"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

रविवार, 3 अक्तूबर 2010

“आज आकाश तारों भरा-डॉ.चन्द्र शेखर जोशी” (प्रस्तोता-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

csjoshi डॉ. चन्द्र शेखर जोशी
M.B.B.S., M.D.
आप खटीमा नगर में
अपनी स्वर्गीया माता जी के नाम से
एक विशाल चिकित्सा संस्थान 
“जमुना मेमोरियल अस्पताल”
चला रहे हैं।
(आप खटीमा (उत्तराखण्ड) की
वह छिपी हुई जाज्वल्यमान साहित्यिक प्रतिभा हैं।
जिनकी ख्याति अब तक 
केवल उनकी डायरी तक ही रही है!
      आज मैं उनकी इस रचना से 
आपका परिचय
जाल-जगत को करा रहा हूँ।)
आज आकाश तारों भरा
आज आकाश तारों भरा।
मौन होकर निहारे धरा।।

असंख्य अलौकिक दीप आतुर,
दमकने दो ज्योति जरा।
मौन होकर निहारे धरा।।

एकाकी सप्तर्षि ने मुस्करा कर,
आज किसका मन हरा।
मौन होकर निहारे धरा।।

छितरी-बिखरी सी आकाश गंगा,
फैलाए आँचल जुगनुओं भरा।
मौन होकर निहारे धरा।।

बृहद्-विशाल, यह मायाज़ाल,
मन है हर्षित, कदाचित् डरा।
मौन होकर निहारे धरा।।

मृत्यु रचती सदा जिन्दगी,
है नमन मात्र आदर भरा।
मौन होकर निहारे धरा।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. डाक्टर साहेब की साहित्य प्रतिभा को नमन सुंदर रचना बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. आपका आभार ...डॉक्टर जोशी का स्वागत ...पसंद आई कविता ....

    जवाब देंहटाएं
  3. काव्य लगा हमें बहुत भला,
    और तनिक तनिक, मन को खला,
    की ऐसा चिंतन, सौम्य, निर्मला,
    कैसे करे कोई भला ?

    जोशी जी को बहुत बहुत साधुवाद ....

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर कविता जी धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  5. डाक्टर साहब की इस कविता को पढवाने के लिये आपका बहुत आभार.

    रामराम

    जवाब देंहटाएं
  6. "मृत्यु रचती सदा जिन्दगी "
    जैसी पंक्ति चन्द्रशेखर जोशी जैसा चिकित्सक कवि ही लिख सकता है । बधाई जोशी जी को ।

    जवाब देंहटाएं
  7. अभिनव रचना ..............

    बहुत सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  8. तारों भरा आकाश किसे नहीं अच्छा लगता? जोशी जी की इस सुंदर रचना को पढवाने का आभार।
    ................
    …ब्लॉग चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।

    जवाब देंहटाएं
  9. सुन्दर रचना पढवाने के लिए आभार ...

    डा० चन्द्र शेखर जी को बधाई

    जवाब देंहटाएं
  10. * डा० चंद्रशेखर जोशी की कविता निश्चित रूप से एक अच्छी कविता है। इस संभावनाशील कवि के कर्म और मर्म से परिचित होना सुखद है। डाक्साब की कुछ और कवितायें पढ़ा सकते हैं क्या?

    * बढ़िया पोस्टा!

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर लिखा है .डॉ. जोशी की रचना पढवाने का आभार.

    जवाब देंहटाएं
  12. very nice poem, I like it very much;hope I will get more poems like this from Sir.

    Robin Tiwari
    Sahara City Homes - Ahmedabad

    जवाब देंहटाएं
  13. bahut sundar rachna.............
    kabhi meri bhi rachna ko apne blog mi jagah dijiye.
    pls pls pls pls

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails