल यह परिवार हो गया।

ब्लॉगर मित्रों के लड़ने को, दंगल अब तैयार हो गया।।

देश-प्रान्त का भेद नही है, भाषा का तकरार नही है,

ज्ञानी-ज्ञान, विचार मंच है, दुराचार-व्यभिचार नही है,

स्वस्थ विचारों को रखने का, माध्यम ये दरबार हो गया।

ब्लॉगर मित्रों के लड़ने को, दंगल अब तैयार हो गया।।

सावधान हो कर के अपने, तरकश में से तर्क निकालो,

मस्तक की मिक्सी में मथकर, सुधा-सरीखा अर्क निकालो,

हार न मानो रार न ठानो, दंगल अब परिवार हो गया।

ब्लॉगर मित्रों के लड़ने को, दंगल अब तैयार हो गया।।

बुधवार, 29 अप्रैल 2009

शब्दों का अखाड़ा (दंगल)


रचनाकारी गौण हुई, लिखना-पढ़ना भी भूल गये,

ब्लागिंग के झूले में टिप्पणी करने वाले झूल गये।


तरकश में से तीर नही, अब शब्द निकलते हैं,

दूर-दूर हैं, दूर-दूर से, आग उगलते हैं।


शब्दों की कुश्ती लड़ने को, व्याकुल लगते है,

शब्द-शब्द से अड़ने को, अब आकुल लगते हैं।


पहले रचना आयी, अब वन्दना मचलती है,

उच्चारण के दंगल में, आँधी सी चलती है।


मुझे अलग से दंगल का अब, ब्लॉग बनाना होगा,

दाँव-पेंच के साथ, चुटीले शब्दों को लाना होगा।


नयी विधा के साथ सभी को खुला निमन्त्रण है,

आओ लड़ो ब्लॉगरों, मेरा यह आमन्त्रण है।

‘‘एक पल में सभी बिखरता है, दूजे पल वही निखरता है।’’




एक पल में सभी बिखरता है।


दूजे पल वही निखरता है।।



जिसको चन्दा ने तपन संग में दी हो,


जिसको चन्दन ने जलन अंग मे दी हो,


दिल का घाव नही भरता है।


एक पल में सभी बिखरता है।


दूजे पल वही निखरता है।।



जिसका जीवन बड़ा निराला हो,


काँटों ने ही जिसको पाला हो,


बदन में दर्द उभरता है।


एक पल में सभी बिखरता है।


दूजे पल वही निखरता है।।




मिला प्यार फूलों की एक महक से,


खिला चमन कोयल की एक चहक से ही,


रोगी का सुमन सँवरता है।


एक पल में सभी बिखरता है।


दूजे पल वही निखरता है।।


मंगलवार, 28 अप्रैल 2009

‘‘घर पर मान, तो बाहर भी सम्मान’’ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’


आज कबाड़ी को बेचने के लिए रद्दी छाँट रहा था।

उसमें न जाने कितने दशक पुरानी कापी का एक पन्ना मिला।

उसमें मेरी यह रचना लिखी हुई थी। आप भी पढें-


यदि

‘‘घर पर मान,

तो बाहर भी सम्मान’’

बहुत पुरानी है

यह उक्ति,

परन्तु

मुझे लगती है,

वेद जैसी ही एक सूक्ति,


घर पर दाल,

तो बाहर भी दाल,

और

यदि घर पर कंगाल,

तो बाहर भी

हर वस्तु का अकाल,


हमारी राष्ट्र-भाषा हिन्दी,

भारत-माता के माथे की बिन्दी,

जब अपने ही घर में उपेक्षित है,

तो बाहर वालों से,क्या अपेक्षित है?

"कितना अन्तर है?" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

इस छोटी सी कथा के माध्यम से दो परिवेशों का अन्तर स्पष्ट करने की कोशिश कर रहा हूँ।

किसी बस्ती में एक भँवरा रहता था। उसने अपना घर गोबर की माँद में बनाया हुआ था। वह इसमें बड़ा खुश था।

एक दिन जंगल में रहने वाला भँवरा रास्ता भटक गया और इसकी बस्ती में आ गया।

बस्ती वाले भँवरे ने अपने बिरादर को देखा तो उसे बड़ा अच्छा लगा। खुशी-खुशी वह उसे अपने घर में ले गया।

जब जंगल के भँवरे ने बस्ती वाले भँवरे का घर देखा तो उसे यह घर बिल्कुल भी अच्छा नही लगा।

वह बोला- ‘‘भैया! तुम इस अंधेरे बदबूदार घर में कैसे रहते हो? मेरा तो यहाँ दम घुट रहा है।’’

बस्ती वाला भँवरा बोला- ‘‘मित्र! तुम तो जंगली हो। तुम गाँव-बस्ती की संस्कृति को नही समझ पाओगे।’’

खैर, जैसे-तैसे इस जंगली भँवरे ने एक रात काट ली।

सुबह होने पर वह बस्ती वाले भँवरे से बोला- ‘‘मित्र कभी मेरे घर भी आना। मेरा घर दूर जंगल में है।’’

कुछ दिन बीत जाने पर बस्ती वाले भँवरे ने सोचा कि जंगल की आबो-हवा भी देख आता हूँ। अतः वह जंगल के भवरे के घर जा पँहुचा।

जंगल वाला भँवरा अपने इस मित्र को देख कर बड़ा प्रसन्न हुआ।

वह गाँव से आये इस भँवरे को कभी एक फूल के पास ले जाता। कभी दूसरे फूल के पास ले जाता और बार-बार कहता कि मित्र देखो कितनी अच्छी खुशबू आ रही है। लेकिन बस्ती वाला भँवरा कोई जवाब नही दे रहा था।

अब तो जंगल में रहने वाले भँवरे को चिन्ता हुई कि आखिर यह मेरी बात का जवाब क्यों नही दे रहा है?

उसने कहा - ‘‘मित्र! क्या तुम्हें किसी भी फूल में से सुगन्ध नही आयी।’’

बस्ती वाला भँवरा बोला- ‘‘नही मित्र! मुझे किसी भी फूल में खुशबू नही आयी।’’

इसकी बात सुन कर जंगल में रहने वाला बड़ा हैरान हुआ।

वह इसे एक झरने के किनारे ले गया और बोला- ‘‘मित्र! अब मुँह धोला और कुल्ला कर लो।"

जब बस्ती वाले भँवरे ने ने कुल्ला किया तो उसके मुँह से गोबर का एक टुकड़ा निकला।

जंगली भँवरे की समझ में अब सारी बात आ गयी।

वह पुनः जब अपने मित्र को फूल के पास ले गया तो-

बस्ती वाले भँवरे के मुँह से शब्द निकल ही पड़े- ‘‘मित्र! तुम वाकई स्वर्ग में रहते हो।"

कहने का तात्पर्य यह है कि जब तक हम अपने दिमाग को स्वच्छ नही रक्खेगे, तब तक हम अच्छाई का आनन्द नही उठा सकेंगे।

बस दो परिवेशों में यही तो अन्तर होता है।

सोमवार, 27 अप्रैल 2009

"मैं तब-तब पागल होता हूँ।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

जब मन्दिर-मस्जिद जलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।

जब जूते - चप्पल चलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।।


त्योहारों की परम्परा में, दीन-धर्म को लाये,

दंगों के शोलों में, जम कर पैट्रोल छिड़काये,

जब भाषण आग उगलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।

जब जूते - चप्पल चलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।।


कूड़ा-कचरा बीन-बीन जो, रोजी कमा रहे हैं,

पढ़ने-लिखने की आयु में, जीवन गँवा रहे हैं,

जब भोले बचपन ढलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।

जब जूते - चप्पल चलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।।


दर्द-दर्द है जिसको होता, वो ही उसको जाने,

जिसको कभी नही होता, वो क्या उसको पहचाने,

जब सर्प बाँह में पलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।

जब जूते - चप्पल चलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।।

‘‘अपनी पुरानी डायरी से।’’ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

नभ में मयंक हँस रहा,

चाँदनी बिखरी है भूतल पर,

कितना सुहावना मौसम है।


मन से मन का मिलन हो रहा,

बजती तारों की शहनाई,

प्रेमी ने प्रेयसी को माला,

अपनी बाहों की पहनाई,

हरी घास मखमल के जैसी,

कमल तैरते निर्मल जल पर,

कितना सुहावना मौसम है।

प्रेम-प्रीत से सिंचित पौधों की,

डाली का पात हरा है,

पल्लव कुसुमों से बतियाते,

उपवन में मधुमास भरा है,

बहती सरिता स्वर भर कल-कल।

कितना सुहावना मौसम है।


तन-मन में उल्लास भरा है,

प्रेमांकुर गहरा पैंठा है,

आदर्शों के सिंहासन पर,

अन्तस में सपना बैठा है,

सभी स्वर्ग लाना चाहते है,

जीवन में, अपने बल पर।

कितना सुहावना मौसम है।


दुनिया सबको लगती प्यारी,

कोई इसको समझ न पाया,

सबकी उलझन न्यारी-न्यारी,

उलझन जग की समझ न पाया,

दिन में तारे देख रहे हैं,

आशाओं से , अम्बर तल पर।

कितना सुहावना मौसम है।

रविवार, 26 अप्रैल 2009

‘‘वन्दना’’ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

श्यामल ‘सुमन’ जी के ब्लॉग की प्रार्थना पोस्ट पर मैंने अपनी इस कविता की कुछ पंक्तियों से टिप्पणी की थी। लेकिन टिपियाने वालों ने उनकी कविता के बदले में मेरी टिप्पणी को ही वाह-वाही से टिपियाना शुरू कर दिया। बस इसी प्रेरणा से अभिभूत होकर यह पूरी कविता अपने ब्लॉग पर प्रकाशित कर रहा हूँ।

मुझको वर दे तू भगवान,

मेरा कर दे तू उत्थान।


जो मानवता के भक्षक हैं,

उनका मत करना सम्मान।


नेता बने हुए अभिनेता,

ढोंग दिखावा जिनका काम।


वोट माँगने तेरे घर में,

आयेंगे पाजी शैतान।


लोकतन्त्र के मक्कारों को,

देना मत कोई ईनाम।।


नोटों के बदले में अपना,

नही बेचना तू ईमान।


माला के बदले में इनके,

सिर पर करना जूते दान।


विनती सुन ले दयानिधान,

इनका मत करना कल्याण।

‘‘निश्छल सच्चा प्यार, बहुत अच्छा लगता है।’’ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’


शिष्ट मधुर
व्यवहार, बहुत अच्छा लगता है।

सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।



फूहड़पन के वस्त्र, बुरे सबको लगते हैं,

जंग लगे से शस्त्र, बुरे सबको लगते हैं,

स्वाभाविक श्रंगार, बहुत अच्छा लगता है।

सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।



वचनों से कंगाल, बुरे सबको लगते हैं,

जीवन के जंजाल, बुरे सबको लगते हैं,

सजा हुआ घर-बार, बहुत अच्छा लगता है।

सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।



चुगलखोर इन्सान, बुरे सबको लगते हैं,

सूदखोर शैतान, बुरे सबको लगते हैं,

सज्जन का सत्कार, बहुत अच्छा लगता है।

सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।



लुटे-पिटे दरबार, बुरे सबको लगते हैं,

दुःखों के अम्बार, बुरे सबको लगते हैं,

हरा-भरा परिवार, बहुत अच्छा लगता है।

सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।



मतलब वाले यार, बुरे सबको लगते हैं,

चुभने वाले खार, बुरे सबको लगते हैं,

निश्छल सच्चा प्यार, बहुत अच्छा लगता है।

सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।

शनिवार, 25 अप्रैल 2009

"ममता बिन मातृत्व अधूरा लगता है।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')




करुणा बिन करुणत्व अधूरा लगता है।

रचना बिन अस्तित्व अधूरा लगता है।।


प्रेम-रोग में गम का होना,

जीवन का ये ही है रोना,

प्रियतम बिन अपनत्व अधूरा लगता है।

करुणा बिन करुणत्व अधूरा लगता है।।


नालों का जहरीला पानी,

लील रहा मासूम जवानी,

जीवन बिन दायित्व अधूरा लगता है।

करुणा बिन करुणत्व अधूरा लगता है।।


बचपन बहुत सुहाना लगता,

सुख का ठौर ठिकाना लगता,

ममता बिन मातृत्व अधूरा लगता है।

करुणा बिन करुणत्व अधूरा लगता है।।


शुक्रवार, 24 अप्रैल 2009

एक खुली बहस- "क्या ब्लागर साहित्यकार नही होता है?" डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

क्या ब्लागर साहित्यकार नही होता है?

क्या साहित्यकार का सामान्य-ज्ञान शून्य होना चाहिए?

बीस अप्रैल को मैंने एक पोस्ट लगाई थी। जिसमें जरा बताइए तो शीर्षक से एक माथापच्ची थी।

चित्र उत्तराखण्ड की प्रसिद्ध दरगाह पीरान कलियर शरीफ का था।

साहित्य शारदा मंच, खटीमा की कार्यसमिति ने इसका उत्तर सबसे पहले देने वाले तीन विजेताओं को साहित्य शारदा मंच, के सर्वोच्च सम्मान ‘‘साहित्य-श्री’’ से पुरस्कृत करने का निर्णय किया।

एक बेनामी ने टिप्पणीकार ने इस पर अपना कमेंट निम्न रूप में किया-

बेनामी ने कहा…
श्रीमान जी, साहित्य श्री साम्मान का स्तर इतना मत गिराईये कि

एक पहेली के जवाब मे बंटने लग जाये। आगे आपकी मर्जी।

April 24, 2009 12:31 PM

उसका उत्तर मैंने निम्नवत् दिया-

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…
बेनामी जी।

इतना भी बता दें कि क्या ये तीन लोग आपकी नजर में साहित्यकार नहीं हैं।

भइया!

मेरी लिस्ट में तो ये साहित्यकार ही हैं। सोच-समझकर ही यह निर्णय किया गया है।

फिर रचना जी के निम्न दो कमेंट आये-

रचना ने कहा…
"इतना भी बता दें कि क्या ये तीन लोग आपकी नजर में साहित्यकार नहीं हैं।

"jee haan yae teen log saahitykaar nahin haen blogger haen

blog aur saahity do alag alag vidha haen ।
April 24, 2009 1:47

रचना ने कहा…
anaam kaemnt mera nahin haen yae bhi kehddena jaruri haen
April 24, 2009 1:53 PM

जिनका उत्तर मैंने रचना जी को इस रूप में दिया।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…
वाह वाह रचना जी!

आपकी टिप्पणी पर तो आपको साहित्य-श्री के अतिरिक्त जो भी सम्मान हो वह दे देना चाहिए।

मैं इस व्यर्थ की चर्चा को आगे बढ़ाना नही चाहता था।

परन्तु आपने प्रेरित किया है या यों कहिए कि स्वाभिमान को ललकारा है,

तो मुझे अलग से इस पर एक पोस्ट लगानी पड़ेगी।

हर्ज ही क्या है ? एक खुली बहस तो हो ही जायेगी।

अरे, आप तो Comment की वर्तनी भी अशुद्ध लिखती हैं।

फिर आप ब्लागर को साहित्यकार कब स्वीकार करने वाली हैं

एक बार फिर बता दीजिए कि हिन्दी के धुरन्धर लिखाड़ क्या साहित्यकार नही होते हैं?

आशीष खण्डेलवाल एक कम्प्यूटरविद् हैं।

क्या आप कम्प्यूटर विज्ञान को साहित्य नही मानती है?

वन्दना अवस्थी दूबे जो इतना अच्छा लिख रही हैं।

आपकी दृष्टि में वो भी साहित्यकार नही हैं।

सबसे पुराने हिन्दी चिट्ठाकारों के रूप में आदरणीय समीरलाल को भी

आप साहित्यकार क्यों स्वीकार करेंगी?

जिनका साहित्य ब्लॉग-जगत से निकलकर अब पुस्तकों के रूप में आ चुका है।

इन सभी को आप साहित्यकार भले ही न मानें।

मैं तो इन्हें साहित्यकार मान कर इनका सम्मान करना अपना धर्म समझता हूँ।
April 24, 2009 3:42 PM


अब मैं ब्लाग जगत के सभी चिट्ठाकारों से निवेदन करना चाहता हूँ -

कि निम्न दो बिन्दुओं पर अपने-अपने विचार मुझे दिशा-निर्देश के रूप में देने की कृपा करें।

क्या ब्लागर साहित्यकार नही होता है?

क्या साहित्यकार का सामान्य-ज्ञान शून्य होना चाहिए?

"राष्ट्र-संघ में हिन्दी मे भाषण करना होगा।" प्रस्तुति-डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

श्री मदन ‘विरक्त’ के साथ वार्ता करते हुए डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

प्रख्यात हिन्दी साहित्यकार, कवि व सम्पादक श्री मदन ‘विरक्त’ लोक-सभा के प्रत्याशियों और मतदाताओं से मिलने के लिए 20 अप्रैल से 26 अप्रैल तक पीलीभीत, खटीमा, सितारगंज, किच्छा, टनकपुर के प्रवास पर हैं।


इनकी प्रवास यात्रा एक मात्र उद्देश्य है कि केवल उसी प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करना है। जो यह संकल्प ले कि संसद में जाकर वह राष्ट्र-भाषा हिन्दी को उसका उचित स्थान दिलवायेगा। इसके लिए श्री मदन ‘विरक्त’ प्रत्याशियों से जन सम्पर्क मे संलग्न हैं।


इस अभियान में वह मतदाताओं से भी संकल्पपत्र भरवा रहे हैं। मैं साहित्य शारदा मंच का अध्यक्ष होने और माँ-भारती का सेवक होने के नाते इस अभियान में इनके पूरी तरह से साथ हूँ।


मूल मन्त्र यह है कि भारत की राष्ट्र-भाषा हिन्दी जिस दिन जन-भाषा के रूप में प्रतिष्ठित हो जायेगी। उस दिन भारत स्वतः ही विश्व में अपना गौरवशाली स्थान प्राप्त कर लेगा। इसके लिए राष्ट्र-संघ में हमारे नेताओं को हिन्दी मे भाषण करना होगा।


यह तभी सम्भव है जबकि संसद में ऐसे प्रत्याशी जीत कर जायें। जो हिन्दी के प्रबल समर्थक हों।

गुरुवार, 23 अप्रैल 2009

‘जरा बताइए तो’ माथापच्ची के विजेता।


उच्चारण पर ‘जरा बताइए तो’ शीर्षक से माथापच्ची पोस्ट लगाई थी।

इसमें एक चित्र प्रकाशित किया था।

जिसके बारे में स्थान बताते हुए उसका नाम बताना था।

इसका सही उत्तर था-

पीरान कलियर शरीफ दरगाह, रुड़की, उत्तराखण्ड।

इस पर 5 ब्लॉगर्स के सही उत्तर प्राप्त हुए थे।

सबसे पहले स्थान पर रहे-


सर्व श्री आशीष खण्डेलवाल जी।

दूसरे स्थान पर रहीं



माननीया वन्दना अवस्थी दूबे।

तृतीय स्थान पर रहे जाने माने ब्लॉगर




सर्व श्री समीर लाल (उड़न-तश्तरी)।

उपरोक्त को साक्षात्कार के प्रश्न शीघ्र ही प्रेषित किये जायेंगे।

आशा है कि आप सब मेरा

यह निमन्त्रण स्वीकार करने की कृपा करेंगे।

प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने

वालों को साहित्य शारदा मंच,खटीमा की ओर से

साहित्य-श्री

की सर्वोच्च उपाधि से अलंकृत किया जायेगा।

सही उत्तर देने वाले चौथे और पाँचवें ब्लॉगर्स

सर्व श्री ताऊ रामपुरिया

और श्री रावेंद्रकुमार रवि रहे।

उच्चारण की ओर से मैं डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

सही उत्तर देने वाले इन सब ब्लॉगर्स को

हार्दिक बधायी प्रेषित करता हूँ ।

"लब्ध प्रतिष्ठित कवि मदन ‘विरक्त’ का एक राष्ट्रीय गीत।" प्रस्तुति-डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

लब्ध प्रतिष्ठित कवि मदन ‘विरक्त’

अन्तर्राष्ट्रीय पुरस्कारः 15 सितम्बर, 1970, प्रथम अन्तर्राष्ट्रीय कृषि पत्र प्रदर्शनी (इफ्जा) में कृषि पत्र के श्रेष्ठ सम्पादन के लिए सम्मानित।

श्रेष्ठ सहकारी सम्पादक सम्मानः भारतीय राष्ट्रीय सहकारी संघ द्वारा 10 जनवरी 1986 को सम्मानित।

हिन्दी सेवी सम्मानः दिल्ली प्रादेशिकहिन्दी साहित्य सम्मेलन, महामना मण्डल द्वारा

26 दिसम्बर 1976 को सम्मानित।

राजधानी पत्रकार मंच द्वारा नई दिल्ली में हिन्दी सेवी सम्मान 14 सितम्बर 2008 को सम्मानित।

साहित्य-श्री सम्मान से उत्तराखण्ड साहित्य शारदा मंच द्वारा 2007 हिन्दी दिवस पर सम्मानित।

डा. अम्बेडकर मानद उपाधिः भारतीय दलित साहित्य अकादमी, नई दिल्ली द्वारा हिमाचल भवन में

8 अगस्त 1987 को तत्कालीन केन्द्रीय सूचना मन्त्री श्री एच.के.एल. भगत द्वारा सम्मानित।

राष्ट्र नेता स्मृति इफ्जा राष्ट्रीय सम्मान वर्ष-2008

मध्य प्रदेश के राज्यपाल डा। बलराम जाखड़ द्वारा 14 नवम्बर 2009 को सम्मानित।

E-Mail: maharajaaagrasensamachar@gmail.com


वीरों की माता हूँ, वीरों की बहना।

पत्नी उस वीर की हूँ, शस्त्र जिसका गहना।


वीरों की माता के, रूप में जब आती,

गा-गा कर प्यार भरी, लोरियाँ सुनाती,

करती बलिदान पूत, केसरिया पहना।

वीरों की माता हूँ, वीरों की बहना।।


दौज का टीका और राखी के धागे,

भगिनी का प्यार लिए, वीर बढ़े आगे,

सुख-दुख में मुस्काना, धीरज से रहना,

वीरों की माता हूँ, वीरों की बहना।।


मैं वीर नारी हूँ, साहस की बेटी,

मातृ-भूमि रक्षा को, वीर सजा देती,

आकुल अन्तर की पीर, राष्ट्र हेतु सहना।

वीरों की माता हूँ, वीरों की बहना।।


मातृ-भूमि, जन्म-भूमि, राष्ट्र-भूमि मेरी,

कोटि-कोटि वीर पूत, द्वार-द्वार दे री,

जीवन भर मुस्काए, भारत का अंगना।

वीरों की माता हूँ, वीरों की बहना।।

पत्नी उस वीर की हूँ, शस्त्र जिसका गहना।।

"वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।

महक उठे सूने गलियारे, इक अरसे के बाद।।

भटके होंगे कहाँ-कहाँ, जाने कैसी मजबूरी थी,

मैंने खोजा यहाँ-वहाँ, लेकिन किस्मत में दूरी थी,

दहक उठे सोये अंगारे, इक अरसे के बाद।

वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।।

जाड़ा बीता, गरमी बीती, रिम-झिम सावन बरस गये,

जल बिन मछली से वो तड़पे, नैन मेरे भी तरस गये,

दूर हुए हैं अब अंधियारे, इक अरसे के बाद।

वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।।

उनके आने से उपवन में, फिर हरियाली छायी है,

पतझड़ की मारी बगिया में, पवन बसन्ती आयी है,

चहक उठे आँगन चौबारे, इक अरसे के बाद।

वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।।

बुधवार, 22 अप्रैल 2009

"अब छेड़ो कोई नया राग, अब गाओ कोई गीत नया।" (डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


अब छेड़ो कोई नया राग, अब गाओ कोई गीत नया।
सुलगाओ कोई नयी आग, लाओ कोई संगीत नया।

टूटी सी पतवार निशानी रह जायेगी,
दरिया की मानिन्द जवानी बह जायेगी,
फागुन में खेलो नया फाग, अब गाओ कोई गीत नया।

पीछे-पीछे आओ, समय अच्छा आयेगा,
सोया स्वप्न-सलोना, सच्चा हो जायेगा,
करवट बदलेगा नया भाग, अब गाओ कोई गीत नया।

मंजिल चल कर पास स्वयं ही आ जायेगी,
आशाओं की किरण, नयन में छा जायेंगी,
बालो चन्दा जैसा चिराग, अब गाओ कोई गीत नया।

मंगलवार, 21 अप्रैल 2009

"मीत पुराने, नये-जमाने अच्छे लगते हैं।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)




गीत पुराने, नये तराने अच्छे लगते हैं।

मीत पुराने, नये-जमाने अच्छे लगते हैं।


जब भी मन ने आँखे खोली, उनका दर्शन पाया,

देखी जब-जब सूरत भोली, तब-तब मन हर्षाया,

स्वप्न सुहाने, सुर पहचाने अच्छे लगते हैं,

मीत पुराने, नये-जमाने अच्छे लगते हैं।


रात-चाँदनी, हँसता-चन्दा, तारे बहुत रुलाते,

किसी पुराने साथी की वो, बरबस याद दिलाते,

गम के गाने, नये ठिकाने अच्छे लगते हैं।

मीत पुराने, नये-जमाने अच्छे लगते हैं।।


घाटी-पर्वत, झरने झर-झर, अभिनव राग सुनाते,

पवन-बसन्ती, रिम-झिम बून्दें, मन में आग लगाते,

देश अजाने, लोग बिराने अच्छे लगते हैं।

मीत पुराने, नये-जमाने अच्छे लगते हैं।।


जरा बताइए तो -


माथापच्ची


उत्तराखंड में ये कौन सी जगह है?


सही उत्तर बताने वाले सर्व-प्रथम विजेता का विस्तृत इण्टर-व्यू ,


द्वितीय विजेता का व्यक्तित्व और कृतित्व


तथा तृतीय विजेता का जीवन-वृत्त


उच्चारण पर प्रकाशित किया जायेगा।


समय अवधि-23 अप्रैल, २००९


प्रातः 10 बजे तक।


सोमवार, 20 अप्रैल 2009

"सर्वेक्षण" (डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


नैनीताल में नैनी-सरोवर में कमल तैरने का प्रयास कर रहा है।


हाथ उसे पकड़ने के प्रयास में लगा है।


लेकिन मैदानी क्षेत्र ऊधमसिंहनगर में हाथी मस्त चाल से चल रहा है।


इसकी पकड़ से पहाड़ भी अछूते नही हैं।


‘‘दिनचर्या’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

मेरे पड़ोस में शारदा की उपत्यिका में बसा एक सुन्दर नगर टनकपुर के नाम से जाना जाता है।

कई दशक पुरानी बात है। यहाँ एक सज्जन पान की दूकान चलाते थे। उनका नाम गंगाराम पनवाड़ी था। समाज के निचले दर्जे के आदमी थे। उनके 6 बच्चे थे। बड़ी मुश्किल से पान की दूकान से गुजर-बसर हो पाती थी। लेकिन दिनचर्या में उनका जवाब नही था।

रोज शाम को घर आते ही उनका सबसे पहला काम यह होता था कि अलग-अलग गोलकों में हर बच्चे की फीस के पैसे, दूध के पैसे, और आम खर्च के पैसे जरूर जमा करते थे। इसीलिए उनके बच्चों की कभी स्कूल की फीस लेट नही हुई। दूधवाले का पैसा कभी लेट नही हुआ।

आज उनके सभी बच्चे अच्छा पढ़-लिख कर उच्च पदों पर कार्यरत है। समाज में इस परिवार का आदर-मान है।

कहने का तात्पर्य यह है कि यदि लगन हो तो गरीब व्यक्ति भी समाज में अपना स्थान बना सकता है। लेकिन इसके लिए दिनचर्या तो निश्चित करनी ही होगी।

रविवार, 19 अप्रैल 2009

‘‘पहना दो अब मक्कारों को चप्पल-जूतों की माला।‘‘ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)




पहना दो अब मक्कारों को चप्पल-जूतों की माला।


इन गुस्सालों ने अपना गुलशन वीरान बना डाला।।


जागा सबका मन, और माटी का जागा है कण-कण,


जागी कलियाँ और चमन का जागा है हर एक सुमन,


आस्तीन में पलने नही देंगे, कोई विषधर काला।


पहना दो अब मक्कारों को चप्पल-जूतों की माला।।



धन-बल से इन्सानों के, ईमान नही बिक पायेंगे,


असली के आगे, नकली भगवान नही टिक पायेंगे,


देश-भक्त इन शैतानों को याद दिला देंगे खाला।


पहना दो अब मक्कारों को चप्पल-जूतों की माला।।



जमा विदेशों में सारा, अब काला-धन लाना होगा,


जन-गण-मन में, स्वाभिमान का अलख जगाना होगा,


उग्रवादियों की गरदन में, डालो फाँसी की माला।


पहना दो अब मक्कारों को चप्पल-जूतों की माला।।


"कुछ तो बतलाओ?" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



मरुथल सुन्दर सा लगता है, उनके आने से।

घर भी मन्दिर सा लगता है, उनके आने से।।

मन में शहनाई सी बजती, उनके आने से।

गालों पर अरुणाई सजती, उनके आने से।।

बिन बादल वर्षा आ जाती, उनके आने से।

सूखी सरिता सरसा जाती, उनके आने से।।

पतझड़ में हरियाली आती, उनके आने से।

मौसम में खुशहाली आती, उनके आने से।।

कौन कहाँ के वासी हो कुछ तो जतलाओ?

एक शब्द में अपना परिचय तो बतलाओ ।।


शनिवार, 18 अप्रैल 2009

‘‘प्रश्न चिह्न ???’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

जो छन्द तलाश रहे इसमें, वो गहरे घावों को देखें।


जो बन्द तलाश रहे इसमें, वो केवल भावों को देखें।।



जब धर्म-मजहब की चक्की में, मानवता पिसती जाती है।


जब पत्थर पर दानवता, नकली चन्दन घिसती जाती है।।



क्यों शेर सभी बिल्ले बन जाते, जब निर्वाचन आता है।


क्यों खूनी पंजे बाहर आते, हो जब निर्वाचन जाता है।।



क्यों पूरी सजा नही मिलती, इन संसद के मतवालों को।


क्यों समयचक्र चलता जाता है, अपनी वक्र कुचालों को।।



जो रचना करती, पाठ-पढ़ाती, आदि-शक्ति ही नारी है।


फिर क्यों अबला जैसे शब्दों की, बनी हुई अधिकारी है।।



प्रश्न-चिह्न हैं बहुत, इन्हें अब हमको शीघ्र हटाना है।


नारी के खोये अस्तित्वों को, फिर भूतल पर लाना है।।


"गुरू सहाय भटनागर बदनाम की एक गजल" प्रस्तुति-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

शादमानी रहेगी



बहारों की महफिल सुहानी रहेगी,

खुदा की मगर मेहरबानी रहेगी।

आप यूँ ही अगर हम से मिलते रहोगे,

चमन में गुलों की निशानी रहेगी।

तेरा साथ है गर तो मंजिल है आसां,

ये हंसीन वादियों भी सुहानी रहेगीं।

दिल जो दिया है तो वादा निभाना,

तेरे इश्क की सादमानी रहेगी।

अगर तोड़ कर दिल कहीं चल दिये तो,

जुवां पर जहाँ की कहानी रहेगी।

शुक्रवार, 17 अप्रैल 2009

"अच्छा लगता है" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


कभी मानना और कभी मनवाना, अच्छा लगता है।

बीती यादों से मन को बहलाना, अच्छा लगता है।।


छोटी बहनें और सहेली जब घर में आ जाती हैं,

गुड्डे-गुड़िया उन्हें खिलाना , अच्छा लगता है।


ठण्ड-गुलाबी, पवन-बसन्ती, जब बहने लगती है,

उछल-कूद कर पतंग उड़ाना, अच्छा लगता है।


उमड-घुमड़ कर जब बादल नभ में छा जाते हैं,

रिम-झिम में खुद को नहलाना, अच्छा लगता है।


बाल्यकाल की करतूतें जब मन पर छा जाती हैं,

बचपन की यादों में खो जाना, अच्छा लगता है।


बिना भूख के पकवानों में भी तो स्वाद नही है,

भूख पेट में हो तो रूखा खाना, अच्छा लगता है।


यौवन आने पर, संगी-साथी के साथ सुहाते है,

सुख का सुन्दर नीड़-बनाना, अच्छा लगता है।


पचपन में जब श्रीमती जी जम कर डाँट रही हों,

तब मिट्टी का माधौ बन जाना, अच्छा लगता है।


नाती-पोते जब घर भर में, ऊधम काट रहे हों,

बुड्ढों का कुढ़ कर रह जाना, अच्छा लगता है।

‘‘सावधान! जूते चप्पल बाहर ही उतार कर आयें।’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



आज मेरे छोटे से शहर में एक बड़े नेता जी पधार रहे हैं।

उनके चमचे जोर-शोर से प्रचार करने में जुटे हैं।


रिक्शों व जीपों में लाउडस्पीकरों से उद्घोषणाएँ हो रही हैं-


‘‘भाइयों और बहनों!

आज आपके नगर में माननीय..........................पधार रहे हैं।


आपसे पुरजोर अपील है कि उनके विचारों को सुनने के लिए अवश्य पधारें।’’


उद्घोषणा का असार हुआ और लोग सभा-स्थल पर पहुँचने लगे।


प्रवेश-द्वार पर दोनों ओर जूते-चप्पल जमा करने के लिए स्टाल लगे थे।


स्टालों पर बड़े-बड़े शब्दों में लिखा हुआ था-


‘‘लोक-तन्त्र के देवता के दर्शन करने और

उनको सुनने के लिए- कृपया जूते चप्पल यहाँ जमा करायें।’’

‘सभा में जूते-चप्पल पहिन कर जाना सख्त मना है।’


सच ही कहा कि भैया! जूते का रौब गालिब है।

जूतों से सब भयभीत हैं।

गुरुवार, 16 अप्रैल 2009

एक मुक्तक (डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

(चित्र- गूगल छवियाँ से साभार)

त्यागी और बलिदानी, अपना काम कर गये,



लेकिन उनका कोई, प्रतिदान नही पाया है।



भारत के विगत का, नही है इतिहास याद,



आज की कुशलता ने, कल को भुलाया है।



देश के विचारवान, सत्ता के दलालों ने,



वोट माँगने को, अभिनेता को बुलाया है।


‘‘स्वामी रामदेव बाबा का भारत स्वाभिमान आन्दोलन।’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


स्वामी रामदेव बाबा के भारत स्वाभिमान आन्दोलन के पाँच लक्ष्यः-


1- 100 प्रतिशत मतदान।

2- 100 प्रतिशत राष्ट्रवादी चिन्तन।

3- 100 प्रतिशत विदेशी कम्पनियों का बहिष्कार।

4- 100 प्रतिशत देशभक्त लोगों को संगठित करना तथा

5- 100 प्रतिशत योगमय भारत का निर्माण।

बाबा रामदेव जी के उपरोक्त लक्ष्यों से मैं स्वयं भी 100 प्रतिशत सहमत हूँ।

परन्तु बाबा जी को एक विनम्र निवेदन के साथ निम्न

सुझाव भी देना चाहता हूँ

परम श्रद्धेय बाबा राम देव जी !

आपके पास जनता का प्रबल समर्थन है।

आप यदि चाहें तो सरकार को निम्न सुझाव मानने को बाध्य कर सकते हैं।

यदि ऐसा सम्भव हो जाता है तो आपके भारत स्वाभिमान के उपरोक्त लक्ष्य

सरलता से पूर्ण हों सकते हैं।

चुनाव कराना सरकार का कार्य है।

इसमें प्रत्याशी की भूमिका अपना नामांकन कराना या

उसे वापिस लेने भर की ही होनी चाहिए ।

लेकिन आज नामांकन के बाद से ही प्रत्याशी की भूमिका मुख्य हो जाती है।

एक-एक प्रत्याशी करोड़ों रुपये इसमें व्यय कर देता है।

इससे मतदाता दिग्भ्रमित तो होते ही हैं, साथ ही कुछ लोभवश भी भ्रष्ट राजनीतिज्ञों

को वोट करने को मजबूर हो जाते हैं।

चुनाव आयोग चाहे कितनी ही सख्ती करे लेकिन उसका तोड़ प्रत्याशी निकाल ही लेता है।

मेरा सुझाव है कि -

क- सरकार/चुनाव आयोग निर्वाचन के लिए प्रत्येक प्रत्याशी से एक निश्चित धनराशि

जमा करा ले और अपने स्तर पर सभी प्रत्याशियों का एक समान प्रचार करे।

ख- जैसे ही प्रत्याशी अपना नामांकन कराये उसे सरकार तब तक अपना मेहमान बनाये,

जब तक कि चुनाव परिणाम घोषित न हों।

क्योंकि चुनाव कराना सरकार का कार्य है। आज भारत की जनता त्रस्त है कि

देश में चुनाव निष्पक्ष नही सम्पन्न हो रहे हैं।

आदरणीय स्वामी जी!

केवल आप ही नही बल्कि देश की 99 प्रतिशत जनता यही चाहती है कि

देश में चुनाव निष्पक्ष हों। सभी की कामना है कि देश की सत्ता ईमानदार लोगों

के हाथों में हो। आप इस दिशा में प्रयास ही नही अपितु आदेश करें।

देश का 100 प्रतिशत मतदाता आपके साथ है।

"वो छन्द सुनाना ना भूली, मैं गीत बनाना भूल गया।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


वो प्रीत निभाना ना भूली,

मैं रीत निभाना भूल गया।

वो छन्द सुनाना ना भूली,

मैं गीत बनाना भूल गया।।


शब्दों से जब बतियाता हूँ,

अनजाने में लिख जाता हूँ,

वो स्वप्न सजाना ना भूली,

मैं मीत बनाना भूल गया।

वो प्रीत निभाना ना भूली,

मैं रीत निभाना भूल गया।।


मन जब पागल हो जाता है,

उलझन में जब खो जाता है,

वो पथ दिखलाना ना भूली,

मैं दीप जलाना भूल गया।

वो प्रीत निभाना ना भूली,

मैं रीत निभाना भूल गया।।


वो संग सुमेधा सी रहती,

मस्तक में मेधा सी रहती,

वो हार बनाना ना भूली,

मैं जीत मनाना भूल गया।

वो प्रीत निभाना ना भूली,

मैं रीत निभाना भूल गया।।

लघु-कथा (एक बहिन ऐसी भी) डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

मैं उस समय ग्यारहवीं कक्षा में पढ़ता था। जीवविज्ञान विषय की क्लास में मेरे साथ कुछ लड़कियाँ भी पढ़तीं थीं। परन्तु मैं बेहद शर्मीला था। इसी लिए कक्षाध्यापक ने मेरी सीट लड़कियों की बिल्कुल बगल में निश्चित कर दी थी।

कक्षा में सिर्फ एक ही लड़का मेरा दोस्त था। उसका नाम राम सिंह था। था तो वह काला-कलूटा ही परन्तु लड़कियाँ उसे बहुत पसन्द करती थी। क्योंकि राम सिंह की आर्ट बहुत अच्छी थी। वह यदा-कदा जीव-विज्ञान के चित्र उनको बना कर दे देता था।

मेरे बिल्कुल बगल में ही एक लड़की बैठती थी। उसका नाम मधु था। भोली सी सूरत, साधारण रूप-रेखा। मैं उससे कभी बात नही करता था। लेकिन वो मुझसे बात करने को उतावली रहती थी। बहुत दिनों तक यही दिनचर्या चलती रही।

एक दिन मैं रात को 8 बजे के लगभग रेलवे स्टेशन पर किसी सगे सम्बन्धी को रेल-गाड़ी में बैठा कर आ रहा था।

थोड़ी दूर ही चला था कि मैंने देखा कि- राम सिंह इस लड़की से बदतमीजी कर रहा था। वैसे तो मैं बड़ा शर्मीला था और एकाकी था। परन्तु न जाने कहाँ से मुझमें इतना साहस आ गया कि मैंने राम सिंह की अच्छी तरह से धुलाई कर दी।

बात आई-गयी हो गयी।

दो दिन बाद मैं क्या देखता हूँ कि मधु और उसकी माँ अचानक मेरे घर पर आ गयीं। मेरी माता जी को उन्होंने सारा वाकया सुनाया और मेरी प्रशंसा करने लगे।

माता जी को यह सुन कर बड़ा आश्चर्य भी हुआ कि मेरा लड़का इतना शान्त और सीधा है फिर इसमें इतना साहस कहाँ से आ गया। लेकिन उन्हें मेरी यह करतूत अच्छी लगी। फिर तो मधु के परिवार से हमारे रिश्ते ज्यादा गहरे हो गये।

तब से रक्षाबन्धन पर प्रति वर्ष मधु मुझे राखी बाँधने लगी।

कुछ समय के बाद उसकी शादी धामपुर में एक सम्भ्रान्त परिवार में हो गयी।

आज उसकी आयु 58 - 59 वर्ष की तो जरूर हो गयी है। घर-परिवार में नाती-पोते भी हैं। परन्तु रक्षाबन्धन पर्व पर उसकी राखी आज भी मुझे डाक से अवश्य आती है।

बुधवार, 15 अप्रैल 2009

"तारों की महफिल में, खद्योतों का निर्वाचन है।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


झूठे-वादे, कोरे-नारे, झूठा सब अपना-पन है।


तारों की महफिल में, खद्योतों का निर्वाचन है।



रंग-बिरंगे झण्डे फहराने की, सब में होड़ लगी है,


खुजली वाले नेताओं के, मन में कोढ़ लगी है,


रूखा-सूखा मत का भूखा, बिन पानी का ये घन है।


तारों की महफिल में, खद्योतों का निर्वाचन है।।



पाँच साल जम कर लूटा, अब लुट जाने के दिन हैं,


वोट बैंक की खातिर, जूतों से पिट जाने के दिन हैं,


कुर्सी की खातिर ये करता, पूजा, हवन, भजन है।


तारों की महफिल में, खद्योतों का निर्वाचन है।

मंगलवार, 14 अप्रैल 2009

‘सेवा मिशन की बैठक सम्पन्न’’ एक-रपट

"सेवा मिशन की बैठक सम्पन्न"

उत्तराखण्ड के खटीमा में भारती भवन में

राष्ट्रीय वैदिक पूर्व माध्यमिक विद्यालय के सभागार में सेवा मिशन की एक
बैठक आज दिनांक 14-04-2009 को अम्बेदकर जयन्ती के अवसर पर सम्पन्न हुई।

इस अवसर पर सुप्रसिद्ध लकड़ी व्यवसायी बाबू हंस राज सुनेजा ने

अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा- ‘‘आज हर जगह बुजुर्गों की अवहेलना की जा रही है।

इस संस्था के माध्यम से हम उनके परिवार में उनके पुत्रों और पौत्रों को प्रेरणा देगे

कि वह अपने परिवार के वृद्ध जनों को उचित आदर दें।’’

राइस मिलर्स एशोसियेसन के संरक्षक श्री मलिक राज बत्रा ने इस अवसर पर कहा-

‘‘बहुत से ऐसे वृद्ध दम्पति हैं, जिन्हें सहायता की आवश्यकता है। इस संस्था के
माध्यम से ऐसे लोगों को चयनित कर, उन्हें सरकार द्वारा मिलने वाली
वृद्धावस्था पेंशन का लाभ दिलवाने में उनकी सहायता कर सकेंगे।’’

प्रधानाचार्य पद से अवकाश प्राप्त श्री के0सी0 जोशी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा
कि समाज के उपेक्षित वृद्ध व्यक्तियों की सहायता के लिए संस्था आवश्यक कोष की व्यवस्था करेगी और इन जरूरतमन्दों की यथासम्भव सहायता करेगी।
वन निगम के काण्ट्रेक्टर और लकड़ी व्यवसायी श्री जोगेन्द्र सिंह सेठी ने कहा कि

गरीब परिवार की जवान लड़कियों के विवाह में संस्था की ओर से
आर्थिक सहयोग प्रदान किया जायेगा।
अन्त में बैठक के आयोजक डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ने अपने धन्यवाद ज्ञापन में कहा कि
जब हम लोग तीन-तीन कुत्ते पाल सकते हैं तो क्यों न नगर का सर्वेक्षण कर
ऐसे वृद्ध तलाश करें जिनके पास खाने के साधन नही हैं
और उनमें से कई को भरपेट खाना भी नसीब नही है।
ऐसे एक या दो व्यक्तियों को प्रतिदिन अपने घर खाना खिलायें।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए उद्योगपति पी0एन0 सक्सेना ने कहा

कि हम दिखावे के लिए विभिन्न सम्मेलनों मे लाखों रुपया व्यय कर देते है।
तो क्यों न समाज के उपेक्षित लोगों की सेवा कर पुण्य के भागीदार बनें।


बैठक का संचालन करते हुए सुप्रसिद्ध समाजसेवी लायन सतपाल बत्रा ने कहा कि

शीघ्र ही इस संस्था की नियमावली बनाई जायेगी

और यह संस्था अपना सेवा का कार्य शुरू कर देगी।

"गीत सरस सरसेंगे।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


कल्पनाओं में आओगे तो गीत सरस सरसेंगे।

बन कर बदली छाओगे तो, नीर सरस बरसेंगे।।


बुझे हुए अंगारों में तो, केवल राख मिलेगी।

शमशानों में ढूँढोगे तो, केवल खाक मिलेगी।।


मुझको पाओगे मेरी ही, रचना की परवाजों में।

मधुरिम शब्दों में पाओगे, गीतों की आवाजों में।।


जो बोया जाता है, उसको ही है काटा जाता।

कर्मों के अनुसार, पुण्य-फल को है बाँटा जाता।।


बेहोशी में पड़े रहे तो, प्राण निकल जायेंगे।

प्यार भरी मदहोशी में, अरमान फिसल जायेंगे।।


मौसम के काले कुहरे को, जीवन में मत छाने दो।

सुख-सपनों में कभी नही, इसको कुहराम मचाने दो।।


"चम्पू काव्य" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक)



आज गूँगा राष्ट्र क्यों अपना हुआ,


जबकि मन सैलाब बहना चाहता।


क्या कहें, किससे कहें, कैसे कहें?


एक वर्ग विशेष हमको रोकता।


बोलने वाले बने क्यों मूक हैं?


दासता में हम नही,


इतने कभी परतन्त्र थे।


क्योंकि वर्ग विशेष हमको,


बोलने को कह रहा था।


एक ही भाषा हमारी,


एक ही तो लक्ष्य था,


एकता के सुर सजा कर,


हम सभी धनवान थे।


सिन्ध से कन्याकुमारी तक,


यही आवाज थी,


तोड़ डालो दासता की बेड़ियाँ।



फिर हुआ आजाद अपना देश प्यारा,


राष्ट्र-भाषा एक घोषित हो गयी।


आज तक काले पुरुष,


गोरे मुखौटों को सजाये फिर रहे हैं,


है यह कैसी महान विडम्बना,


दासता के घन गगन पर घिर रहे हैं।


राज सिंहासन मिला,


हिन्दी के कारण।


किन्तु अब तक राष्ट्र की,


भाषा नही बन पाई है,


इसलिए यह कह रहा हूँ,


सो गया सन्तो का सपना।


आज गूँगा राष्ट्र अपना।।

सोमवार, 13 अप्रैल 2009

"ताज-महल" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)





चारु-चन्द्र की किरणों का, दुखदायी लगता है अवलोकन।

शीतल चमकीली रातों मे, बोझिल हो जाता सबका मन।।


पूनम की रातों में कैसे, देखूँ सुन्दर ताज महल को,

किया हुआ है दफ्न यहीं, उसने प्यारी मुमताज महल को।

सुख का साथी बिछुड़ गया, तो दोजख ही मानो जीवन।

शीतल चमकीली रातों मे, बोझिल हो जाता सबका मन।।



प्रेमी-युगल यहाँ मत आना, छाया यहाँ विरह का घेरा,

दूर-दूर तक नही सवेरा, यहाँ भरा घन-घोर अन्धेरा,

यहाँ प्रीत का अन्त छिपा है, लुप्त हो गया है अपनापन।

शीतल चमकीली रातों मे, बोझिल हो जाता सबका मन।।



‘‘हमने चाचा की चाची देख ली।’’ (डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)






कल ही की तो बात है।

मेरे छोटे पुत्र के लिए एक सज्जन अपनी पुत्री के विवाह का

प्रस्ताव लेकर आये।

मैंने उनसे पूछा-

‘‘अपनी बिटिया का फोटो और बायोडाटा तो लाये होंगे।’’

उन्होंने कहा- ‘‘ जी सर! आपके यहाँ नेट हो तो अभी दिखा देता हूँ।’’

मैं उन्हे अपने पी.सी. पर ले गया।

नेट पर उन्होंने बिटिया का फोटो और बायोडाटा दिखा दिया।

मैंने वो अपने कम्प्यूटर पर सेव कर लिया।

शाम को जब परिवार के लोगों को इसे दिखा रहा था तो मेरी

5 वर्षीया पोती प्राची ने मुझसे पूछा- ‘‘बाबा जी ये किसका फोटो है?’’

मैंने उत्तर दिया- ‘‘बेटा! ये तुम्हारी चाची जी का फोटो है।’’

मेरी 5 वर्षीया पोती उछल-उछल कर जोर-जोर से कहने लगी-


‘‘हमने चाचा की चाची देख ली।’’


"महान टिप्पणीकारों को प्रणाम करता हूँ।" (डॉ रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



इस पोस्ट को क्या शीर्षक दूँ?

लघु-कथा, हादसा या संस्मरण या शब्द-चित्र।


यदि कोई ब्लागर मित्र सही शीर्षक सुझायें तो उनका बड़ा उपकार होगा।


हिन्दी साहित्य के जाज्वलयमान नक्षत्र महान साहित्यकार


श्री विष्णु प्रभाकर जी के अस्त हो जाने पर कल मैंने अपनी

एक पोस्ट में उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए

उन्हें अपनी भाव-भीनी श्रद्धांजलि समर्पित की थी।

मेरे एक ब्लागर मित्र ने इस पोस्ट को टिपियाते हुए लिखा था-


‘‘ ............................ शुक्रिया।’’

अब आप स्वयं ही विचार कर लें कि इतना महान साहित्यकार


इस दुनिया से चला गया है। तो उनके लिए श्रद्धांजलि लिखने में

कौन सी विपत्ति आ जाती।

मर जाने जैसे विषय पर "शुक्रिया!"


बहुत खूब।


-०-०--०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०

मेरे दूसरे ब्लागर मित्र ने तो कमाल ही कर दिया।


उन्होंने लिख मारा-


‘‘बहुत सुंदर .................. शास्त्री जी को मेरी भी श्रद्धांजलि।’’

इन्होंने तो मुझ जीते-जागते व्यक्ति को ही अपनी श्रद्धांजलि समर्पित कर दी।


खैर, मुझे "शुक्रिया" और "श्रद्धांजलि" दोनो ही स्वीकार हैं।


आशा है आप सभी टिप्पणीकार मुझ पर कृपादृष्टि बनाए रक्खेंगे।


कहिए जनाब!!


कैसी लगी आपको मेरी ये नई पोस्ट?


रविवार, 12 अप्रैल 2009

"गुरूसहाय भटनागर "बदनाम" का एक शेर" प्रस्तुति-डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

आ के ख्वाबों में मेरे दिल को दुखा जाती है,


दूर से हँस-हँस के मेरी नींद उड़ा जाती है।


मैं रात भर तेरी यादों में खोया रहता हॅू,


दिन के उजाले में दिल का दर्द बढ़ा जाती है।

"टिपियाने में छन्द बन गये" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

मत ढूढों दर्पण लेकर, कविता अन्तस् में रहती है,

सरिता की धारा ही आँसू बन नयनों में बहती है।


भाव-भाव हैं, छन्द-शास्त्र के कभी रहे मुहताज नही,

सभी बादशाहों के दिल में, रह सकती मुमताज नही।


सागर की गहराई में जाकर ही मोती मिलते हैं,

काँटों की शैय्या पर ही, कोमल गुलाब खिलते हैं।


व्यंग बाण से घायल होकर, आह निकल जाती है,

गजल-गीत की रचना को, लेखनी फिसल जाती है।


दिलवालों की बातें दिलवाले ही जानें,

बे-दिलवाले पीर पराई क्या पहचानें?


अकस्मात् ही भाव बहे और बन्द बन गये,

टिपियाने के लिए अनोखे छन्द बन गये।

"श्री विष्णु प्रभाकर जी को भाव-भीनी श्रद्धांजलि" (डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



हिन्दी के शीर्षस्थ साहित्यकार विष्णु प्रभाकर जी हिन्दी साहित्य को समृद्धशाली बना कर इस लौकिक संसार से हमेशा-हमेशा के लिए विदा हो गये हैं। परन्तु हिन्दी साहित्य की अमूल्य धरोहर के रूप में लाखों-करोड़ो हिन्दी साहित्य प्रेमियों के दिलों में अपनी कभी न मिटने वाली यादें छोड़ गये हैं।
निश्छल स्वभाव वाले, साहित्य के इस साधक को कौन भुला पायेगा। वे साहित्य को पूर्णतः समर्पित कालजयी साहित्यकार थे।
उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के एक छोटे कस्बे मीरापुर में 20 जुलाई 1912 को जन्मे इस साहित्यकार ने जीवन के बहुत उतार-चढ़ाव झेले और साहित्य की साधना करते चले गये। बहुमुखी प्रतिभा के धनी श्री प्रभाकर जी की साहित्यिक प्रतिभा भी बहुमुखी थी।
उन्होंने हिन्दी -साहित्य की विधाओं जैसे- उपन्यास, कहानी-लेखन, एकांकी-लेखन, नाटक, जीवनी, बालोपयोगी साहित्य आदि सभी में अपनी सशक्त लेखनी को चलाया। 1980 के दशक में मैंने रुहेलखण्ड विश्वविद्यालय के एम.ए. के पाठ्यक्रम में उनके नाटक ‘‘युगे-युगे क्रांन्ति’’ के द्वारा उनके गहन चिन्तन-मनन का परिचय पाया था। वह स्मृति आज भी मेरे मन पर उनकी विशेष छाप बनाये हुए है।
मैं इस महान साहित्यकार को प्रणाम करता हूँ।
अपने दिल की गहराइयों से उन्हें भाव-भीनी श्रद्धांजलि समर्पित करता हूँ।

शनिवार, 11 अप्रैल 2009

"दूध की रखवाली बिल्ले ही करने में लगे हैं।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

आज अधिकतर लोग भारत को कुतरने में करने में लगे हैं। जिसे भी देखता हूँ वही इसका कुछ न कुछ नोच ही लेता है और अपनी कर्तव्य परायणता पूरी कर लेता है। इसीलिए मेरा प्यारा देश! उपहास का पात्र बनता जा रहा है।

ताऊ रामपुरिया अक्सर इस पर अपनी कलम चलाते हैं तो मुझे अच्छा लगता है।

इस कड़ी को मैं एक कथानक के माध्यम से स्पष्ट कर रहा हूँ। जो बचपन में मेरे ताऊ जी मुझे सुनाया करते थे।

एक प्राईमरी स्कूल के मास्टर साहब थे। वे स्कूल परिसर में ही एक टीन शेड में रहते थे।

संयोग से दो दिन बाद स्कूल में डिप्टी साहब का दौरा होने वाला था।

मास्टर साहब ने तुरत-फुरत बाजार जाकर कुरते-पाजामे का कपड़ा लिया और दर्जी को सिलने के लिए दे आये। अगले ही दिन दर्जी ने उनका कुरता पाजामा सिल कर उनके घर पहुँचा दिया।

मास्टर साहब ने दर्जी के जाने के बाद इसे पहिन कर देखा तो कुर्ता तो ठीक था परन्तु पाजामा कुछ दो इंच लम्बा हो गया था।

मास्टर साहब ने अपनी पत्नी से कहा- ‘‘भगवान! कल स्कूल में डिप्टी साहब का मुआयना है। मेरा पाजामा 2 इंच काट कर फिर से तुरपाई कर दो।’’

मास्टर साहब की पत्नी ने कहा- ‘‘सुनो जी मेरी फुरसत नही है। बेकार के काम मुझे मत बताया करो।’’

अब मास्टर साहब अपनी बड़ी पुत्री के पास गये और उससे कहा- ‘‘बिटिया रानी! मेरा पाजामा दर्जी ने दो इंच बड़ा सिल दिया है। इसे दो-इंच काट कर तुरपाई कर दो।’’

बड़ी बेटी ने कहा- ‘‘पिता जी! मेरे कल से इम्तिहान होने वाले हैं। आप इसे दर्जी से ही ठीक करा लो।’’

कुछ इसी तरह का बहाना छोटी बेटी ने भी बना दिया।

अब मास्टर जी ने सोचा कि मैं ही इसे 2 इंच काट कर छोटा कर लेता हूँ और उन्होंने पाजामा ठीक करके खूँटी पर टाँग दिया।

इधर मास्टरनी जी को भी ख्याल आया तो उन्होंने भी पाजामामे पर कैंची चला कर ठीक करके फिर से उसी खूँटी पर टाँग दिया।

यही करामात दोनों बेटियों ने भी कर दी और पाजामे को ज्यों का त्यों खूँटी पर टाँग दिया।

अगले दिन जेसे ही डिप्टी साहब के स्कूल में आने की हल-चल हुई तो मास्टर साहब ने जल्दी से कुरता पाजामा पहना और बन-ठन कर कक्षा में आ गये।

छात्र-छात्राएँ मास्टर साहब को देख कर हँसने लगे तो मास्टर जी ने कहा-‘‘देखते नही, डिप्टी साहब मुआयने के लिए आये हैं और आप लोग हँस रहे हैं।"

अब डिप्टी साहब ने भी मास्टर जी की ओर ध्यान दिया तो वह भी हँसते हुए बोले- ‘‘मास्टर जी! पहले अपने को तो देखो। आपने यह जो पहन रखा है, ना तो यह पाजामा है और नही घुटन्ना है।’’

कहने का तात्पर्य यह है कि मेरे देश की भी दशा मास्टर जी के पाजामे से कम नही है।

आज देश के कर्णधार नेता गण ही इसे सबसे ज्यादा कुतरने में लगे हैं।

दूध की रखवाली बिल्ले ही करने में लगे हैं।

सच्ची बात है भैया! राम नाम ....................है।

लेबल

-अच्छा लगता है -एक गीत" -नाच रहा इंसान -बादल -सन्देश- :(नवीन जोशीःनवीन समाचार से साभार) :ताजमहल का सच :स्वर-अर्चना चावजी का !!रावण या रक्तबीज!! ''धान खेत में लहराते" 'आप' का अन्दाज़ बिल्कुल 'आप' सा 'गबन' और 'गोदान' 'सिफत' के लिए शुभाशीष ‘‘चम्पू छन्द’’ ‘‘बाल-गीत’’ ‘‘वन्दना’’ ‘‘हाइकू’’ ‘कुँवर कान्त’ ‘क्षणिका’ ‘ग़ज़लियात-ए-रूप’ ‘चन्दा और सूरज’ ‘भूख ‘रूप’ का इस्तेमाल मत करना ‘रूप’ की महताब ‘सुख का सूरज’ को पढ़ने का अनुभव " (सौंदर्य) Beauty by John Masefield" अनुवादक - डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' " दुखद समाचार" मेरे पिताश्री श्रद्धेय घासीराम आर्य जी का देहावसान " रावण सारे राम हो गये "1975 में रची गयी मेरी एक पेशकश" "5 मार्च-मेरे पौत्र का जन्मदिवस" "अनोखा संस्मरण" "अपना वतन" "अमर वीरंगना लक्ष्मीबाई का 193वाँ जन्मदिवस" "अमलतास खिलता मुस्काता" "आज से ब्लॉगिंग बन्द" (डॉ. रूपचंद्र शास्त्री 'मयंक') "आजादी का जश्न" "आजादी की वर्षगाँठ" "ईद मुबारक़" "उल्लू" "कुहरा पसरा है गुलशन में" "क्षणिका" "खटीमा का छोटी लाइन से बड़ी लाइन तक का ऐतिहासिक सफर" "खेतों में शहतूत उगाओ" "गधा हो गया है बे-चारा" "गिलहरी" "गोबर लिपे हुए घर" "चिड़िया रानी" "जग का आचार्य बनाना है" "जय विजय का अप्रैल-2018 का अंक" "जय विजय का नवम्बर-2020 का अंक" "जय विजय का सितम्बर-2019 का अंक" "जय विजय के अगस्त-2016 अंक में प्रकाशित" "जय विजय के दिसम्बर अंक में "जय-विजय "जय-विजय-जुलाईः2016" "जाड़े पर आ गयी जवानी "ज्येठ भ्राता सम मेरे बहनोई मा. रघुनन्दन प्रसाद" "टुकड़ा-Fragment' a poem by Amy Lowell" "टुकड़ा" (Fragment' a poem by Amy Lowell) "ढल गयी है उमर" "ताऊ डॉट इन पर 2009 में मेरा साक्षात्कार" "तेरह सितम्बर-ज्येष्ठ पुत्र का जन्मदिन" "दीपावली" "दो जून की रोटी" "दो फरवरी" छोटेपुत्र की वैवाहिक वर्षगाँठ "दोहा दंगल में मेरे दोहे" "नया-नवेला साल" "नववर्ष" "नूतन भारत के निर्माता पं. नेहरू को नमन" "पर्यावरण-दिवस" "पावन प्यार-दुलार" "पितृ दिवस पर विशेष" "पुस्तक दिवस" "पैंतालिसवीं वैवाहिक वर्षगाँठ" "प्राणों से प्यारा है अपना वतन" "बचपन" "बच्चों का संसार निराला" "बसन्त पञ्चमी" "भइया दूज का तिलक" "भारत को करता हूँ शत्-शत् नमन" "भावावेग-कुन्दन कुमार" "मातृ दिवस" "मित्र अलबेला खत्री की 5वीं पुण्य तिथि पर" "मूरख दिवस" "मेरी पसन्द के पाँच दोहे" "मेरी मुहबोली बहन" "मौसम के अनुकूल बया ने "रूप की अंजुमन" से ग़ज़ल "रेफ लगाने की विधि और उसका उच्चारण" "लगा रहे हैं पहरों को" "विविध दोहावली" "विश्व रंग-मंच दिवस" "विश्व हिन्दीदिवस" "व्योम में घनश्याम क्यों छाया हुआ?" "शरीफों की नजाकत है" "श्री कृष्ण जन्माष्टमी" "सबका ऊँचा नाम करूँ" "सावन आया रे.... "साहित्य सुधा-अक्टूबर (प्रथम) में "सिसक रहे शहनाई में" "सीधा प्राणी गधा कहाता" "सीधी-सच्ची बात" "सुनानी पड़ेगी ग़ज़ल धीरे-धीरे" "हम तुम्हें हाल-ए-दिल सुनाएँगे" "हमारा गणतन्त्र" "हमारे प्रधानमन्त्री मोदी जी का जन्मदिन" "हमीं पर वार करते हैं" “अरी कलम! तू कुछ तो लिख” “एहसास के गुंचे” “ग़ज़लियात-ए-रूप” तथा “स्मृति रपट “गुरुओं से सम्वाद” “नदी सरोवर झील” “प्रकाश स्तम्भ” “बीमार गुलाब:William Blake” “रूप” को मोम के पुतले घड़ी भर में बदलते हैं “रूप” सुखनवर तलाश करता हूँ “लौट चलें अब गाँव” “सकारात्मक अर्थपूर्ण सूक्तियाँ” “सम्वेदना की नम धरा पर” “हरेला” “हिन्दी व्यञ्जनावली-पवर्ग” “DEATH IS A FISHERMAN" BY BENJAMIN FRANKLIN (जय विजय (डॉ. महेन्द्र प्रताप पाण्डेय 'नन्द') (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') ♥ फोटोफीचर ♥ 1111 13 सितम्बर 13 सितम्बर- नितिन तुमको हो मुबारक जन्मदिन 15वीं वर्षगाँठ १‍६००वीं पोस्ट 17-04-2015 (शुक्रवार) को प्रातः 10 बजे से यज्ञ (हवन) तत्पश्चात श्रद्धांंजलि 1800वीं पोस्ट 1901वाँ पुष्प 2000वीं पोस्ट 2016 2017 2017 में मेरा गीत प्रकाशित 2017 में मेरी बालकविता 2019 2019 में मेरी बालकविता 2021 243वीं पुण्य तिथि पर 25 दिसम्बर 26 जनवरी का इतिहास 30 सितम्बर 38वी 40वीं वैवाहिक वर्षगाँठ 42वीं वैवाहिक वर्षगाँठ 48वीं वैवाहिक वर्षगाँठ 5 दिसम्बर 5 मार्च मेरे पौत्र प्रांजल का जन्मदिन 8 जून 2013 9 नवम्बर 9 नवम्बर 2000 9 फरवरी ंहकी हवाएँ अंकगणित के अंक अंकुर हिन्दी पाठमाला में बिना मेरी अनुमति के मेरी बाल कविता अंग ठिठुरता जाय अँगरेजी का जोर अँगरेजी का रंग अंगिया के सँग आज अंग्रेजी का मित्रवर छोड़ो अब व्यामोह अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लॉगर सम्मलेन अँधियारा हरते जाएँगे अकविता अक्टूबर 2019 में मेरा गीत अक्टूबर-2017 अक्टूबर-2018) अक्षर बड़े अनूप अखबारों में नाम अगजल अग़ज़ल अगर न होंगी नारियाँ अगर न होती बेटियाँ थम जाता संसार अगस्त 2017 अचरज में है हिन्दुस्तान अच्छा लगता घाम अच्छा लगता है अच्छा व्यक्ति बनना बहुत जरूरी है अच्छा साहित्यकार अच्छी नहीं लगतीं अच्छी लगती घास अच्छी सेहत का राज अच्छे नहीं आसार हैं अज़ल अज्ञान के तम को भगाओ अज्ञानी को ज्ञान नहीं अटल आपका नाम अटल बिहारी का जन्मदिन अटल बिहारी के बिना अटल बिहारी वाजपेई अडिगता-सजगता का प्रण चाहता हूँ अड्डा पाकिस्तान अढ़सठ आज बसन्त अतिवृष्टि अतुकान्त अदाओं की अपनी रवायत रही है अद्भुत अपना देश अध्यापक की बात अध्यापक दिवस अनज़ान रास्तों पे निकलना न परिन्दों अनीता सैनी अनुत्तरित प्रश्न अनुबन्धों का प्यार अनुबन्धों की मत बात करो अनुभावों की छिपी धरोहर अनुभावों की धरोहर अनुवाद अनुवादक : डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक” अनोखा संस्मरण (परलोक) अनोखी गन्ध अन्त किया अत्याचारी का अन्तरजाल अन्तरजाल हुआ है तन अन्तरराष्ट्रीय नारि-दिवस पर दो व्यंग्य रचनाएँ अन्तर्जाल अन्तर्राष्टीय मूर्ख दिवस अन्तर्राष्ट्रीय बाल साहित्य सम्मेलन की चित्रावली अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस अन्तस् मैले हैं अन्धविश्वास या इत्तफाक अन्धा कानून अन्न उगाओ अन्नकूट अन्नकूट (गोवर्धनपूजा) अन्नकूट पूजा अन्नकूट पूजा करो अन्नकूट/गोवर्धन पूजा अन्ना अन्ना हजारे अन्ना-रामदेव अन्र्तरजाल अपना गणतन्त्र अपना चौकीदार अपना दामन सिलना होगा अपना देश महान अपना धर्म निभाओगे कब अपना नीड़ बनाया है अपना नैनीताल अपना बना गया कोई अपना भगवा रंग अपना भारत देश अपना भारत देश महान अपना शीश नवाता हूँ अपना हिन्दुस्तान अपना है गणतंत्र महान अपनायेंगे योग अपनावतन अपनी आजादी अपनी भाषा मौन अपनी भाषा हिन्दी अपनी माटी गीत सुनाती अपनी मुरलिया बना तो अपनी मेहनत से मुकद्दर को बनाना चाहिए अपनी रक्षा का बहन अपनी वाणी मधुर बनाओ अपनी हिन्दी अपनीआजादी अपनीबात अपने छोटे से जीवन में अपने ज़माने याद आते हैं अपने पैर पसार चुका है अपने भारत को करता हूँ शत्-शत् नमन अपने मन को बहलाते हैं अपने वीर जवान अपने शब्दों में धार भरो अपने सढ़सठ साल अपने हिन्दुस्तान की अफजलगुरू अब आ जाओ कृष्ण-कन्हैया अब आँगन में वृक्ष अब इस ओमीक्रोन से अब कागा की काँव में अब कैसे सुधरें हाल सुनो अब गर्मी पर चढ़ी जवानी अब जगत के बन्धनों से मुक्त होना चाहता हूँ अब जम्मू-कश्मीर की ध्वस्त करो सरकार अब जूते के सामने अब झूठे सम्मान अब तक का लोखा जोखा अब तो करो प्रहार अब तो जम करके बरसो अब तो दुआ-सलाम अब तो युद्ध जरूरी है अब न कुठाराघात करो अब नीड़ बनाना है अब पढ़ना मजबूरी है अब पैंतालिस वर्ष अब बसन्त आने वाला है अब बसन्त आयेगा अब भी वीर सुभाष के अब मिट गया वजूद अब मेरे सिर पर नहीं अब हिन्दी की धूम अबकी बार दिवाली में अभिनय करते लोग अमन अमन का सन्देश अमन चाँदपुरी अमन हो गया गोल अमर बारती अमर भारती जिन्दाबाद अमर रहे साहित्य अमर रहेगा जगत में अमर वीरंगना लक्ष्मीबाई की 159वीं पुण्यतिथि अमर वीरंगना लक्ष्मीबाई के 185वें जन्मदिवस पर अमर वीरांगना महारानी लक्ष्मी बाई अमर वीरांगना लक्ष्मीबाई और श्रीमती इन्दिरा गांधी का जन्मदिवस अमरउजाला अमरभारती अमरभारती पहेली 100 के परिणाम अमरूद अमरूद गदराने लगे अमल-धवल होता नहीं अमलतास अमलतास का रूप अमलतास के झूमर अमलतास के पीले गजरे अमलतास के पीले झूमर अमलतास के फूल अमलतास खिलता-मुस्काता अमलतास तुम धन्य अमलतास राहत पहुँचाता अमिया अम्बेदकर जी का जन्मदिन अयोध्या पर फैसला अरमानों की डोली अर्चना चावजी अर्चना चावजी और रचनाबजाज अर्चना-रचना अर्चाना चावजी अर्द्धकुम्भ की धूम अलग-अलग हैं राग अलबेला खत्री जी को श्रद्धाजलि अलाव असली 'रूप' दिखाता दर्पण असार-संसार अस्तित्व अस्मत बचाना चाहिए अहंकार की हार अहसास अहोई अष्टमी अहोईअष्टमी आ गई गुलशन में फिर बहार आ गया नव वर्ष फिर से आ गया बसन्त. बसन्तपंचमी आ गयी दीपावली आ गये नेता नंगे आ गये फकीर हैं आ गये बादल आ जाओ अब कृष्ण-कन्हैया आ जाओ गोपाल आ भी आओ चन्द्रमा आ भी आओ चन्द्रमा तारों भरे आकाश में आ भी जाओ! आ हमारे साथ श्रम को ओढ़ ना आँखें आँखें कर देतीं इज़हार आँखें कुदरत का उपहार आँखें नश्वर देह का आँखों का उपहार आँखों का दर्पण आँखों के बिन जग सूना है आँखों में होती है भाषा आँचल में है दूध और आँसू आँसू औ’ मुस्कान आँसू का अस्तित्व आँसू की कथा-व्यथा आँसू यही बताते हैं आइना आई चौदस रूप की आई फिर से लोहिड़ी आई फिर से लोहिड़ी आई फिर से लोहिड़ी लेकर नवल उमंग। आई फिर से लोहिड़ी लेकर नवल उमंग। आई फिर से होली आई बसन्त-बहार आई होली आई होली रे आओ अपना धर्म निभाएँ आओ गौतम बुद्ध आओ तिरंगा फहरायें आओ दीप जलायें हम आओ दूर करें अँधियारा आओ पेड़ लगायें हम आओ मोहन प्यारे आओ आग के बिन धुँआ नहीं होता आग बरसती धरा पर आगत का स्वागत करने में आगरा आगे बढ़ना आसान नहीं आगे बढ़िए-आगे बढ़िए.... आचमन के बिना आचरण आचरण होता नहीं आचार की बातें करें आचार्य देवेन्द्र देव आज अहोई पर्व आज आदमी बौना है आज और कल का भेद आज करवाचौथ पर मन में हजारों चाह हैं आज का नेता आज कुछ उपहार दूँगा आज के परिवेश में आज खिले कल है मुरझाना आज तो मूर्ख भी दिवस है ना आज दिवस प्रस्ताव आज नदारद प्याज आज नीम की छाँव आज पुरवा-बयार आयी है आज फिर बारिश डराने आ गयी आज बरखा-बहार आयी है आज बहनों की हैं ये ही आराधना आज बहुत है शोक आज मेरे देश को सुभाष चाहिए आज रफायल बन गया आज विश्व हिन्दी दिवस आज शाखाएँ बहकी आज शिक्षक दिवस है आज सुखद संयोग आज सुखद-संयोग आज हम खेलें ऐसी होली आज हमारी खिलती बगिया आज हा-हा कार सा है आज हारी है अमावस आज हुई बरसात आज-कल आजाद भारत आजाद हिन्दुस्तान के नारे बदल गये आजादी आजादी अक्षुण्ण हमारी आजादी करती है आज सवाल आजादी का तन्त्र आजादी का तोहफा आजादी का पर्व आजादी का मन्त्र आजादी की वर्षगाँठ आजादी मुझको खलती है आठ दोहे आठ मार्च-आठ दोहे आड़ू आतंक को पाल रहा नापाक आतंकवाद आतंकी आती इन्दिरा याद आते हैं बदलाव आदत में अब चाय समायी आदत है हैवानों की आदमी का चमत्कार आदमी तो आज फिर से ताज पा गया आदमी से अच्छे जानवर आदमी ही बन गये हैं आदिदेव कर दीजिए बेड़ा भव से पार आधा "र्" का प्रयोग आधी आजादी आन-बान आने वाला है नया साल आने वाला है बसन्त आप सबको मुबारक नया वर्ष हो आपका एहतराम करते हैं आपके बिन मेरी होली सूनी है। आपदा आफत मचाने आ गयी आपस के सम्बन्ध आपस में तकरार आपस में मतभेद आपस में सुर मिलाना आपाधापी आफत की बरसात आफत के परकाले आभार आभारदर्शन आभासी दुनिया आभासी संसार आभासी संसार में आम आम और लीची आम और लीची का उदगम आम के वास्ते अब कहाँ तन्त्र है आम गया है हार आम दिलों में खास आम पेड़ पर लटक रहे हैं आम में ज़ायका नहीं आता आम हो गया खास का आम-नीम बौराये फिर से आमआदमी आमन्त्रण आया नया निखार आया नहीं सुराज आया पास किनारा आया फागुन मास आया बसन्त आया भादौ मास आया मधुमास आया राखी का त्यौहार आया है ऋतुराज आया है त्यौहार ईद का आया है त्यौहार तीज का आया हैं मधुमास आयी रेल आयी सावन तीज आयी है बरसात आयी है शिवरात आयी होली आयी होली-आयी होली आये सन्त कबीर आये हैं शैतान आयेगा इस बार भी नया-नवेला साल आरती आरती उतार लो आरती उतार लो आ गया बसन्त है आराधना आर्य समाज: बाबा नागार्जुन की दृष्टि में आलिंगन उपहार आलिंगन/चुम्बन दिवस आलिंगनदिवस आलू आलूबुखारा आलेख आलोकित परिवेश आल्हा आवश्यक सामान आवश्यक सूचना आवागमन आशा आशा का चमत्कार आशा का दीप जलाया क्यों आशा के दीप जलाओ तो आशा पर उपकार टिका है आशा शैली आशा है आशाएँ मुस्काती हैं आशाएँ विश्वास जगाती आशाओं पर प्यार टिका है आशियाना चाहिए आशीष का आशीष तुम्हें मैं देता आशु-कविता आसमान आसमान का छोर आसमान की झोली से... आसमान के दीप आसमान में आसमान में कुहरा छाया आसमान में छाये बादल आसमान में बादल छाया आस्था-विश्वास आह्वान इंसान बदलते देखे हैं इंसानियत का रूप इंसानी पौध उगाओ इंसानी भगवानों में इक मौन-निमन्त्रण तो दे दो इक शामियाना चाहिए इतनी मत मनमानी कर इतने न तुम ऐंठा करो इनकी किस्मत कौन सँवारे इन्तज़ार इन्दिरा गांधी इन्दिरा! भूलेंगे कैसे तेरो नाम इन्द्र बहादुर सेन इन्द्रधनुष का चौमासे में “रूप” हमें दिखलाते हैं इन्द्रधनुष का रूप हमें दिखलाते हैं इन्द्रधनुष के रंग निराले इन्सानी भगवानों में इबादत इमदाद आयेगी इलज़ाम के पत्थर इल्म रहता पायदानों में इशारे समझना इस जीवन की शाम ढली इस धरा को रौशनी से जगमगायें इस नये साल में ईद ईद और तीज आ गई है हरियाली ईद का चाँद आया है ईद तीज आ गई है हरियाली ईद मनाई जाती है ईद मुबारक़ ईद-दिवाली-होली मिलकर ईमान बदलते देखे हैं ईवीएम में बन्द ईश्वर के आधीन उगता दिल में प्यार उगने लगे बबूल उग्रवाद-आतंक का उच्चारण की सबसे लोकप्रिय प्रविष्टि उच्चारण खामोश उजड़ गया है तम का डेरा उजड़ गया है नीड़ उज्जवल-धवल मयंक उड़ जायें जाने कब तोते उड़ता गर्द-गुबार उड़ता बग़ैर पंख के नादान आज तो उड़ती हुई पतंग उड़तीं हुई पतंग उड़नखटोला द्वार टिका है उड़नखटोला-यान उड़ान उड़ान में प्रकाशित उतना पानी दीजिए जितनी जग को प्यास उतना ही साहस पाया है उत्कर्षों के उच्च शिखर पर चढ़ते जाओ उत्तर अब माकूल उत्तराखण्ड उत्तराखण्ड का पर्व हरेला उत्तराखण्ड का स्थापना दिवस और संक्षिप्त इतिहास उत्तराखण्ड की सांस्कृतिक धरोहर उत्तराखण्ड के कर्मठ मुख्यमन्त्री उत्तराखण्ड के पर्व हरेला पर विशेष उत्तराखण्ड राज्य स्थापनादिवस उत्तराखण्ड राज्य का स्थापना दिवस उत्तरायणी उत्तरायणी पर्व उत्तरायणी-मकर संक्रान्ति उत्तरायणी-लोहड़ी उत्सव ललित-ललाम उत्सव हैं उल्लास जगाते उद्धव की सरकार उन्मीलन पत्रिका में मेरा एक गीत उन्हें हम प्यार करते हैं उपन्यास सम्राट को उपमा में उपमान उपवन के फूल उपवन मुस्कायेगा उपवन में अब रंग उपवन में हरियाली छाई उपवन” का विमोचन उपसर्ग और प्रत्यय उपहार उपहार में मिले मामा-मामी उपासना में वासना उमड़-घुमड़ कर आये बादल उमड़ा झूठा प्यार उमड़ी पर्वत से जल धारा उम्मीद मत करना उम्र छियासठ साल हो गयी उलझ गया है ताना-बाना उलझ गये हैं तार उलझ रहे हैं तार उलझा है ताना-बाना उलझे हुए सवाल उलझे हुए सवालों में उल्फत के ठिकाने खो गये हैं उल्लास का उत्तरायणी पर्व उल्लू और गदहे उल्लू का आतंक उल्लू की परवाज उल्लू की है जात उल्लू जी का भूत उसका होता राम सा उसूल नापता रहा उसूल बाँटता रहा ऋतुएँ तो हैं आनी जानी ऋतुराज ऋतुराज प्रेम के अंकुर को उपजाता ऋषियों की सन्तान ऋषियों की हम सन्ताने हैं ए.पी.जे.अब्दुल कलाम को श्रद्धाञ्जलि एक अशआर एक कविता और एक संस्मरण एक गीत एक गीत-एक कविता एक दिन तो मचल जायेंगे एक दोहा एक ग़ज़ल. झाड़ू की तगड़ी मार एक दोहा और गीत एक नज़्म एक निवेदन एक पुराना गीत एक बालकविता एक मुक्तक एक मुक्तक पाँच दोहे एक रचना एक रहो और नेक रहो एक समय का कीजिए दिन में अब उपवास एक समान विधान से एक हजार एक-विचार एककविता एकगीत एकगीत एकता की धुन बजायें एकल कवितापाठ एकाकीपन एतबार अपने पे कम हैं एतिहासिक विवरण एप्रिलफूल एमिली डिकिंसन एमीलोवेल एला और लवंग एला व्हीलर विलकॉक्स एसी-कूलर फेल ऐ दुलारे वतन ऐतिहासिकआलेख ऐसा करो उपाय ऐसे घर-आँगन देखे हैं ऐसे पुत्र भगवान किसी को न दें ऐसे होगा देश महान ओ जालिम-गुस्ताख ओ बन्दर मामा ओ मेरे मनमीत ओटन लगे कपास ओम् जय शिक्षा दाता ओले ओलों की बरसात ओसामा और अब कितना चलूँगा...? और न अब हिमपात करो कंकड़ और कबाड़ कंकरीट की ठाँव में कंकरीटों ने मिटा डाला चमन कंचन सा रूप कंजूस मधुमक्खी कंस आज घनश्याम हो गये ककड़ी ककड़ी खाने को करता मन ककड़ी बिकतीं फड़-ठेलों पर ककड़ी मौसम का फल अनुपम ककड़ी लम्बी हरी मुलायम ककड़ी-खीरा खरबूजा है कट्टरपन्थी जिन्न कठमुल्लाओं की कटी कठिन झेलना शीत कठिन बुढ़ापा बीमारी है कठिन बुढ़ापा होता है कठिन हो गया आज गुज़ारा कड़ाके की सरदी में ठिठुरा बदन है कड़ी धूप को सहते हैं कड़ुए दोहे कथा कथानक क़दम क़दम पर घास कदम बड़ायेंगे कदम मिला कर चल रहा जीवनसाथी साथ कदम-कदम पर घास कनकइया की डोर तुम्हारे हाथो में कनिष्ठ पुत्र विनीत का जन्मदिन कनेर मुस्काया है कपड़े का पंडाल कब चमकेंगें नभ में तारे कब तक तुम सन्ताप भरोगे? कब तक मौन रहोगे कब बरसेंगे बादल काले कबूतर का घोंसला कभी आकाश में बादल घने हैं कभी उम्मीद मत करना कभी कुहरा कभी न उल्लू तुम कहलाना कभी न करना भंग कभी न करना माफ कभी न टूटे मित्रता कभी भी लाचार हमको मत समझना कभी सूरज कमल कमल के बिन सरोवर पर कमल पसरे है कमल पसरे हैं कमा रहे हैं माल कम्प्यूटर कम्प्यूटर और इंटरनेट कम्प्यूटर और इण्टरनेट कम्प्यूटर और जालजगत कम्प्यूटर बन गई जिन्दगी कम्बल-लोई और कोट से कर दिया क्या आपने कर दो काम तमाम कर दो दूर गुरूर कर लेना कुछ गौर कर लो सच्चा प्यार करके विष का पान करगिल विजय दिवस करता हूँ मैं ध्यान करते दिल पर वार करते श्रम की बात करना ऐसा प्यार करना पूरी मात करना भूल सुधार करना मत कुहराम करना मत दुष्कर्म करना मत हठयोग करना राह तलाश करना सब मतदान करनी-भरनी. काठी का दर्द करने को कल्याण करने बवाल निकले करने मलाल निकले करवा पूजन की कथा करवाचौछ करवाचौथ करवाचौथ पर करें सितम्बर मास में करो आज शृंगार करो तनिक अभ्यास करो पाक को ढेर करो भोज स्वीकार करो मदद हे नाथ करो मेल की बात करो रक्त का दान करो शहादत याद करो सतत् अभ्यास करो साक्षर देश कर्तव्य और अधिकार कर्म हुए बाधित्य कर्मनाशा कर्मों का ताबीज कल की बातें छोड़ो कल हो जाता आज पुराना कल-कल कल-कल शब्द निनाद कलम मचल जाया करती है क़लम मचल जाया करती है कल़मकार लिए बैठा हूँ कलयुग तुम्हें पुकारता कलयुग में इंसान कलेण्डर ही तो बदला कल्पनाएँ निर्मूल हो गईं कल्पित कविराज कवर्ग कवायद कौन करता है कवि कवि और कविता कवि लिखने से डरता हूँ कविगोष्ठी कविता कविता का आकार कविता का आथार कविता का आधार कविता का संयोग कविता को अब तुम्हीं बाँधना कविता क्या है? कविताओँ का मर्म कविता् कवित्त कविधर्म कवियों के लिए कुछ जानकारियाँ कव्वाली कष्ट उठाना पड़ता है कसाब कसाब को फाँसी कह राम और रहीम कहते लोग रसाल कहनेभर को रह गया अपना देश महान कहलाना प्रणवीर कहा कीजिए कहाँ खो गई मीठी-मीठी इन्सानों की बोली कहाँ गयी केशर क्यारी? कहाँ जायें बताओ पाप धोने के लिए कहाँ रहा जनतन्त्र कहाँ है आचरण कहानी कहीं आकाश में बादल घने हैं कहीं है हरा कहें मुबारक ईद कहें सुखी परिवार कहो मुबारक ईद काँटे और गुलाब काँटे और सुमन काँटे बुहार लेना काँटों ने उलझाया मुझको काँधे पर हल धरे किसान काँप रही है थर-थर काया काँव-काँव कौआ चिल्लाया। काँव-काँवकर चिल्लाया है कौआ काँवड़ का व्यतिरेक काक-चेष्टा को अपनाओ कागज की नाव काग़ज़ की नाव कागज की है नाव काठ की हाँडी चढ़ेगी कब तलक काठी का दर्द काने करते राज काम अपना तमाम करते हैं काम कलम का बोलता काम न करना बन्द काम-आराम कामी आते पास कामी और कुसन्त कामुकता का दौर कायदे से धूप अब खिलने लगी है। कार यात्रा कार हमारी हमको भाती कारवाँ कारा उम्र तमाम कारा में सच्चाई बन्द है कार्टूननिस्ट-मयंक खटीमा कार्तिक पूर्णिमा कार्तिक पूर्णिमा-गंगा स्नान काल की रफ्तार को छलता रहा हूँ काला अक्षर भैंस बराबर कालातीत बसन्त काले अक्षर काले बादल काव्य (छन्दों) को जानिए काव्य का मर्म काव्यानुवाद काव्यानुवाद-पिता की आकांक्षाएँ.. काश्..कोई मसीहा आये कितना आज सुकून कितनी अच्छी लगती हैं कितनी मैली हो गयी गंगा जी की धार कितनी सुन्दर मेरी काया कितने बदल गये हैं बन्दे कितने सपने देखे मन में किन्तु शेष आस हैं किया बहुत उपकार किये श्राद्ध निष्पन्न किसको गीत सुनाती हो? किसको लुभायेंगे अब किसलय कहलाते हैं किसान किसान-जवान किसे अच्छी नहीं लगती किसे सुनायें गीत किस्मत में लिक्खे सितम हैं कीटनिकम्मे कीर्तिमान सब ध्वस्त कुंठित हुआ समाज कुगीत कुछ अभिनव उपहार कुछ उड़ी हुई पोस्ट कुछ उद्गार कुछ और ही है पेट में कुछ काँटे-कुछ फूल कुछ क्षणिकाएँ कुछ चित्र ‘‘हाइकू’’ में कुछ तो करो यकीन कुछ तो बात जरूरी होगी कुछ दोहे कुछ भी नहीं असली है कुछ भी नहीं सफेद कुछ मजदूरी होगी कुछ शब्दचित्र कुटिल न चलना चाल कुटिल नहीं होते कभी कुटिल-काँटे लड़ाई ठानते हैं कुटिलकाँटे कुटी बनायी नीम पर कुण्ठा कुण्ठा भरे विचार कुण्ठाओं ने डाला डेरा कुण्डलिया कुण्डलियाँ कुण्डलियाँ-चीयर्स बालाएँ कुदरत का उपहार अधूरा होता है कुदरत का कानून कुदरत का हर काज सुहाना लगता है कुदरत की करतूत कुदरत ने फल उपजाये हैं कुदरत ने सिंगार सजाया कुदरत से खिलवाड़ कुन्दन जैसा रूप कुन्दन सा है रूप कुमाऊं के ब्लॉग कुमुद कुम्भ कुम्भ की महिमा अपरम्पार कुर्ता होली खेलता कुर्बानी कुहका कुहरा कुहरा करता है मनमानी कुहरा चारों ओर कुहरा छँटने ही वाला है कुहरा छाया है कुहरा पसरा आज चमन में कुहरा पसरा है आँगन में कुहरे का है क्लेश कुहरे की फुहार कुहरे की मार कुहरे की सौगात कुहासे का आवरण कुहासे की चादर कु्ण्डलिया कूटनीति की बात कूड़ा-कचरा कूर्मा़ञ्चली कविता कूलर कूलर गर्मी हर लेता है कृपा करो अब मात कृषक कृष्ण सँवारो काज कृष्णचन्द्र अधिराज कृष्णचन्द्र गोपाल के बिना केवल कुनबावाद केवल यहाँ धनार्थ केवल हिन्दू वर्ष क्यों केशव भार्गव "निर्दोष" की 8वीं पुण्यतिथि केशव भार्गव "निर्दोष" की 8वीं पुण्यतिथि के अवसर पर केसर के फूल केसरिया का रंग कैद कैमरे में करो कैसी है ये आवाजाही कैसे अपना भजन करूँ मैं कैसे आज बचाऊँ कैसे आये स्वप्न सलोना? कैसे उतरें पार? कैसे उपवन को चहकाऊँ मैं कैसे उलझन को सुलझाऊँ कैसे गुमसुम हो जाऊँ मैं कैसे जान बचाऊँ मैं कैसे देश-समाज का होगा बेड़ा पार कैसे नवअंकुर उपजाऊँ? कैसे नियमित यजन करूँ मैं कैसे नूतन सृजन करूँ मैं कैसे नूतन सृजन करूँ मैं? कैसे पायें पार कैसे पौध उगाऊँ मैं कैसे प्यार करेगा? कैसे फूल खिलें उपवन में कैसे बचे यहाँ गौरय्या कैसे मन को सुमन करूँ मैं कैसे मन को सुमन करूँ मैं? कैसे मिलें रसाल कैसे मुलाकात होती कैसे लू से बदन बचाएँ? कैसे शब्द बचेंगे अपने कैसे साथ चलोगे मेरे? कैसे सेवा-भाव भरूँ कैसे होंगे पार कैसै आये बहार भला कॉफी कॉफी की चुस्की कॉफी की चुस्की ले लेना कॉफी की तासीर निराली कोई बात बने कोई भूला हुए मंजर कोई वादा-क़रार मत करना कोई सोपान नहीं कोटि-कोटि वन्दन तुम्हें कोमल बदन छिपाया है कोयल आयी मेरे घर में कोयल आयी है घर में कोयल का सुर कोयल गाये गान कोयल चहकी कोयल रोती है कानन में कोयलिया खामोश हो गई कोरोना कोरोना का दैत्य कोरोना की बाढ़ कोरोना की मार कोरोना के रोग से कोरोना के साथ कोरोना को हराना है कोरोना वायरस कोरोना से डर रहा सारा ही संसार कोरोना से सारे हारे कोशिश कौआ कौआ होता अच्छा मेहतर कौड़ी में नीलाम मुहब्बत कौन सुखी परिवार कौन सुने फरियाद कौन सुनेगा सरगम के सुर क्या है प्यार क्या है प्यार-रॉबर्ट लुई स्टीवेंसन क्या हो गया है क्या होता है प्यार क्यों देश ऐसा क्यों राम और रहमान मरा? क्यों होता है हुस्न छली क्यों? क्रिकेट विश्वकप झलकियाँ क्रिसमस का त्यौहार क्रिसमस का शुभकामनाएँ क्रिसमस की बधाई क्रिसमस-डे क्रिस्टिना रोसेट्टी की कविता क्रोध क्षणभंगुर हैं प्राण क्षणिका क्षणिका को भी जानिए क्षणिका क्या होती है? क्षणिकाएँ खंजर उठा लिया खटमल-मच्छर का भेद खटीमा खटीमा (उत्तराखण्ड) का पावर हाउस बह गया खटीमा का परिचय खटीमा में आयोजितपुस्तक विमोचन के कार्यक्रम की रपट खटीमा में आलइण्डिया मुशायरा एवं कविसम्मेलन सम्पन्न खट्टे-मीठे और रसीले खतरे में आज सारे तटबन्ध हो गये हैं खतरे में तटबन्ध हो गये हैं खद्योत खद्योतों का निर्वाचन खबर छपी अखबारों मे ख़बरों की भरमार खर-पतवार उगी उपवन में खरगोश खरपतवार अनन्त खरबूजा खरबूजा-तरबूज खरबूजे खरबूजे का मौसम आया ख़ाक सड़कों की अभी तो छान लो खाता-बही है खादी खादी-खाकी खादी-खाकी की केंचुलियाँ खान-पान में शुद्धता खान-पान-परिधान विदेशी फिर भी हिन्दी वाले हैं खानदानों में खाने में सबको मिले रोटी-चावल-दाल ख़ार आखिर ख़ार है खार पर निखार है ख़ार से दामन बचाना चाहिए खारा पानी खारा-खारा पानी खारिज तीन तलाक खाली पन्नों को भरता हूँ खाली हुआ खजाना खास को होने लगी चिन्ता खास हो रहे मस्त खिल उठा है इन्हीं से हमारा चमन खिल उठे फिर से बगीचे में सुमन खिल जायेंगे नव सुमन खिल रहे फूल अब विषैले हैं खिलता फागुन आया खिलता सुमन गुलाब खिलता हुआ बसन्त खिलती बगिया है प्रतिपल खिलते हुए कमल पसरे हैं खिलने लगते फूल खिलने लगा सूखा चमन खिला कमल का फूल खिला कमल है आज खिली रूप की धूप खिली सुहानी धूप खिली हुई है डाली-डाली खिले कमल का फूल खिसक रहा आधार खीरा खुद को आभासी दुनिया में झोका खुद को करो पवित्र ख़ुदगर्ज़ी का हुआ ज़माना खुदा की मेहरबानी है खुद्दारों की खुद्दारी खुमानी खुलकर खिला पलाश खुलकर हँसा मयंक खुली आँखों का सपना खुली ढोल की पोल खुली बहस- खुलूस से खुश हो करके लोहड़ी खुश हो रहा बसन्त खुश हो रहे किसान खुशियों का परिवेश खुशियों की डोरी से नभ में अपनी पतंग उड़ाओ खुशियों से महके चौबारा खूब थिरकती है रंगोली खूबसूरत लग रहे नन्हें दिये खेत खेत उगलते गन्ध खेत घटते जा रहे हैं खेती का कानून खेतीहर-मजदूर खेतों ने परिधान बसन्ती पहना है खेतों में झुकी हैं डालियाँ खेतों में शहतूत लगाओ खेतों में सोना बिखरा है खेलते होली मोहनलाल खेलो रंग खो गई इन्सानियत खो गया कहाँ संगीत-गीत खो चुके सब कुछ खोज रहे हैं शीतल छाया खोल दो मन की खिड़की खोलो तो मुख का वातायन ख़्वाब का ये रूप भी नायाब है ख़्वाब में वो सदा याद आते रहे गंगा गंगा का अस्तित्व बचाओ गंगा जी की धार गंगा पुरखों की है थाती गंगा बचाओ गंगा बहुत मनोहर है गंगा मइया गंगा स्नान गंगास्नान गंगास्नान मेला गंजे गगन में छा गये बादल गगन में मेघ हैं छाये गजल गज़ल ग़जल ग़ज़ल ग़जल "शरीफों के घरानों की" ग़ज़ल "ख़ानदानों ने दाँव खेलें हैं" ग़ज़ल "उल्लओं की पंचायतें लगीं थी" ग़ज़ल की परिभाषा ग़ज़ल के उद्गगार ग़ज़ल में फिर से रवानी आ गयी है ग़जल या गीत ग़ज़ल संग्रह ग़ज़ल हो गयी क्या गजल हो गयी पास ग़ज़ल-गुरूसहाय भटनागर बदनाम ग़ज़ल? ग़ज़ल. ईमान आज तो ग़ज़ल. खून पीना जानते हैं ग़ज़ल. जीवन में खुशियाँ लाते हैं ग़ज़ल. दो जून की रोटी ग़ज़ल. पत्थरों को गीत गाना आ गया है ग़ज़लगो स्वयम् को बताने लगे ग़ज़लनुमा कुछ अशआर गज़लिका ग़ज़लिया-ए-रूप से एक नज़्म ग़ज़लियात-ए-रूप ग़ज़लियात-ए-रूप से एक ग़ज़ल ग़ज़लियात-ए-रूप से मेरी एक ग़ज़ल ग़ज़लियात-ए-रूप” की भूमिका गठबन्धन की नाव गढ़ता रोज कुम्हार गणतंत्र महान गणतन्त्र गणतन्त्र दिवस गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएँ गणतन्त्र दिवस पर राग यही दुहराया है गणतन्त्र पर्व पर गणतन्त्र महान गणतन्त्रदिवस गणनायक भगवान गणेश चतुर्थी पर विशेष गणेश वन्दना गणेशवन्दना गणेशोत्सव पर विशेष गणों का छन्दों में प्रयोग गणों की जानकारी गत गदहे गद्दार गद्दारी-मक्कारी गद्दारों को जूता गद्य-गीत गद्य-पद्य गद्यगीत गधा हो गया है बे-चारा गधे इस देश के गधे को बाप भी अपना समय पर वो बताते हैं। गधे बन गये अरबी घोड़े गधे हो गये आज गन्दे हैं हम लोग गमों के बोझ का साया बहुत घनेरा है गया अँधेरा-हुआ सवेरा गया दिवाकर हार गया पुरातन भूल गयी चाँदनी रात गयी बुराई हार? गयी मनुजता हार गये आचरण भूल गरम-गरम ही चाय गरमी का अब मौसम आया गरमी में जीना हुआ मुहाल गरमी में ठण्डक पहुँचाता मौसम नैनीताल का गरमी में तरबूज सुहाना गरिमा जीवन सार गरिमा दीपक पन्त गर्मी गर्मी आई खाओ बेल गर्मी के फल गर्मी को अब दूर भगाओ गर्मी में खीरा वरदान गर्मी में स्वेदकण गर्मी से तन-मन अकुलाता गली-गली में बिकते बेर गले न मिलना ईद गले पड़े हैं लोग गा रही दीपावली गाँधी का निर्वाण गांधी जी कहते हे राम! गाँधी जी का चित्र गांधी जी का जन्म दिवस गांधी हम शरमिन्दा हैं गांधीजयन्ती गाँव याद बहुत आते हैं गाँवों का निश्छल जीवन गाओ फिर से नया तराना गाता है ऋतुराज तराने गाना तो मजबूरी है गान्धी-लालबहुदुर जयन्ती गाय गाय-भैंस को पालना गायब अब हल-बैल गिजाई गिनते नहीं हो खामियाँ अपने कसूर पे गिरवीं बुद्धि-विवेक गिरवीं रखा जमाल गिरी जनक पर गाज गिलहरी गीत गीत "गाओ फिर से नया तराना" गीत और प्रीत का राग है ज़िन्द़गी गीत का व्याकरण गीत की परिभाषा के साथ मेरा एक गीत गीत को भी जानिए गीत गाना जानता है गीत गाने का ज़माना आ गया है गीत ढोंग-आडम्बर गीत न जबरन गाऊँगा गीत बन जाऊँगा गीत मेरा गीत सुनाती माटी गीत सुनाती माटी अपने गीत सुर में गुनगुनाओ तो सही गीत-ग़ज़लों का तराना गीत-छन्द लिखने का फैशन हुआ पुराना गीत? गीत. नाविक फँसा समन्दर में गीत. पुनः हरा नही हो सकता गीत. मतवाला गिरगिट रूप बदलता जाता है गीत. मेरे तीन पुराने गीत गीत. वीरों के बलिदान से गीतकार नीरज तुम्हें गीतिका गीतिका छन्द गीतिका. आजादी की वर्षगाँठ गीदड़ और विडाल गुझिया-बरफी गुनगुनाओ तो सही गुब्बारे गुरु नानक का जन्मदिन गुरु नानक जयन्ती गुरु पूर्णिमा गुरु वन्दना गुरुओं का ज्ञान गुरुओं का दिन गुरुकुल में हम साथ पढ़े गुरुदेव का वन्दन गुरुवर का सम्मान गुरू ज्योति का पुंज गुरू पूर्णिमा गुरू पूर्णिमा-गंगा स्नान गुरू वन्दना गुरू सहाय भटनागर गुरू सहाय भटनागर नहीं रहे गुरू-शिष्य गुरूकुल गुरूदक्षिणा गुरूदेव का ध्यान गुरूद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब गुरूनानक का दरबार गुरूपूर्णिमा गुरूवन्दना गुरूसहाय भटनागर बदनाम गुरूसहाय भटनागार गुर्गे देते बाँग गुलमोहर गुलमोहर का रूप गुलमोहर का रूप सबको भा रहा गुलमोहर खिलने लगा गुलमोहर लुभाता है गुलशन बदल रहा है गुलाब दिवस गुलामी बेहतर थी गुलाल-अबीर गूँगी गुड़िया आज गूँगे और बहरे हैं गूँज रहा उद्घोष गूँज रहे सन्देश गूगल-फेसबुक गेहूँ गेहूँ करते नृत्य गैस सिलेण्डर गैस सिलेण्डर है वरदान गोबर की ही खाद गोबर लिपे हुए घर-आँगन नहीं रहे गोमुख से सागर तक जाती गोरा-चिट्टा कितना अच्छा गोरी का शृंगार गोल-गोल है दुनिया सारी गोवर्धन गोवर्धन पूजा गोवर्धन पूजा करो गोवर्धनपूजा और भइयादूज की शुभकामना गोवर्धनपूजा और भइयादूज की शुभकामनाएँ गोविन्दसिंह कुंजवाल गौमाता भूखी मरे गौमाता से प्रीत गौरय्या गौरय्या का गाँव गौरय्या का नीड़ चील-कौओं ने हथियाया है गौरय्या के गाँव में गौरव और गुमान की गौरव का आभास गौरी और गणेश गौरैया का गाँव में पड़ने लगा अकाल गौरैया ने घर बनाया ग्यारह दोहे ग्राम्यजीवन ग्रीष्म ग्वाले हैं भयभीत घटते जंगल-खेत घटते वन-बढ़ता प्रदूषण घनाक्षरी घनाक्षरी गीत घर की रौनक घर भर का अभिमान बेटियाँ घर में कभी न लायें हम घर में पढ़ो नमाज घर में पानी घर में बहुत अभाव घर सब बनाना जानते हैं घातक मलय समीर घास घिर-घिर बादल आये घिर-घिर बादल आये रे घुटता गला सुवास का घूम रहा है चक्र घोंसला हुआ सुनसान आज तो घोटालों पर घोटाले घोड़ों से भी कीमती घोर संक्रमित काल में मुँह पर ढको नकाब चंचल “रूप” सँवारा चंचल चितवन नैन चंचल सुमन चकरपुर चक्र है आवागमन का चक्र है आवागमन का। चढ़ा केजरी रंग चढ़ा हुआ बुखार है चतुर्दशी का पर्व चदरिया अब तो पुरानी हो गयी चना-परमल चन्दा कितना चमक रहा है चन्दा देता है विश्राम चन्दा मामा-सबका मामा चन्दा से मुझको मोह नहीं चन्दा-सूरज चन्द्र मिशन चन्द्रमा सा रूप मेरा चमकती न बिजली न बरसात होती चमकेगा फिर से गगन-भाल चमचों की महिमा चमत्कार चमन का सिंगार करना चाहिए चमन की तलाश में चमन हुआ गुलजार चम्पावत जिले की सुरम्य वादियाँ चम्पू काव्य चरित्र चरित्र पर बाइस दोहे चरैवेति का मन्त्र चरैवेति की सीख चरैवेति-मेरा एक गीत चलके आती नही चलता खूब प्रपञ्च चलता जाता चक्र निरन्तर चलते बने फकीर चलना कछुआ चाल चलना कभी न वक्र चलना सीधी चाल। चलने से कम दूरी होगी चला दिया है तीर चला है दौर ये कैसा चली झूठ की नाव चली बजट की नाव चले आये भँवरे चले थामने लहरों को चलो दीपक जलाएँ हम चलो भीगें फुहारों में चलो होली खेलेंगे चवन्नी चहक रहे घर द्वार चहक रहे हैं उपवन में चहक रहे हैं रंग चहक रहे हैं वन-उपवन में चहकता-महकता चमन चहका है मधुमास चहके गंगा-घाट चहके प्यारी सोन चिरैया चाँद बने बैठे चेले हैं चाँद-तारों की बात करते हैं चाँद-सूरज चाँदनी का हमें “रूप” छलता रहा चाँदनी रात चाँदनी रात बहुत दूर गई चाँदी की संगत चाचा नेहरू को शत्-शत् नमन चाचा नेहरू तुम्हें नमन चाटुकार सरदार हो गये चापलूस बैंगन चाय चाय हमारे मन को भाई चार कुण्डलियाँ चार चरण-दो पंक्तियाँ चार दोहे चार फुटकर छन्द चारों ओर बसन्त हुआ चारों ओर भरा है पानी चालबाजी चाहत कभी न पूरी होगी चिंकू तो है शाकाहारी चिंकू ने आनन्द मनाया चिट्टाकारी दिवस बनाम ब्लॉगिंग-डे चिट्ठी-पत्री का युग बीता चिड़िया चिड़ियारानी चिड़ियों की कारागार में पड़े हुए हैं बाज चित्रकारिता दिवस चित्रग़ज़ल चित्रपट चित्रावली चित्रोक्ति चिन्तन चिन्तन-मन्थन चीत्कार पसरा है सुर में चीनी लड़ियाँ-झालर अपने चुगलखोर चुनना नहीं आता चुनाव चुनाव लड़ना बस की बात नहीं चुनावी कानून में बदलाव की जरूरत चुम्बन का व्यापार चुम्बन दिवस चुम्बन दिवस की शुभकामनाएँ चुम्बनदिवस चुरा रहे जो भाव चूनरी तो तार-तार हो गई चूहों की सरकार में बिल्ले चौकीदार चेतावनी चेहरा चमक उठा चेहल्लुम का जुलूस चैतन्य की हिन्दी की टेक्सटबुक (अंकुर हिन्दी पाठमाला) चॉकलेट देकर नहीं चॉकलेट देकर नहीं उगता दिल में प्यार चॉकलेट-डे चोदहदोहे चोर पुराण चोरों से कैसे करें अपना यहाँ बचाव चोरों से भरपूर है आभासी संसार चौकस चौकीदार चौदह जनवरी-चौदह दोहे चौदह दिन के ही लिए हिन्दी से है प्यार चौदह दोहे चौदह फरवरी चौदह सितम्बर को समर्पित चौदह दोहे चौदह सितम्बर-चौदह दोहे चौपाई चौपाई के बारे में भी जानिए चौपाई लिखना सीखिए चौपाई लिखिए चौमासा बारिश से होता चौमासे का रूप चौमासे ने अलख जगाई छँट गये बादल हुआ निर्मल गगन छंदहीनता छटा अनोखी अपने नैनीताल की छठ का है त्यौहार छठ पूजा छठ माँ का उद्घोष छठ माँ हरो विकार छठपूजा छठपूजा त्यौहार छन्द और मुक्तक छन्द क्या होता है? छन्द हो गये क्ल्ष्टि छन्दशास्त्र छन्दों का विज्ञान छन्दों के विषय में जानकारी छल-छल करती गंगा छल-छल करती धारा छल-फरेब के गीत छल-बल की पतवार छाई हुई उमंग छाई है बसन्त की लाली छाता छाते छाप रहे अखबार छाया का उपहार छाया चारों ओर उजाला छाया देने वाले छाते छाया बहुत अन्धेरा है छाया भारी शोक छाया है उल्लास छाये हुए हैं ख़यालात में छिन जाते हैं ताज छीनी है हिन्दी की बिन्दी छुक-छुक करती आती रेल छुट्टी दे दो अब श्रीमान छुहारे-किशमिश छूट गया है साथ छोटी-छोटी बात पर छोटे पुत्र विनीत का छोटे पुत्र विनीत का जन्मदिन छोटे पुत्र विनीत का जन्मदिवस छोटों को सम्बल दिया लिया बड़ों से ज्ञान छोड़ विदेशी ढंग छोड़ा पूजा-जाप छोड़ा मधुर तराना जंग ज़िन्दगी की जारी है जंगल का कानून जंगल की चूनर धानी है जंगल के शृंगाल सुनो जंगलों के जानवर जंगी यान रफेल जकड़ा हुआ है आदमी जग उसको पहचान न पाता जग का आचार्य बनाना है जग के झंझावातों में जग के नियम-विधान जग को लुभा गये हैं जग में अन्तरजाल जग में ऊँचा नाम जग में केवल योग जग में माँ का नाम जग में सबसे न्यारा मामा जग है एक मुसाफिरखाना जगत है जीवन-मरण का जगदम्बा माँ आपकी जगमग सजी दिवाली जगह-जगह मतदान जड़े न बदलें पेड़ जन-गण का सन्देश जन-गण रहे पछाड़ जन-जागरण जन-जीवन बेहाल जन-मानस बदहाल जन.2017 में मेरा गीत जनता का जनतन्त्र जनता का तन्त्र कहाँ है जनता का धीरज डोल रहा जनता जपती मन्त्र जनता है कंगाल जनमानस के अन्तस में आशाएँ मुस्काती हैं जनमानस लाचार जनवरी-2017 जनसेवक खाते हैं काजू जनसेवक लाचार जनहित के कानून को जन्म दिन जन्म दिन मेरी श्रीमती जन्म दिवस जन्मदिन जन्मदिन की दे रहे हैं सब बधायी जन्मदिन पर रूप मुझको भा गया है जन्मदिन फिर आज आया जन्मदिन है आज मेरा जन्मदिवस जन्मदिवस की बेला पर जन्मदिवस चाचा नेहरू का जन्मदिवस चाचा नेहरू का भूल न जाना जन्मदिवस पर विशेष जन्मदिवस विशेष जन्मदिवस विशेष) जन्मदिवस है आज जन्मभूमि में राम जन्माष्टमी जन्मे थे धनवन्तरी जब खारे आँसू आते हैं जब पहुँचे मझधार में टूट गयी पतवार जब मन में हो चाह जब-जब मक्कारी फलती है जमा न ज्यादा दाम करें जमाना बहुत बदल गया जय बोलो नन्दलाल की जय माता की कहने वालो जय विजय जय विजय 2019 में मेरी बालकविता जय विजय अगस्त-2019 जय विजय के फरवरी जय विजय जुलाई-2018 जय विजय जून जय विजय पत्रिका में मेरा गीत जय विजय पत्रिका में मेरी बालकविता जय विजय मई जय विजय मासिक पत्रिका के नवम्बर-2016 अंक में मेरी ग़ज़ल जय विजय में मेरी बाल कविता जय विजय-अप्रैलः2020 जय शिक्षा दाता जय सिंह आशावत जय हिन्दी-जय नागरी जय हो देव महेश जय हो देव सुरेश जय-जय गणपतिदेव जय-जय जगन्नाथ भगवान जय-जय जय वरदानी माता जय-जय-जय गणपति महाराजा जय-जवान और जय-किसान जय-विजय जय-विजय अगस्त जय-विजय पत्रिका जय-विजय पत्रिका में मेरा गीत जय-विजय पत्रिका अक्टूबर-2016 में मेरी ग़ज़ल प्रकाशित जयविजय जयविजय नवम्बर 2018 जयविजय मई-15 जयविजय में मेरी ग़ज़ल जयविजय-जून जरी-सूत या जूट के धागे हैं अनमोल जरूरी है जल का स्रोत अपार कहाँ है जल जीवन की आस जल दिवस जल बिना बदरंग कितने जल बिना बेरंग कितने जल रहा च़िराग है जलद जल धाम ले आये जलधारा जलमग्न खटीमा जहरीला पेड़:A Poison Tree जाँच-परख कर मीत जागरण जागा दयानन्द का ज्ञान जागेगा इंसान जाति-धर्म के मन्त्र जातिवाद में बँट गये जादू-टोने जान बिस्मिल हुई जानिए मेरे खटीमा को भी जाने वाला साल जाम जाम ढलने लगे ज़ारत जालजगत जालजगत की शाला है ज़ालिमों से पुकार मत करना जिजीविषा जितना चाहूँ भूलना उतनी आती याद जितने ज्यादा आघात मिले जिनके पास जमीर ज़िन्दगी ज़िन्दग़ी अब नरक बन गयी है ज़िन्दगी इक खूबसूरत ख़्वाब है जिन्दगी का सफर निराला है ज़िन्दग़ी का सहारा ज़िन्दग़ी की सलीबों पे चढ़ता रहा ज़िन्दग़ी के तीन मुक्तक ज़िन्दग़ी के लिए जिन्दगी जिन्दगी पे भारी है ज़िन्दग़ी भर उन्हें आज़माते रहे जिन्दगी भर सलामत रहो साजना ज़िन्दगी भर सलामत रहो साजना ज़िन्दग़ी में न ज़लज़ले होते जिन्दगी में प्यार-Life in a Love ज़िन्दग़ी सस्ती हुई जिन्दगी है बस अधूरी ज़िन्दग़ी जिन्दा उसूल हैं ज़िन्दादिली जिन्दादिली का प्रमाण दो जियो ज़िन्दगी को जिसमें पुत्रों के लिए होते हैं उपवास जी रहा अब भी हमारे गाँव में जीत का आचरण जीते-जी की माया जीना पड़ेगा कोरोना के साथ जीना-मरना सदा से जीने का अंदाज जीने का अन्दाज़ जीने का अन्दाज़ निराला जीने का आधार हो गया जीने का ढंग जीव सभी अल्पज्ञ जीवन जीवन आशातीत हो गया जीवन का गीत जीवन का चक्र जीवन का ताना-बाना जीवन का भावार्थ जीवन का विज्ञान जीवन का संकट गहराया जीवन का है मर्म जीवन किताबी हो गया जीवन की आपाधापी में जीवन की ये नाव जीवन की है भोर तुम्हारे हाथों में जीवन के आधार जीवन के हैं ढंग निराले जीवन को हँसी-खेल समझना न परिन्दों जीवन जटिल जलेबी जैसा जीवन जीना है दूभर जीवन तो बहुत जरा सा है जीवन दर्शन समझाया जीवन पतँग समान जीवन बगिया चहके-महके जीवन में अभिसार जीवन में सन्तुष्ट जीवन में है मित्रता जीवन ललित-ललाम जीवन श्रम के लिए बना है जीवन है बदहाल जीवन है बेहाल जीवनचक्र जीवनयात्रा जीवित देवी-देवता दुनिया में माँ-बाप जीवित रहती घास जीवित हुआ पराग जीवित हुआ बसन्त जुलाईः18 जुल्म के आगे न झुकेंगे जुल्म झोंपड़ी पर ढाया जूझ रहा है देश जूती-टोपी बनी सहेली जूतों की बौछार जून-2109 जेठ लग रहा है चौमासा जैविकपिता जो नंगापन ढके बदन का हमको वो परिधान चाहिए जोकर जोकर खूब हँसाये जोकर-बौने ज्ञान का तुम ही भण्डार हो ज्ञान का प्रसाद लो ज्ञान की अमावस ज्ञान न कोई दान ज्ञान हुआ विकलांग ज्ञानी भी मूरख बनें ज्यादा दाद मिला करती है ज्यादा दोहाखोर ज्यादातर तो कट गयी ज्येष्ठ पुत्र का जन्मदिन ज्येष्ठ पुत्र नितिन का जन्मदिन ज्येष्ठ पूर्णिमा झंझावात बहुत गहरे हैं झंझावातों में झटका और हलाल झण्डे रहे सँभाल झनकइया मेला गंगास्नान झनकइया-खटीमा झरता हुआ प्रपात झरने करते शोर झाँसी की महारानी लक्ष्मीबाई की 160वीं पुण्यतिथि पर विशेष झाँसी की रानी झाड़ुएँ सवाँर लो झालर-बन्दनवार झुक गयी है कमर झुकेगी कमर धीरे-धीरे झूठ की तकरीर बच गयी झूठ जायेगा हार झूमर से लहराते हैं झूमर से सोने के गहने झूल रही हैं ममता-माया झूला झूले कैसे पड़ें बाग में? झेल रहा है देश झेलना जरूरी है टाबर टोली टिप्पणियाँ टिप्पणी और पसन्द टिप्पणी पोस्ट टुकड़ा-एमी लोवेल टूटी-फूटी रोमन-हिन्दी टॉम-फिरंगी टॉम-फिरंगी प्यारे-प्यारे टोपी टोपी हिन्दुस्तान की टोपी है बलिदान की ठलवे-जलवे ठहर गया जन-जीवन ठिठुर रहा है गात ठिठुर रही है सबकी काया ठिठुरा बदन है ठिठुरा सकल समाज ठेंगा न सूरज को दिखाना चाहिए ठेले पर बिकते हैं बेर ठोकरें खाकर सँभलना सीखिए डमरू का अब नाद सुनाओ डरता हूँ डरा और धमका रहा कोतवाल को चोर डरा रहा देश को है करोना डूबे गोताखोर डॉ. गं