"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

गुरुवार, 9 दिसंबर 2010

"गिलहरी" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


"गिलहरी"
बैठ मजे से मेरी छत पर,
दाना-दुनका खाती हो!
उछल-कूद करती रहती हो,
सबके मन को भाती हो!!
तुमको पास बुलाने को,
मैं मूँगफली दिखलाता हूँ,
कट्टो-कट्टो कहकर तुमको,
जब आवाज लगाता हूँ,
कुट-कुट करती हुई तभी तुम,
जल्दी से आ जाती हो!
उछल-कूद करती रहती हो,
सबके मन को भाती हो!!
नाम गिलहरी, बहुत छरहरी,
आँखों में चंचलता है,
अंग मर्मरी, रंग सुनहरी,
मन में भरी चपलता है,
हाथों में सामग्री लेकर,
बड़े चाव से खाती हो!
उछल-कूद करती रहती हो,
सबके मन को भाती हो!!
पेड़ों की कोटर में बैठी
धूप गुनगुनी सेंक रही हो,
कुछ अपनी ही धुन में ऐंठी
टुकर-टुकरकर देख रही हो,
भागो-दौड़ो आलस छोड़ो,
सीख हमें सिखलाती हो!
उछल-कूद करती रहती हो,
सबके मन को भाती हो!!
(चित्र गूगल छवि से साभार)

26 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी कविता , बच्चों के पाठ्य क्रम में शामिल होने की कूव्वत रखती है। बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  2. bबहुत सुन्दर आपकी कवितायेंउच्च कोटी की होती हैं। बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. सुंदरा कविता और उतनी ही प्यारी गिलहरी
    regards

    जवाब देंहटाएं
  4. चौथेपन में बचपन की यादें साझा कर के शास्त्री जी आने उस कहावत को फिर से सत्यापित कर दिया है:- उमर पचपन की - दिल बचपन की| सादर अभिनंदन|
    http://thalebaithe.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह वाह बहुत ही सुन्दर बाल कविता लिखी है …………जीवन्त कर दिया है गिलहरी को कविता मे।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर, सरल, प्यारा बालगीत।

    जवाब देंहटाएं
  7. आपके बाल काव्य-संग्रह में एक और सितारा है यह रचना शास्त्री जी !

    जवाब देंहटाएं
  8. अति सुंदर गीत, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  9. सबके मन को भाती गिलहरी...बहुत सुन्दर और सरल बालगीत प्यारा..बहुत - बहुत बधाई....

    जवाब देंहटाएं
  10. इतनी प्रवाहपूर्ण कविता पढकर मन ऐसा झूम रहा है कि ... क्या कहूं इसे बार-बार गाए जा रहा हूं। और जो तस्वीरे आपने लगाई है, वह तो फोटोग्राफी का अद्भुत नमूना है। गिलहरी को आपने एक अलग महत्व प्रदान किया है। अब तोइन महानगरों बेचारी दिखती ही नहीं।

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत मन प्रफुल्लित करने वाली प्रस्तुति..आभार

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर ओर प्यारी कविता, हम ने तो दो बार पढी.धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  13. बच्चों को क्या बड़ों को भी भा गयी ये गिलहरी कविता !

    जवाब देंहटाएं

  14. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    जवाब देंहटाएं
  15. Nice information about how astrology is important in our life to know.

    if anyone is looking for more astrological services

    Pandit Vivek Ji is the Best Indian Astrologer in Melbourne, Australia. He has become a world-renowned figure by offering the best solution and services to heal every sort of human issue. Everyone facing problems in Personal and Professional life, but they might be thinking that it is very difficult to get out a solution for those problems. Our Indian Astrologer Vivek Ji has years of experience in astrology services in Melbourne. He will give 100% Results for your life problems and you will get rid of all your life problems.


    Famous Astrologer in Melbourne

    जवाब देंहटाएं
  16. Thanks for sharing your information...It's very useful for many users...I will be waiting for your next post.

    Pandit ji is a well-known Top Indian astrologer in Australia who has been helping the customers through his vast knowledge of astrology for the last 30 years. He belongs to a family of renowned spiritual Guru. This world-best and Top Indian astrologer guides people and provides them proper assistance that can add meaning to their lives. He has vast experience in astrology, psychic reading, black magic removal, get your ex-lover back and vashikaran can predict your future with remarkable accuracy.

    Top Indian Astrologer in Australia

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails