"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शनिवार, 3 अक्तूबर 2009

"लाल हमारा, ताशकन्द ने छीना" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



दो अक्टूबर के दिन जन्मा भारत भाग्य विधाता।
इसी दिवस से पण्डित लालबहादुर का है नाता।।


धन्य हो गई भारत की धरती इन वीर सपूतों से।
मस्तक ऊँचा हुआ देश का अमन-शान्ति के दूतों से।।


दो अक्टूबर के दिन उपवन जी भर करके मुस्काया।
गांधी जी के बाद बहादुर लाल चमन में आया।।


जय-जवान और जय किसान का नारा लगा दिया था।
दुष्ट पाक की सेना को सीमा से भगा दिया था।।


कारयरता का समझौता तुमको था रास न आया।
ये गहरा आघात हृदय को सहन नही हो पाया।।


सीखा नही कभी था तुमने, घुट-घुट करके जीना।
सबसे प्यारा लाल हमारा, ताशकन्द ने छीना।। 

17 टिप्‍पणियां:

  1. बिलकुल सही किया पाने शास्त्री जी, अक्सर हम लोग इस महानेता को भूल जाते है ! मेरी तरफ से भी इस युग नेता को श्रधांजलि

    जवाब देंहटाएं
  2. शास्त्री जी आपने अछा किया अपने लाल जी को याद करके

    जवाब देंहटाएं
  3. जय-जवान और जय किसान का नारा लगा दिया था।
    दुष्ट पाक की सेना को सीमा से भगा दिया था।।


    कारयरता का समझौता तुमको था रास न आया।
    ये गहरा आघात हृदय को सहन नही हो पाया।।


    सीखा नही कभी था तुमने, घुट-घुट करके जीना।
    सबसे प्यारा लाल हमारा, ताशकन्द ने छीना।।




    दो अक्टूबर के दिन शास्त्री जी की भी जयंती होती है,कितने जानते है ??

    भारत माता के सच्चे 'लाल', लाल बहादुर शास्त्री जी को मेरा शत शत नमन !

    जवाब देंहटाएं
  4. लाल बहादुर शास्त्री जी को हमारी तरफ़ से श्रधांजलि, ऎसा नेता इस काग्रेस मै ना हुआ है ना होगा.बस एक लाल ही हुआ है उसे हम नमन करते है

    जवाब देंहटाएं
  5. बिल्कुल सही कहा आपने ताशकंद ने छीन लिया हमारे देश के इस महापुरुष को..
    नमन करता हूँ ऐसे महापुरुष और परम देशभक्त को..
    बहुत बढ़िया कविता..बधाई!!!

    जवाब देंहटाएं
  6. isse behtar shraddhanjai ho hi nahi sakti.............aapne aaj shastri ji ko yaad karakar sachchi deshbhakti ka parichay diya hai.........hamara naman hai bharat maa ke aise laal ko aur aapki lekhni ko bhi naman.

    जवाब देंहटाएं
  7. इस महान नेता, महा मानव को मेरी भी श्रद्धान्जलि.

    जवाब देंहटाएं
  8. शाश्त्रीजी को तो लगभग भुला ही दिया है,हमने...आपके प्रयास के लिए मैं आपकी आभारी हूँ...

    बहुत ही सुन्दर रचना....

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर पोस्ट शास्त्री जी को नमन श्रद्धाँजली। जै जवान जै किसान

    जवाब देंहटाएं
  10. उन की शहादत के कारण ही आज हम स्वतंत्र है...!लेकिन हम आज भी उनकी मौत के रहस्य को सुलझा नहीं पाए.....

    जवाब देंहटाएं
  11. सीखा नही कभी था तुमने, घुट-घुट करके जीना।
    सबसे प्यारा लाल हमारा, ताशकन्द ने छीना।।

    बहुत बढ़िया कविता..बधाई!!!

    जवाब देंहटाएं
  12. भारत के सच्चे 'लाल', लाल बहादुर शास्त्री जी को मेरा शत शत नमन ...... SUNDAR RACHNA HAI AAPKI........

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत बढ़िया कविता लिखा है आपने! शास्त्रीजी को मेरा शत शत नमन!

    जवाब देंहटाएं
  14. लाल बहादुर शास्त्री जी को हमारी तरफ़ से नमन श्रधांजलि। बहुत अच्छा कविता है।

    जवाब देंहटाएं
  15. कहाँ मिलेगा "लाल बहादुर" सा देशभक्त प्यारा ..
    उन्हें मृत्यु ने हमें मृत्यु के समाचार ने मारा ..

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails