"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

समर्थक

शनिवार, 29 फ़रवरी 2020

दोहे "आया फागुन मास" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

0-0
गूँगी गुड़िया बोलती, अब बातें बेबाक।
चमत्कार को देखकर, दुनिया है आवाक।।
0-0
गया महीना माघ का, आया फागुन मास।
लोगों को होने लगा, गरमी का आभास।।
0-0
दस्तक देता द्वार पर, होली का त्यौहार।
धूल भरी चलने लगी, चारों ओर बयार।।
0-0
आया समय बसन्त का, खिलने लगा पलाश।
देख विफलताएँ कभी, होना नहीं निराश।।
0-0
हटा दीजिए चमन से, खर पतवार समूल।
आँचल में रखना सदा, रंग-बिरंगे फूल।।
0-0
जो प्रतिदिन रचना करे, कहते उसे कवीन्द्र।
जग को दे जो रौशनी, होता वही रवीन्द्र।।
0-0
महका उपवन देखकर, होता है दिलबाग।
वासन्ती परिवेश में, उमड़ रहा अनुराग।।
0-0 

3 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा रविवार(०१ -0३-२०२०) को 'अधूरे सपनों की कसक' (चर्चाअंक -३६२७) पर भी होगी
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का
    महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    **
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  2. इस बार होली-मिलन की अहमियत पहले से लाख गुनी बढ़ गयी है. हम सबको आज पुराने गिले-शिकवे भुला कर गले आपस में मिलने की बहुत-बहुत ज़रुरत है.
    होली की मस्त बयार हम से कह रही है कि -
    हम सब प्यार की होली खेलें और खून की होली खेलने से हमेशा-हमेशा के लिए तौबा कर लें.

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह लाजवाब शानदार सर आपने होली की मन भावन चित्ररत के साथ साथ मंच के सभी चर्चाकारों को सुंदर कलम बद्ध दोहों में बांध दिया ।
    बहुत सुंदर सृजन।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails