"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शनिवार, 12 नवंबर 2011

"बालदिवस के अवसर पर- दोनों पुस्तकों का विमोचन" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

मित्रों!
मेरी हाल ही में प्रकाशित दोनों पुस्तकों
"हँसता गाता बचपन"
(बाल कविता संग्रह)
और
"धरा के रंग"
(कविता संग्रह)
का विमोचन बालदिवस के अवसर पर बाल मेले में
14 नवम्बर, 2011 को अपराह्न 2 बजे
रंगारंग कार्यक्रमों के मध्य किया जाएगा।
इस अवसर पर आप सादर आमन्त्रित हैं!

सबसे पहले "हँसता गाता बचपन"
बाल कविता संग्रह से एक बाल कविता देखिए!


चंचल-चंचल, मन के सच्चे।
सबको अच्छे लगते बच्चे।।

कितने प्यारे रंग रंगीले।
उपवन के हैं सुमन सजीले।।

भोलेपन से भरमाते हैं।
ये खुलकर हँसते-गाते हैं।।

भेद-भाव को नहीं मानते।
बैर-भाव को नहीं ठानते।।

काँटों को भी मीत बनाते।
नहीं मैल मन में हैं लाते।।


जीने का ये मर्म बताते।
प्रेम-प्रीत का कर्म सिखाते।।

अब आप "धरा के रंग"
कविता संग्रह से एक रचना देखिए!

कंकड़ को भगवान मान लूँ,
पा जाऊँ यदि प्यार तुम्हारा!
काँटों को वरदान मान लूँ,
पा जाऊँ यदि प्यार तुम्हारा!

दुर्गम पथ बन जाये सरल सा,
अमृत घट बन जाए गरल का,
पीड़ा को मैं प्राण मान लूँ.
पा जाऊँ यदि प्यार तुम्हारा!

बेगानों से प्रीत लगा लूँ,
अनजानों को मीत बना लूँ,
आशा को अनुदान मान लूँ,
पा जाऊँ यदि प्यार तुम्हारा!

रीते जग में मन भरमाया,
जीते जी माया ही माया,
साधन को संधान मान लूँ,
पा जाऊँ यदि प्यार तुम्हारा!

23 टिप्‍पणियां:

  1. शुभकामनाओं के साथ ढेरों बधाइयाँ

    Gyan Darpan
    .

    जवाब देंहटाएं
  2. हमारी ओर से भी शुभकामनायें स्वीकार करें

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत बधाई और शुभकामनायें !

    जवाब देंहटाएं
  4. आदरणीय श्री नमस्कार
    आपकी तेजस्वी कलम से निकली दो पुस्तके बालदिवस 14 नवम्बर के अवसर पर हमारे सामने होगी यह जानकर अत्यन्त हर्ष का अनुभव हुआ , बधाई स्वीकार करें , हार्दिक शुभकामनाएँ ।
    वन्दे मातरम्

    जवाब देंहटाएं
  5. दोनों कवितायेँ सुन्दर और मनोहर हैं .बाइनरी पुस्तक विमोचन पर बधाई .

    जवाब देंहटाएं
  6. शुभकामनाओं के साथ ढेरों बधाइयाँ

    जवाब देंहटाएं
  7. अरे वाह !!!!!!! हार्दिक शुभकामनाये और बधाइयाँ आप इसी प्रकार नये नये संग्रह निकलवाते रहें।

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी प्रस्तुति

    सोमवारीय चर्चा-मंच पर

    charchamanch.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  9. मेरी बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ...

    जवाब देंहटाएं
  10. इन पुस्तकों के विमोचन समारोह में मेरी हाज़िरी भी लगा लीजिएगा शास्त्रीजी
    बहुत बहुत बधाइयाँ

    जवाब देंहटाएं
  11. शास्त्री जी बहुत सुंदर कविता...बधाई..
    मेरे नई पोस्ट-प्यारे बच्चों-मे आपका स्वागत है

    जवाब देंहटाएं
  12. निगम परिवार की ओर से हार्दिक शुभ-कामनायें.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails